CORONA BREAKING: छत्तीसगढ़ में 1103 नए कोरोना मरीज, 8 की हुई मौत, इन 6 जिलों में मिले सार्वधिक मरीज….

रायपुर। छत्तीसगढ़ में लगातार कोरोना का कहर जारी है. सोमवार को कोरोना के 1103 नए मरीज सामने आए है, जबकि 8 लोगों की कोरोना से मौत हुई है. राहत की बात यह है कि इस बीमारी से 686 लोग ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किए गए हैं.

आज मिले नए 1103 कोरोना पॉजिटिव मरीजों में से रायपुर से 251, राजनांदगांव से 135, दुर्ग से 128, जांजगीर-चांपा से 100, बिलासपुर से 99, रायगढ़ से 75, बस्तर से 51, धमतरी से 31, बलौदाबाजार से 30, बालोद से 26, महासमुंद से 25, नारायणपुर से 24, सुकमा से 20, मुंगेली व सरगुजा से 19-19, दंतेवाड़ा से 12, जशपुर से 11, बलरामपुर व बीजापुर से 10-10, कोण्डागांव से 08, कबीरधाम से 07, सूरजपुर व कांकेर से 04-04, बेमेतरा से 03, कोरबा से 01 मरीज शामिल है. सभी पॉजिटिव मरीजों को अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करने की प्रक्रिया जारी है.
प्रदेश में अब तक 31 हजार 195 कोरोना के मरीज सामने आ चुके है. जिसमें से 16 हजार 989 मरीज ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किए गए है. जबकि 13 हजार 929 मरीज सक्रिय हैं. वहीं अब तक प्रदेश में 277 लोगों की कोरोना से मौत हुई है.

देखिए जिलेवार आंकड़ा


8 लोगों ने इलाज के दौरान दोड़ा दम

जनपद पंचायत बिल्हा के इंजीनियर रोहित साहू के खिलाफ ग्रामीणों नें राशि गबन, धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार की लिखित शिकायत दर्ज, जपं सीईओ नें दिए जांच के आदेश….

संजय मिश्रा,बिलासपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश के न्यायधानी बिलासपुर जिला अंतर्गत जनपद पंचायत बिल्हा के इंजीनियर रोहित साहू के द्वारा ग्राम पंचायत देवकिरारी में विगत कई महीनों से खुलेआम प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत जनता के पैसों का गबन, धोखाधड़ी एवं भ्रष्टाचार को अनवरत अंजाम दिया जा रहा है, जिसकी लिखित शिकायत ग्राम पंचायत देवकिरारी के ग्रामीणों नें जनपद पंचायत बिल्हा के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को देकर उक्त प्रकरण पर त्वरित कार्रवाई की मांग किए है,

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत देवकिरारी में प्रधानमंत्री आवास योजना के गरीब मजदूर पात्र हितग्राहियों से इंजीनियर रोहित साहू एन.ओ.सी. पर दस्तखत करनें के एवज में हजारों रूपयों की लगातार कमीशन खोरी कर खुलेआम भ्रष्टाचार को
बेखौफ अंजाम दे रहे हैं, तथा कई हितग्राहियों का पूरा का पूरा किश्त ही गटक जा रहे हैं,

उपरोक्त प्रकरण पर जब इंजीनियर रोहित साहू से संपर्क करनें का प्रयास किया गया तो वह प्रयास असफल रहा।

बी.आर.वर्मा
मुख्य कार्यपालन अधिकारी
जनपद पंचायत बिल्हा
इंजीनियर रोहित साहू के खिलाफ ग्राम पंचायत देवकिरारी के कुछ ग्रामीणों नें लिखित शिकायत दर्ज कराए हैं, जिस पर हमनें जांच के आदेश दे दिए हैं।

इस खबर के प्रसारण उपरांत अब देखनें वाली बात यह होगी कि उपरोक्त प्रकरण पर जिम्मेदार अधिकारी अपनें कर्तव्यों का सहीं रूप से निर्वहन करते हुए गरीब मजदूर ग्रामीणों को न्याय दिलाते हैं या फिर वे भी इस वृहद भ्रष्टाचार के सहयोगी बन जाएंगे।

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का निधन, प्रधानमंत्री समेत इन दिग्गज नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

नई दिल्ली। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी नहीं रहे। आज उनका निधन हो गया। कई दिनों से पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी गहन कोमा में थे। 84 वर्षीय मुखर्जी को वेंटिलेटर पर रखा गया था और फेफड़े में संक्रमण का इलाज किया जा रहा था। मुखर्जी के निधन की जानकारी उनके बेटे अभिजीती मुखर्जी ने ट्वीट कर दी है। प्रणब मुखर्जी के निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और पीएम मोदी ने गहर दुख जताया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर कहा कि प्रणब मुखर्जी के स्वर्गवास के बारे में सुनकर हृदय को आघात पहुंचा है। उनका देहावसान एक युग की समाप्ति है। प्रणब मुखर्जी के परिवार, मित्र-जनों और सभी देशवासियों के प्रति मैं गहन शोक-संवेदना व्यक्त करता हूँ।

पीएम मोदी ने भारत रत्न प्रणब मुखर्जी के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए ट्वीट कर कहा कि उन्होंने हमारे राष्ट्र के विकास पथ पर एक अमिट छाप छोड़ी है। एक विद्वान सम उत्कृष्टता, एक राजनीतिज्ञ, और समाज के सभी वर्गों द्वारा प्रशंसित था।
मालूम हो कि मस्तिष्क में खून का थक्का बन जाने के कारण उन्हें 10 अगस्त को दोपहर 12.07 बजे गंभीर स्थिति में अस्पताल में भर्ती किया गया था। सर्जरी से पहले उनकी कोरोना जांच भी कराई गई थी, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसके बाद डॉक्टरों ने उनके मस्तिष्क से खून के थक्के को हटाने के लिए सर्जरी की थी। फिर भी उनके स्वास्थ्य में सुधार नहीं हुआ।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रणब मुखर्जी के निधन पर दुख जताते हुए कहा कि मैं पूरे देश के साथ शामिल होकर उन्हें श्रद्धांजलि देता हूं। इस दुख की घड़ी में उनके परिवार और चाहने वालों के प्रति मेरी गहरी संवेदना है।

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन की जानकारी देते हुए बेटे अभिजीत मुखर्जी ने ट्वीट करके लिखा कि भारी मन के साथ, आपको यह सूचित करना है कि मेरे पिता श्री प्रणव मुखर्जी का अभी आरआर अस्पताल के डॉक्टरों के सर्वोत्तम प्रयासों और पूरे भारत में लोगों से मिली दुआओं और प्रार्थनाओं के बावजूद निधन हो गया है।

गृह मंत्री अमित शाह अस्पताल से हुए डिस्चार्ज, प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने दी बधाई, ट्वीट कर कही ये बात…

रायपुर। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को स्वस्थ होने के बाद आज एम्स से डिस्चार्ज कर दिया गया है। अमित शाह के स्वस्थ होने पर छत्तीसगढ़ के प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने उनके अच्छे स्वास्थ्य की कामना की है और बधाई दी है।

प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने ट्वीट कर लिखा है कि माननीय गृह मंत्री अमित शाहजी को पूर्णतया स्वस्थ होकर घर वापसी के लिए अनंत बधाई। अस्पताल में रहकर भी आपने अपने दायित्वों का जिस प्रकार निर्वहन किया वह हम सभी के लिए अनुकरणीय है। आपके नेतृत्व में देश प्रगतिपथ पर अग्रसर रहे, ईश्वर से यही कामना है।

गौरतललब है कि कोरोना से ठीक होने के बाद उनकी तबीयत और बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्हें स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं की वजह से 18 अगस्त को दिल्ली एम्स में भर्ती कराया गया था। इससे पहले वो गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती थे। फिलहाल अब केंद्रीय गृह मंत्री ठीक हो गए हैं।

बारिश ने खोली पोल ! गड्ढों से हादसे होने का खतरा… जानिए क्या है मामला ?

रायपुर। पिछले दिनों हुई भारी बारिश के बाद कई तरह की समस्या सामने आ रही है जिसका खामियाजा इन दिनों शहर की जनता को भुगतना पड़ रहा है। हाल ये है कि मुख्य मार्ग को छोड़कर शहर की अन्य सड़को की हालत जर्जर है। रायपुर जिले के कई क्षेत्रों में सड़कों की हालत खराब हो गई है। कहीं सड़क गड्ढों से पटी है तो कहीं कीचड़ में निकलना दुश्वार हो रहा है। कहीं सड़क ऐसी बना दी गई कि सड़क किनारे पानी भरने लगा है। गड्ढों और कीचड़ के कारण आए दिन हादसे का खतरा भी बना हुआ है। ऐसे में लोग परेशान हैं, लेकिन जिम्मेदार उनकी समस्या दूर करने की कोई पहल नहीं कर रहे।
दरअसल, राजधानी के मुख्य मार्ग में से एक पुराना धमतरी रोड से लगे सड़कों की हालत बेहद खराब है, बारिश के चलते मार्ग की हालत खराब हो गई है। वहीं बोरियाखुर्द से लेकर कांदुल मार्ग पर जगह-जगह बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं जिसमें पानी भर गया है। सड़क का डामर भी उखड़ चुका है। ऐसे में लोगों को आवागमन में काफी परेशानियां आ रही है। गड्ढों के कारण आए दिन हादसे का डर भी बना हुआ है।

राहगीरों ने बताया कि पुराना धमतरी रोड से लगे से बोरियाखुर्द लेकर ग्राम कांदुल मार्ग तक सड़क की हालत खराब है, और लगतार यह बढ़ता जा रहा है। शहर से लगे से मुख्य मार्ग में स्ट्रीट लाइट न होने से राहगीरों को शाम होते ही कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जिसके चलते आने-जाने में परेशानियां हो रही है बल्कि दुर्घटना का भी डर बना हुआ है। ऐसे में जनप्रतिनिधियों को इस समस्या से निजात दिलाने जल्द कुछ करना चाहिए। ताकि जिम्मेदारी विभाग और प्रशासन तक बात पहुंचे और सड़कों की मरम्मत कार्य हो सकें।

युवा कांग्रेस कवर्धा जिला की कार्यकारिणी बैठक में शामिल हुए युवा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष “कोको पड़ी” एवं प्रभारी “एकता ठाकुर” और “केके” शास्त्री…

प्रदेश युवा कांग्रेस के संगठन को मजबूती देने एवं कार्यकर्ताओं के बीच ऊर्जा एवं संचार बनाए रखने के लिए प्रदेश अध्यक्ष पूर्णचंद्र कोको पाढ़ी अपना द्वारा जारी रखते हुए रविवार 30 अगस्त को कवर्धा जिला की कार्यकारिणी बैठक में पहुंचे राष्ट्रीय सचिव एकता ठाकुर के छत्तीसगढ़ प्रथम आगमन पर जिला पंचायत सदस्य एवं प्रदेश सचिव तुकाराम चंद्रवंशी ने अपने साथियों के साथ जोरदार स्वागत किया

बैठक को संबोधित करते हुए कोको पार्टी जी ने कार्यकर्ताओं को कांग्रेस प्रदेश सरकार की जनहितकारी नीतियों को घर घर पहुंचाने का संदेश दिया वही एकता ठाकुर जी ने केंद्र सरकार को हर महीने में विफल बताया एवं देश में कोरोना संक्रमण पढ़ने के लिए जिम्मेदार ठहराया सोशल मीडिया प्रभारी राष्ट्रीय समन्वयक केके शास्त्री ने कोरोना काल में राजनीति के लिए सोशल मीडिया के महत्व को समझाया जिला पंचायत सदस्य तुकाराम चंद्रवंशी ने छात्र-छात्राओं की आवाज उठाते हुए बढ़ते संक्रमण के बीच एग्जाम करवाने के निर्णय को अमानवीय बताया|

बैठक के दौरान कार्यकर्ताओं ने प्रदेश अध्यक्ष एवं प्रभारियों के समक्ष अपनी समस्या एवं सुझाव को रखा साथ ही प्रदेश में युवा कांग्रेस के संगठन को मजबूत करने का प्रण लिया| उक्त कार्यक्रम में प्रमुखरूप से मौजूद रहे जिला कांग्रेस अध्यक्ष नीलकंठ चंद्रवंशी, सोशल मीडिया चेयरमेन अनूप वर्मा,विवेक अग्रवाल,प्रदेश सचिव स्वपनिल मिश्रा कवर्धा प्रभारी तथागत पांडेय,प्रदेश सहसचिव जितेंद्र सिंहा, प्रशांत बोकड़े, बिलाल खान,जिलाध्यक्ष आकाश केशरवानी कार्यकारी जिलाध्यक्ष मोहित माहेश्वरी,जिला महासचिव नरेंद्र चंद्रवंशी, मनीष शर्मा,आशीष चंद्रवंशी, अरमान खान,अनिमेष गुप्ता, अरविंद चन्द्रवंशी, नीरज सलूजा,आशीष दास गुप्ता ब्लॉक अध्यक्ष मनोज वर्मा,रामचरण पटेल,अरुण जोशी, अजित साहू,जनाब खान,जावेद खान,सही सभी जिला,विधानसभा व ब्लॉक के पदाधिकारीगण व युवा कांग्रेस कार्यकर्ता उपस्थित थे ।

यहां 12 साल से रोजाना एक शख्स से मिलने तय समय पर पहुंचते हैं दर्जनों बंदर, जानिए क्यों?

मेरठ। उत्तर प्रदेश के मेरठ में हस्तिनापुर के रहने वाले संजय को अऩोखा जुनून है. संजय चौकीदारी का काम करते हैं लेकिन हस्तिनापुर में घूमने वाले बंदरों के लिए वो किसी मसीहा से कम नहीं हैं. दरअसल संजय रोज़ाना तय समय पर अपने दोस्त बंदरों को भोजन कराने के लिए पहुंचते हैं. बंदरों को भी मालूम है कि उनके दोस्त संजय कितने बजे पहुंचेंगे?

संजय के पहुंचने के पहले बंदर पहुंच जाते हैं.

संजय के इंतजार में शांत बैठे रहते हैं बंदर

चौंकाने वाली बात ये है कि ये बंदर इस तरह दूर-दूर बैठते हैं, देखकर ऐसा लगता है कि जैसे ये सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हों. न कोई उत्पात, न धमाचौकड़ी. इसके बाद संजय आते हैं और एक-एक करके सभी बंदरों को रोटी खिलाते हैं. बंदर बिना कोई हरकत किए चुपचाप बैठकर इत्मिनान से भोजन करते हैं. ये तस्वीरें हस्तिनापुर में उल्टाखेड़ा के पास सुबह 10 बजे, दोपहर करीब 1 बजे, शाम करीब 5 से 6 बजे देखने को मिल जाती हैं. संजय तीनों टाइम यहां बंदरों को पेट भरने पहुंचते हैं.

रोज एक ही जगह बंदर संजय का इंतजार करते हैं.
संजय का कहना है कि वो चौकीदारी करते हैं. उन्हें जैन मंदिर के पुजारी की तरफ से भी बंदरों को भोजन कराने के लिए मदद मिलती है. पिछले 12 साल से कोई दिन ऐसा नहीं बीता, जब वो बंदरों को भोजन कराने के लिए तय समय पर न पहुंचते हों. जानवरों के प्रति इस लगाव को देखकर यहां के स्थानीय निवासी आश्चर्यचकित हैं. हस्तिनापुर के लोग संजय को बंदरों का दीवाना कहते हैं लेकिन संजय को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता. वो रोज़ाना उसी जोश के साथ अपना कार्य करते हैं और फिर बंदरों की सेवा करते हैं.

12 साल से रोज जारी है सिलसिला
संजय का कहना है कि वो चौकीदारी करते हैं. उन्हें जैन मंदिर के पुजारी की तरफ से भी बंदरों को भोजन कराने के लिए मदद मिलती है. पिछले 12 साल से कोई दिन ऐसा नहीं बीता, जब वो बंदरों को भोजन कराने के लिए तय समय पर न पहुंचते हों. जानवरों के प्रति इस लगाव को देखकर यहां के स्थानीय निवासी आश्चर्यचकित हैं. हस्तिनापुर के लोग संजय को बंदरों का दीवाना कहते हैं लेकिन संजय को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता. वो रोज़ाना उसी जोश के साथ अपना कार्य करते हैं और फिर बंदरों की सेवा करते हैं.

CBI ने पकड़ा रिया का झूठ! तुरंत बुलानी पड़ी मुंबई पुलिस…

मुंबई। सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में मुख्य आरोपी बताई जा रही रिया चक्रवर्ती से सीबीआई लगातार पूछताछ कर रही है। आज तीसरे दिन सीबीआई ने रिया से करीब 9 घंटे पूछताछ की। उनसे कई सवाल किये गए, जिसपर रिया झुल्ला गयी। सूत्रों के मुताबिक, रिया को सीबीआई के सवालों पर इतना गुस्सा आया कि जिस बंद कमरे में उनसे पूछताछ हो रही थी, उन्होंने उसकी खिड़की का शीशा तोड़ दिया। वहीं सूत्रों के मुताबिक ये भी कहा जा रहा है कि रिया को काबू में करने के लिए सीबीआई ने मुंबई पुलिस से मदद मांगी। जिसपर मुंबई पुलिस ने एक महिला कांस्टेबल को भेजा।

लगातार तीसरे दिन सीबीआई ने की रिया से पूछताछ

सेंट्रल इन्वेस्टिगेशन ब्यूरो सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लेकर लगातार रिया चक्रवर्ती से पूछताछ कर रही है। अब तक तीन दिनों में रिया से 26 घंटे पूछताछ हुई। इस दौरान रीया से उनके और सुशांत के रिश्ते, उनके खर्चों, बिजनेस, परिवार, सुशांत की बिमारी और दोस्तों के बारे में सवाल किये गए। इतना ही नहीं रिया से महेश भट्ट को लेकर भी पूछताछ हुई।

बार बार पूछे गए एक ही सवाल

सीबीआई ने रिया की व्हाट्सएप चैट हिस्ट्री निकलवाई है। जिसमे रिया ने महेश भट्ट को कई मैसेज किये। इस बारे में रिया से पूछा गया। रिया से सुशांत की सेहत को लेकर भी कई सवाल पूछे गए हैं।
-रिया से पूछा गया है कि उन्हें कब अहसास हुआ था कि सुशांत को कोई मानसिक दिक्कत है?
-सुशांत को पहली बार डॉक्टर को कब दिखाया गया था?
-एक्टर को दवाइयां कौन दिया करता था?
-सुशांत के डॉक्टर बार-बार क्यों बदले गए थे?

कल भी होगी पूछताछ:

सीबीआई ने कल भी रिया को पूछताछ के लिए बुलाया है। उनसे सुशांत के परिवार को लेकर पूछताछ हो सकती है। बता दें कि सुशांत की बहन मीतू सिंह को भी सीबीआई ने पूछताछ के लिए बुलाया है।

घर जाने निकला ASI की बीच रास्ते में लावारिस मिली थी बाइक… 10 घंटे बाद मृत मिला शरीर… हत्या की आशंका… पढ़िए पूरी खबर

बीजापुर. रविवार दोपहर बीच रास्ते से गायब हुए ASI की हत्या कर दी गयी है। अपहरण के करीब 10 घंटे बाद ASI का शव बीच सड़क पर फेंका मिला है। आशंका है कि नक्सलियों ने पहले ASI का अपहरण किया और फिर उसकी हत्या कर दी। अपहृत ASI की हत्या कर कुटरू-बीजापुर मार्ग पर केतुलनार के नज़दीक सड़क पर शव को फेका गया है।

जानकारी के मुताबिक कल दोपहर छुट्टी लेकर ASI नागैय्या कोरसा अपने घर के लिए निकले थे। जिसके बाद बीच रास्ते से अचानक गायब हो गए। ASI कुटरू थाने में पदस्थ थे। परिजनों ने जब खोजबीन शुरू की तो मंगापेटा के पास लावारिस हालत में उनकी बाईक मिली थी। तभी से ये शक गहरा गया था कि कहीं नक्सलियों ने तो उनका अपहरण नहीं कर लिया।

शहर में रात 8 बजे तक खुलेंगी दुकानें, जिला कलेक्टर ने जारी किए निर्देश

जशपुर। कलेक्टर महादेव कावरे ने 7 दिवस 23 से 30 अगस्त तक कंटनमेंट जोन की अवधि पूर्ण करने के पश्चात् 31 अगस्त 2020 से जशपुर नगरपालका क्षेत्र की सभी दुकानों को सुबह 8 बजे से रात्रि 8 बजे तक खोलने की अनुमति दी है।

उन्होंने कहा कि व्यापारियों को सेनिटाईजर रखना अनिवार्य होगा। ग्राहक दुकान में सामन लेते समय सोशल डिस्टेंश का पालन करेंगे और मास्क लगाकर ही दुकान में प्रवेश करने के लिए कहा है।

BREAKING : प्रशांत भूषण पर सुप्रीम फैसला, लगाया एक रुपए का जुर्माना, अदा नहीं पर 3 साल के लिए वकालत पर पाबंदी और 3 महीने की सजा …

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण के मामले में आखिरकार फैसला आ ही गया. जस्टिस अरुण मिश्रा ने प्रशांत भूषण को एक रुपए का जुर्माना लगाया है. जुर्माना अदा नहीं करने पर तीन साल तक प्रेक्टिस पर प्रतिबंध और 3 महीने की सजा का प्रावधान रखा है.
बता दें कि वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने ट्वीट के जरिए सुप्रीम कोर्ट की कार्यप्रणाली के साथ-साथ न्यायाधीशों पर टिप्पणी की थी, जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने इसे अवमानना मानते हुए प्रशांत भूषण को माफी मांगने के लिए कहा था, लेकिन प्रशांत भूषण ने माफी मांगने से इंकार कर दिया था. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने पिछली सुनवाई में फैसले को सुरक्षित रख लिया था. इस पर प्रशांत भूषण के रूख में बदलाव नहीं आने पर आज फैसला सुना दिया.

छत पर लहराया पाकिस्तानी झंडा, पुलिस ने मकान मालिक को पकड़ा, मकान मालिक के खिलाफ केस दर्ज…

दिल्ली। देश में अक्सर देश विरोधी तत्वों की करतूतें सामने आती रहती हैं। अब मध्य प्रदेश के देवास में एक शख्स ने दुस्साहस की हद पार कर दी।

मध्यप्रदेश में एक सनसनीखेज मामले में देवास में एक घर पर पाकिस्तान का झंडा काफी दिनों से लहरा रहा था। जिसकी जानकारी लोगों ने पुलिस को दी। इसके बाद मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए मकान मालिक को गिरफ्तार कर लिया है। इस देश विरोधी कृत्य करने वाले मकान मालिक के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किया है।

जानकारी के मुताबिक मध्य प्रदेश के देवास जिले के नजदीक स्थित शिप्रा इलाके में एक मकान की छत पर पाकिस्तान का झंडा काफी दिन से लहरा रहा था। किसी ने इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। जिसके बाद प्रशासन में हड़कंप मच गया। पुलिस टीम ने मौके पर पहुंचकर आरोपी मकान मालिक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया और तुरंत झंडे को उतारा।आरोपी मकान मालिक का नाम फारुख खां है।

जनसम्पर्क आयुक्त तारण प्रकाश सिन्हा कोरोना संक्रमित, स्वयं ट्वीट कर दी जानकारी, संपर्क में आये लोगों से की ये अपील…

रायपुर। छत्तीसगढ़ में रोजाना कोरोना संक्रमित मरीज बढ़ रहे हैं। आम नागरिकों, राजनेताओं अधिकारियों सहित सभी वर्गों से कोरोना संक्रमित मरीज मिल रहे हैं। वहीं अब जनसंपर्क विभाग के आयुक्त तारण प्रकाश सिन्हा भी कोरोना संक्रमित पाए गए है।
उन्होंने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। ट्वीट कर लिखा कि मेरा कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आया है। मुझे कुछ परेशानी नहीं हैं। मैं ठीक हूं। मैं उन सभी लोगों से अनुरोध करता हूं कि जो लोग मेरे संपर्क में आए हैं कृपया आप सभी स्वस्थ रहें और अपना देखभाल करें।

BIG BREAKING: भारत और चीनी सेना के बीच फिर झड़प, जवानों ने दिया मुंहतोड़ जवाब…

नई दिल्ली। भारत और चीन के सैनिकों के बीच एक बार फिर सीमा पर झड़प हुई है. बताया जा रहा है कि 29-30 अगस्त की रात यह झड़प पूर्वी लद्दाख पर पैंगोंग त्सो झील के पास हुई है. सरकार ने इस पर कहा है कि हमारे जाबांज जवानों ने चीनी सैनिकों की घुसपैठ को मुहंतोड़ जवाब दिया और उसके मंसूबे को नाकाम कर दिया. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक झड़प में कोई भारतीय जवान हताहत नहीं हुआ है.

भारतीय सेना के पीआरओ कर्नल अमन आनंद ने कहा कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के जवानों ने 29/30 अगस्त की रात को पूर्वी लद्दाख में गतिरोध के दौरान दोनों देशों के बीच शांति स्थापित करने के लिए हुई सैन्य और राजनयिक बातचीत का उल्लंघन किया और यथास्थिति को बदलने के लिए घुसपैठ की.
बता दें कि 15 जून की रात गलवान घाटी में चीनी सैनिकों ने रात में हमला बोल दिया था. जिसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे. इस हमले का मुहंतोड़ जवाब देते हुए जवानों ने भी चीन के कई सैनिकों को ढेर कर दिया था. लेकिन ड्रैगन ने हमेशा की तरह अपने मारे गए सैनिकों की संख्या छिपाई. अभी चीन से 35 सैनिकों की स्मारक सामने आई है. वहीं दूसरी बार फिर सीमा पार घुसने की साजिश की. जिसे भारतीय जांबाजों ने नाकाम कर दिया.

अवैध निर्माण पर गरीबों पर कार्यवाही करने वाली मुंगेली नगर पालिका को नही दिख रहा विशालकाय काम्प्लेक्स,  बिना परमिशन तालाब किनारे बन रहा भव्य काम्प्लेक्स आरटीआई कार्यकर्ता, अधिवक्ता स्वतंत्र तिवारी ने किया खुलासा…

संजय मिश्रा, बिलासपुर/ मुंगेली – कोई भी गरीब व्यक्ति अगर बड़ी मुश्किल से अपना मकान या जीवन-यापन के लिए छोटा दुकान बनवाता हैं तो नगर पालिका द्वारा उस पर तत्काल कार्यवाही करने की चेतावनी देती हैं कभी कभी कार्यवाही के नाम पर उगाही भी देखी गई हैं, पहले कई वर्षों से यह खेल नगर पालिका में चलता आया है, परंतु सबसे बड़ी ताज्जुब की बात तो यह हैं कि मुंगेली नगर पालिका क्षेत्रान्तर्गत मल्हापारा शंकर मंदिर के आगे रवि गैस एजेंसी के सामने शंकर वार्ड में तालाब के सामने ही एक विशालकाय व्यवसायिक काम्प्लेक्स का निर्माण किया जा रहा हैं, मुंगेली के अधिवक्ता और आरटीआई कार्यकर्ता स्वतंत्र तिवारी ने नगर पालिका से इस कॉम्प्लेक्स के सम्बंध में सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी गई थी, जिस पर जनसूचना अधिकारी, भवन अनुज्ञा शाखा एवं लोक निर्माण शाखा ने आवेदक को जानकारी देते हुए बताया कि मुंगेली नगर पालिका क्षेत्रान्तर्गत मल्हापारा शंकर मंदिर के आगे रवि गैस एजेंसी के सामने शंकर वार्ड में तालाब के सामने बन रहे व्यवसायिक कॉम्प्लेक्स से सम्बंधित कोई भी दस्तावेज, नस्ती, प्रमाणपत्र व जानकारी भवन अनुज्ञा शाखा नगर पालिका में नही हैं, और जानकारी को निरंक बता दिया गया। अब यहाँ सबसे बड़ा सवाल यह उठता हैं कि जब निर्माणाधीन उस व्यवसायिक कॉम्प्लेक्स के अनापत्ति सहित अन्य दस्तावेज नगर पालिका में नही हैं तो फिर किस आधार पर इतने बड़े कॉम्प्लेक्स का निर्माण किया जा रहा हैं ?

जिस पर कार्यवाही करने नगर पालिका के हाँथ कांप रहे, क्योंकि इस व्यवसायिक काम्प्लेक्स का बहुत काम जैसे छत ढलाई, दीवार निर्माण, सीढ़ी जैसे काम लगभग चल रहे उसके बाद भी क्या नगर पालिका के अधिकारियों या कर्मचारियों की नजर इस कॉम्प्लेक्स पर नही गई होगी ? ये तो विचारणीय प्रश्न हैं। जब इसकी जानकारी आम जनता को हुई तो लोगों ने स्पष्ट तौर पे कहा कि मुंगेली नगर पालिका में अभी वर्तमान CMO की कार्यशैली के कारण कमीशनखोरों और भ्रष्ट ठेकेदारों की नींद उड़ चुकी हैं और कोई भी मामला हो सीएमओ द्वारा तत्काल कार्यवाही की जाती हैं, ऐसे में अवैध रूप से बन रहे इस व्यवसायिक काम्प्लेक्स पर वर्तमान CMO द्वारा ही रोक लगाया जा सकता हैं, क्योंकि किसी अन्य अधिकारियों से कार्यवाही की उम्मीद नही की जा सकती।

प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत, 16 करोड का किया गया भूमि पूजन…

विवेक माणिक,मुंगेली –छिनभोग में प्रधानमंत्री सड़क के भूमिपूजन कार्यक्रम में बीजेपी सांसद और कांग्रेस जिला पंचायत अध्यक्ष लेखनी सोनू चंद्राकर क्षेत्र के जिला पंचायत सदस्य जागेश्वरी वर्मा के आतिथ्य में कांग्रेस और भाजपा कार्यकर्ताओं ने शिरकत की। छिन्दभोग से पथरिया भरेवा मोड़ लगभग 10 km एवं ग्राम चन्दरगढ़ी दे पथरगढ़ी होते गंगद्वारी तक लगभग 12 km मंजूर सड़क लागत कुल 15 करोड़ 99 लाख के निर्माण का भूमिपूजन किया गया। समारोह मे सांसद ने इंजीनियरों को गुणवत्तापूर्ण सड़क बनाने की हिदायत दी। वहीं जिला पंचायत सदस्य जागेश्वरी वर्मा ने कहा कि आज जो संकट की घड़ी चल रही है उसमें हम सबको सरकार द्वारा दिए जा रहे निर्देशों का पालन करना है और अपने आसपास जरूरतमंद लोगों को जो सहयोग करते बनता है वह जरूर की जाए नहीं तो हमें बताएं हम इस संकट की घड़ी में किसी भी व्यक्ति को भूखा नहीं रहने देंगे। कोरोना के इस जंग को हम सबको मिलकर लड़ना है। जहां तक क्षेत्र की विकास की बात है तो इसकी चिंता हमारे उपर छोड़ दें। क्यौंकि क्षेत्र में विकास का कार्य कहीं नहीं रूकेगा। लगातार इस प्रकार का विकास कार्य क्षेत्र में होते रहेंगे।

इस भूमिपूजन समारोह में सांसद के साथ जनपद अध्यक्ष ज्योति सिंह ठाकुर ,भाजपा महामंत्री निश्चल गुप्ता, भाजपा मंडल अध्यक्ष हरि शंकर वर्मा रिकू सिंह ठाकुर मनीष यादव,रघु वैष्णव रिंकू बघेल अमित बंजारे सहित भाजपा के दर्जनों नेता कार्यकर्ता शामिल हुए, जबकि जिला पंचायत सदस्य जागेश्वरी वर्मा , जिला पंचायत सदस्य अम्बालिका साहु ,सहित नगर पंचायत सभापति संपत जायसवाल, पार्षद धर्मेंद्र श्रीवास अभिषेक यादव , लकी यादव गुलशन साहू अन्य कार्यकर्ता उपस्थित हुए।

शादी करने के लिए गुजरात से भागकर पटना आई थी हीरा कारोबारी की बेटी, लेकिन 7 फेरे लेने से पहले ही…

पटना। गुजरात के अंकलेश्वर के रहने वाले हीरा काराेबारी की बेटी की पटना के कदमकुआं स्तिथ लाेहानीपुर के रहने वाले दिव्यांग चार्टर्ड अकाउंटेंट आकाश से फेसबुक पर दोस्ती हुई. फिर, दोनों के बीच देखते ही देखते प्यार हो गया. इसके बाद दाेनाें पैर से दिव्यांग आकाश व काराेबारी की बेटी के बीच माेबाइल नंबर का आदान-प्रदान हुआ. फिर, दाेनाें ने फेसबुक पर एक साथ जीने-मरने की कसमें खाईं. यही नहीं दाेनाें ने इस दौरान शादी करने का फैसला भी कर लिया.

इसके बाद काेराेबारी की बेटी अपनी नई जिंदगी शुरू करने के लिए 27 अगस्त काे घर से फरार हाे गई. वह, सीधे फ्लाइट पकड़कर प्रेमी आकाश के घर पहुंच गई. तीन दिन तक दाेनाें साथ रहे. रविवार काे दाेनाें गांधी मैदान थाना इलाके के रामगुलाम चाैक के पास स्थित धर्मशाला मंदिर में शादी के जाेड़े में पहुंचे और शादी रचाने लगे. इसी बीच गुजरात पुलिस, कदमकुंआ थाना काे लेकर मंदिर में पहुंच गई. दाेनाें काे पुलिस ने वहीं पकड़ लिया गया. लड़की अपने काे बालिग बता रही है. गुजरात पुलिस के साथ लड़की के परिजन भी आए थे. दाेनाें काे कदमकुंआ थाना ले जाया गया. फिर कागजी प्रक्रिया करने के बाद पुलिस दाेनाें काे रात में ही विमान से लेकर गुजरात चली गई.

अंकलेश्वर में आकाश पर लड़की काे भगाने का केस दर्ज हुआ है
कदमकुआं के थानेदार निशिकांत निशि ने बताया कि अंकलेश्वर के स्थानीय थाना में आकाश पर लड़की काे भगाने का केस दर्ज हुआ था. दाेनाें काे गुजरात पुलिस लेकर रात में ही रवाना हाे गई. आकाश के पिता की श्रृंगार का दुकान है. उन्होंने बताया कि माेबाइल लाेकेशन से गुजरात पुलिस पटना पहुंची है. निशिकांत निशि ने बताया कि काेराेबारी की बेटी के भागने के बाद परिजनाें ने वहां केस किया था. उसका माेबाइल एक- दाे दिन बंद था. पुलिस ने लड़की के माेबाइल व फेसबुक काे खंगालना शुरू किया तब पता चला कि आकाश से उसकी बराबर बात हाे रही थी. फेसबुक पर दाेनाें के बीच बातचीत हुई. फिर गुजरात पुलिस काे लड़की के माेबाइल का आखिरी लाेकेशन लाेहनीपुर मिला. वहां की पुलिस ने पटना एसएसपी से संपर्क किया. फिर गुजरात पुलिस लड़की के परिजन के साथा विमान से शाम को पटना पहुंची. कदमकुआं पुलिस व गुजरात पुलिस लाेहानीपुर के दास लेन गई तो वहां पता चला कि दाेनाें शादी रचाने मंदिर गए हैं. फिर मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों को पकड़ लिया.

जिसे दुनिया ढूंढ रही है, वो उत्तराखंड में है, वैज्ञानिकों में खुशी की लहर

नई दिल्ली। दुनिया भर में कोरोना महामारी फैलने के बाद चमगादड़ों को लोग शक की निगाह से देख रहे हैं। इस बीच चीन समेत दुनिया के कुछ देशों में पाया जाना वाला दुर्लभ चमगादड़ ‘लांग टेल्ड विस्कर्ड बैट’ उत्तराखंड के केदारनाथ वाइल्ड लाइफ सेंचुरी इलाके में पाया गया है। इससे पहले 1970 में आखिरी बार दार्जिलिंग में ये चमगादड़ देखा गया था। सोंबर बैट भी चमोली के चोपता में मिला है। आवाज और डीएनए सेंपल मैच के बाद इसकी पुष्टि की गई है।
उत्तराखंड में पर्यावरण के क्षेत्र में काम करने वाली संस्था नेचर साइंस इनिशिएटिव ने अपनी सर्वे में चमगादड़ की ये नई प्रजातियां मिली हैं। इसके अलावा चमगादड़ों की 7 प्रजातियां भी उत्तराखंड में पहली बार पाई गईं। संस्था से जुड़े और चमगादड़ों पर रिसर्च कर रहे रोहित चक्रवर्ती ने बताया कि पिछले कई सालों में हुए शोध के डाटा से मिलान करने के बाद इस ‘लांग टेल्ड विस्कर्ड बैट’ ढूंढा जा सका है। उन्होंने बताया कि इससे पहले इसे चीन और जापान समेत कुछ देशों में पाया गया था। भारत में इसे पहली बार पकड़ा गया। इसके साथ ही उत्तराखंड में चमगादड़ों की कुल प्रजातियां 40 से बढ़कर 49 हो गई हैं।
फील्ड वर्ग के दौरान इनके डीएनए और आवाज के नमूने लिए गए। इसका टाटा इंस्टीट्यूट आफ जेनेटिक्स एंड सोसाइटी और आईआईटी बैंगलौर में अलग-अलग जांच की गई। इसके जांच को नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम जेनेवा स्विट्जरलैंड के रिकॉर्ड से मिलान किया गया। जिनके पास दुनिया के लगभग सभी चमगादड़ों का रिकॉर्ड है। ये सर्वे 600 से 3000 मीटर ऊंचाई के कई इलाकों में किया गया।

रूम को लेकर विवाद, IPL छोड़ लौटे रैना पर बोले श्रीनिवासन- सफलता सिर चढ़ गई है…

नई दिल्ली इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) का मौजूदा सत्र कोरोना वायरस की वजह से यूएई में 19 सितंबर से खेला जाना है। सभी 8 टीमें यूएई पहुंच चुकी हैं और बायो प्रोटोकॉल्स के तहत 6 दिन तक क्वॉरंटीन रहने के बाद तैयारियों में जुट गई हैं। इस बीच चेन्नै सुपर किंग्स (CSK) के अहम खिलाड़ी सुरेश रैना (Suresh Raina) ने सभी को हैरान करने वाला कदम उठाया। वह अचानक ही यूएई से घर लौट आए। इसके पीछे पहले निजी कारण बताया गया था, लेकिन अब इस मामले में टीम के ओनर एन. श्रीनिवासन का बड़ा बयान आया है। उन्होंने तो यहां तक कह दिया कि उनके सिर सफलता चढ़ गई है। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के पूर्व अध्यक्ष एन. श्रीनिवासन ने उन खबरों की पुष्टि कर दी है, जिनमें कहा जा रहा था कि सुरेश रैना खराब होटल रूम और कोरोना वायरस के डर की वजह से छोड़कर स्वदेश लौट आए हैं। ‘आउटलुक’ के अनुसार, होटल रूम को लेकर उनके और टीम के कप्तान एमएस धोनी (Suresh Raina) के बीच भी विवाद भी हुआ। कैप्टन कूल ने ऑलराउंडर को मनाने की पूरी कोशिश की, लेकिन वह नहीं माने और टूर्नमेंट छोड़ने का फैसला किया।

क्रिकेटर तुनक मिजाज अभिनेता की तरह होते हैं इंटरव्यू में सीएसके के मालिक श्रीनिवासन ने इस बारे में बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा, ‘रैना के यूं अचानक टीम का साथ छोड़ने से धक्का लगा है, लेकिन कप्तान धोनी ने स्थिति को संभाल लिया है। क्रिकेटर पुराने दिनों के तुनक मिजाज अभिनेता की तरह होते हैं। चेन्नै सुपर किंग्स परिवार की तरह है और सभी वरिष्ठ खिलाड़ी साथ रहना सीख चुके हैं।’

कई बार सफलता सिर चढ़ जाती है यही नहीं, श्रीनिवासन ने कहा, ‘रैना एपिसोड से टीम उबर चुकी है। मैं समझता हूं कि अगर आप खुश नहीं हैं तो वापस लौट जाएग। मैं किसी पर कुछ करने के लिए दबाव नहीं डाल सकता हूं। कई बार सफलता आपके सिर पर चढ़ जाती है…।’ साथ ही उन्होंने कहा कि उनके और धोनी के बीच बात हुई है। कप्तान ने उन्हें विश्वास दिलाया है कि अगर कोरोना के केस बढ़े तो भी चिंता की बात नहीं है। धोनी ने टीम के साथ जूम कॉल पर बात की है और सभी को सुरक्षित रहने को कहा है।

रैना को नहीं मिलेगी सैलरी पूर्व आईसीसी अध्यक्ष को विश्वास है कि सुरेश रैना लौट आएंगे। उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि वह वापस आना चाहेंगे। सीजन शुरू नहीं हुआ है और उन्हें अहसास होगा कि वह क्या (11 करोड़ रुपये) छोड़कर गए हैं। उन्हें यह (सैलरी) नहीं मिलेगी।’ बता दें कि इससे पहले कयास लगाए जा रहे थे कि रैना इसलिए आईपीएल छोड़कर लौट आए हैं क्योंकि पठानकोट में उनके रिश्तेदारों पर डकैतों हमला कर दिया था, जिसमें उनके एक रिश्तेदार की मौत हो गई।

क्या है पूरा मामला सीएसके 21 अगस्त को दुबई पहुंची थी। तभी से रैना होटल के कमरे से खुश नहीं थे और वह कोरोना को लेकर कठोर प्रोटोकॉल चाहते थे। वह धौनी की तरह रूम चाहते थे, क्योंकि उनके रूम की बालकनी उचित नहीं थी। इस बीच सीएसके की टीम के दो खिलाड़ियों (तेज गेंदबाज दीपक चाहर और विकेटकीपर बल्लेबाज रुतुराज गायकवाड़) समेत कुल 13 सदस्य जब कोरोना पॉजिटिव हुए तो रैना का भय और भी बढ़ गया।

अनलॉक-4: शनिवार और रविवार को नहीं लगाया जा सकेगा लॉकडाउन, जानें कारण

नई दिल्ली। देश में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों के बीच केंद्र सरकार ने गत दिवस अनलॉक-4 की गाइडलाइन जारी कर दी है. अनलॉक-4 के दौरान क्या खुलेगा और क्या बंद रहेगा, इस पर आदेश के साथ ही एक अहम फैसला लिया गया है. केंद्र की नई गाइडलाइन में राज्य और केंद्रशासित प्रदेशों से अपनी मर्जी से लोकल लॉकडाउन लगाए जाने की शक्ति को छीन लिया गया है. गाइडलाइन में साफ तौर पर इस बात का जिक्र है कि कोई भी राज्य अपने यहां अब केंद्र सरकार से सलाह-मशविरा किए बिना लॉकडाउन नहीं लगा सकेंगे. इस दौरान केवल कंटेनमेंट जोन में लॉकडाउन लगाए जाने की छूट दी गई है. केंद्र सरकार की ओर से जारी नई गाइडलाइन से साफ हो गया है कि कंटेनमेंट जोन को छोड़कर बाहर के किसी भी इलाके में राज्य अब अपनी मर्जी से लॉकडाउन नहीं लगा सकेंगे. केंद्र ने बताया कि कोरोना वायरस की कड़ी को तोड़ने के लिए कंटेनमेंट जोन में अगले 30 दिनों तक यानी 30 सितंबर तक लॉकडाउन जारी रहेगा. इस दौरान केवल जरूरी सामान लेने और जरूरी काम पर जाने की ही छूट दी जा सकेगी

खबर है कि केंद्र सरकार ने जिस तरह से राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से लॉकडाउन लगाने की शक्ति छीनी है, उसके पीछे बड़ी वजह कारोबार है. दरअसल कई मैन्युफैक्चरर्स की शिकायत थी कि विभिन्न राज्यों में अलग-अलग समय पर लॉकडाउन लगाए जाने की वजह से उनके माल की निर्बाध आवाजाही में काफी दिक्कत आती है. लॉकडाउन की शक्ति छीन लिए जाने से केंद्र ने जिस तरह से मेट्रो को शुरू करने का फैसला लिया है, उसका भी लाभ आम जन को मिलेगा.
केंद्र सरकार की नई गाइडलाइन के मुताबिक, अब उत्तर प्रदेश और असम की तरह अन्य राज्यों में शनिवार और रविवार को लगाया जाने वाला लॉकडाउन भी केंद्र सरकार की अनुमति के बिना नहीं लगाया जा सकेगा. इसी के साथ कई राज्यों में रात में लॉकडाउन लगाया जाता रहा है. ऐसे में इन्हें लॉकडाउन में ढील देनी होगी. कई राज्य ऐसे भी हैं जिन्होंने केंद्र की गाइडलाइन आने से पहले ही कई इलाकों में लॉकडाउन की घोषणा कर दी थी. ऐसे में अभी तक इन राज्यों को लेकर स्थिति साफ नहीं हो सकी है. बता दें कि कर्नाटक और बिहार ने पहले ही 14 दिन तक लॉकडाउन बढ़ा दिया था. वहीं असम, उत्तर प्रदेश ने राज्य में शनिवार-संडे का लॉकडाउन लगाया हुआ है.