छत्तीसगढ़ के 14 जिलों में लॉकडाउन लागाने का फैसला जाने क्या है आदेश

रायपुर: छत्तीसगढ़ में कोरोना मरीजों और संक्रमितों के आंकड़े में तेजी से इजाफा हो रहा है। रोजाना प्रदेशभर से हजारों नए मामले सामने आ रहे हैं। प्रदेश में हालात दिन ब दिन खराब होते नजर आ रही है। हालात को देखते हुए छत्तीसगढ़ के 14 जिलों में लॉकडाउन लागाने का फैसला लिया गया है।

मिली जानकारी के अनुसार प्रदेश के रायपुर, बेमेतरा, बिलासपुर, मुंगेली, दुर्ग, धमतरी, बालोद,अम्बिकापुर, बलौदा बाजार,रायगढ़,सूरजपुर, कोरबा, जशपुर और कवर्धा में लॉकडाउन लागू किया गया है।

लॉकडाउन के दौरान कुछ जिलों में कुछ छूट दी गई है तो कुछ जगहों में सख्ती से लाकडाउन का आदेश जारी किया गया है। वहीं, रायपुर जिला प्रशासन ने भी सख्ती के साथ लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया है।

प्रदेश के इन 14 जिलों में रहेगा लॉकडाउन

  • रायपुर- 21 सितंबर रात 9 बजे से 28 सितंबर तक लॉकडाउन
  • बेमेतरा- 21 सितंबर से 28 सितंबर तक लॉकडाउन
  • मुंगेली- 17 सितंबर से 23 सितंबर तक लॉकडाउन
  • दुर्ग- 20 सितंबर से 30 सितंबर तक लॉकडाउन
  • धमतरी- 22 सितंबर से 1 अक्टूबर तक लॉकडाउन
  • बालोद- 22 सितंबर से 30 सितंबर तक लॉकडाउन
  • कवर्धा- 14 सितंबर से आगामी आदेश तक लॉकडाउन
  • बिलासपुर- 22 सितंबर सुबह 5 बजे से 28 सितंबर तक रहेगा लॉकडाउन
  • अम्बिकापुर- नगर निगम अम्बिकापुर का सम्पूर्ण क्षेत्र 21 सितम्बर से 28 सितम्बर तक
  • बलौदा बाजार- बलौदाबाजार-भाटापारा जिले में 22 सितम्बर मंगलवार को रात्रि 12 बजे से लेकर 29 सितम्बर मंगलवार को रात्रि 12 बजे तक एक सप्ताह के लिए सम्पूर्ण लॉक डाउन
  • रायगढ़ जिले के समस्त नगरीय निकायों को दिनांक 24.09.2020 की प्रातः 05:00 बजे से दिनांक 30.09.2020 की रात्रि 12:00 बजे तक की अवधि के लिए पूर्ण रूप से कंटेनमेंट जोन घोषित
  • सूरजपुर जिले में भी 22 सितंबर की रात्रि 9 बजे से 1 अक्टूबर की रात्रि 9 बजे तक लॉक डाउन
  • कोरबा में 23.09.2020 प्रातः 05.00 बजे से दिनांक 02.10.2020 रात्रि 12.00 बजे तक पूर्ण रूप से कंटेनमेंट जोन
  • जशपुर में 22 सितंबर रात्रि 12:00 बजे से सात दिवस के लिए 29 सितंबर रात्रि 12:00 बजे तक पूरे जिले में संपूर्ण लॉकडाउन

राजधानी

रायपुर जिले को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है, जिसके बाद अब यहां 21 सितम्बर रात 9 बजे से लॉकडाउन शुरू होगा और 28 सितंबर की रात तक जारी रहेगा।

कलेक्टोरेट परिसर में प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक में आज यह सख्त फैसला लिया गया है। जानकारी के मुताबिक इस बार हर बार की अपेक्षा बहुत ही सख्ती बरती जाएगी।

यहां तक की सब्जी दुकानों को भी खोलने की अनुमति नहीं होगी। दूध के लिए सुबह डेढ़ घंटे और शाम को डेढ़ घंटे समय तय किया गया है, पेट्रोल सेवा सिर्फ इमरजेसीं सर्विस को ही दी जाएगी यानि की एम्बुलेंस, पुलिस, फायर ब्रिगेड की गाड़ियों को ही पेट्रोल मिलेगा बाकी जन सामान्य को पेट्रोल नहीं दिया जाएगा।

जारी आदेश अनुसार रायपुर जिले में आज दिनांक तक 28000 से अधिक कोरोना वायरस (कोविड-19) पॉजिटिव मरीजों की पहचान हो चुकी है तथा प्रतिदिन लगभग 9001000 पॉजिटिव मरीज मिल रहे है कोरोना वायरस के प्रसार की रोकथाम हेतु लगातार प्रयासो के बावजूद कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है।

ऐसी दशा में कोरोना वायरस (कोविड-19) की रोकथाम एवं चेन को तोड़ने हेतु संपूर्ण रायपुर जिले को कंटेनमेंट जोन घोषित किया जाना आवश्यक हो गया है।

अंबिकापुर

कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी संजीव कुमार झा के द्वारा जिले में कोरोना मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि को दृष्टिगत रखते हुए कोरोना वायरस की रोकथाम एवं चेन को तोड़ने हेतु नगर पालिक निगम अम्बिकापुर के सम्पूर्ण क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है। कंटेनमेंट जोन में 21 सितम्बर रात्रि 9 बजे से 28 सितम्बर रात्रि 12 बजे तक की अवधि में दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 144 लागू रहेगी।

जारी आदेशानुसार उपरोक्त दर्शित अवधि में सरगुजा जिले की सभी सीमाएं पूर्णतः सील रहेगी। उपरोक्त अवधि में केवल मेडिकल दुकानों को अपने निर्धारित समय में खुलने की अनुमति होगी। मरीज एवं मेडिकल दुकान संचालन दवाओं की होम डिलिवरी व्यवस्था को प्राथमिकता देंगे।

पेट्रोल पंप संचालकों द्वारा केवल शासकीय वाहनों व शासकीय कार्य में प्रयुक्त वाहन, मेडिकल इमरजेन्सी से संबंधित निजी वाहन एवं एम्बुलेंस तथा एल.पी.जी परिवहन कार्य में प्रयुक्त वाहनों को ही पी.ओ.एल. प्रदान किया जाएगा। अन्य सभी वाहनों हेतु पी.ओ.एल. प्रदान करना पर्णतः प्रतिबंधित रहेगा।

दुग्ध पार्लर व वितरण की समयावधि प्रातः 6 बजे से प्रातः 8 बजे तक एवं संध्या 5 बजे से शाम 7 बजे तक ही होगी। साथ ही यह स्पष्ट किया जाता है कि दुग्ध व्यवसाय हेतु कोई भी दुकान एवं पार्लर नही खोले जायेंगे। केवल दुकान एवं पार्लर के सामने फिजिकल डिस्टेंसिंग एवं मास्क संबंधी निर्देशों का पालन करते हुए उपरोक्त समयावधि में केवल दुग्ध विक्रय की अनुमति होगी।

पैट शॉप एवं एक्वेरियम को केवल पशुओं को पशुचारा देने हेतु प्रातः 6 बजे से प्रातः 8 बजे तक एवं संध्या 5 बजे से 6ः30 बजे तक शॉप खोलने की अनुमति होगी। एल.पी.जी. गैस सिलेन्डर की एजेसिंयों केवल टेलीफोनिक या ऑनलाईन ऑर्डर लेंगे तथा ग्राहकों को सिलेन्डरों की घर पहुंच सेवा उपलब्ध करायेंगे।

औद्योगिक संस्थानों एवं निर्माण इकाईयों को अपने कैम्पस के भीतर मजदूरों को रखकर व अन्य आवश्यक व्यवस्था करते हुए उद्योगों के संचालन व निर्माण कार्यों की अनुमति होगी। उक्त अवधि के दौरान सम्पूर्ण नगर पालिक निगम क्षेत्र अंतर्गत संचालित समस्त शराब दुकाने बंद रहेंगी।

सभी धार्मिक, सांस्कृतिक एवं पर्यटन स्थल आम जनता के लिए पूर्णतः बंद रहेंगे। उपरोक्त अवधि में नगर निगम अम्बिकापुर क्षेत्र अन्तर्गत सभी केन्द्रीय, शासकीय, अर्द्धशासकीय एवं निजी कार्यालय बंद रहेगें। सभी प्रकार की सभी, जुलूस, आयोजन आदि प्रतिबंधित रहेगें। होम आईसोलेशन में रह रहे कोविड़ पॉजिटिव मरीजों को भोजन की समस्या उत्पन्न होने पर कोविड़ केयर सेंटर आवश्यकतानुसार भेजा जाएगा।

आपात स्थिति में मोबाइल नंबर 7999647868, 9770527199, 9340764699, 9340711176 में आवश्यकतानुसार सम्पर्क किया जा सकता है। कोविड़ संक्रमण के रोकथाम हेतु नगर निगम। अम्बिकापुर में समस्त कार्य जैसे कांटेक्ट ट्रेसिंग, एक्टिव सर्विलांस, होम आइसोलेशन, दवाई, वितरण आदि पूर्वानुसार चलने रहेंगे। इन कार्य में संलग्न सभी शासकीय कर्मचारियों की उपस्थिति पूर्वानुसार अनिवार्य होगी।

कोविड केयर सेन्टर से डिस्चार्ज होने वाले मरीजों के परिवहन में संलग्न वाहन पूर्वानुसार पूर्वानुसार संचालित रहेंगे। अपरिहर्य परिस्थितियों में नगर निगम अम्बिकापुर से अन्यत्र जाने वाले यात्रियों को ई-पास के माध्यम से पूर्व अनुमति लिया जाना अनिवार्य होगा।

आपात स्थिति में यात्रा के दौरान 04 पहिया वाहनों में ड्राईवर सहित अधिकतम 3 एवं दो पहिया वाहन में केवल 2 व्यक्तियों को यात्रा की अनुमति होगी। इस निर्देश का उपल्लंघन किए जाने पर 15 दिवस हेतु वाहन जप्त करते हुए चालानी व अन्य कानूनी कार्यवाही की जाएगी। मीडिया कर्मी यथासंभव वर्क फ्राम होम द्वारा कार्य संपादित करेगें।

अत्यावश्यक स्थिति में कार्य हेतु बाहर निकलने पर अपना आई-कार्ड साथ रखेगें तथा फिजिकल डिस्टेंसिंग एवं मास्क संबंधी निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करेगें। यह आदेश पुलिस महानिरीक्षक कार्यालु, कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, नगर पुलिस अधीक्षक, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय एवं उनके अधीनस्थ समस्त कार्यालय, अनुविभागीय दण्डाधिकारी, तहसील, थाना एवं पुलिस चौंकी पर लागू नही होगा।

इसके अतिरिक्त कानून व्यवस्था एवं स्वास्थ्य सेवा से संबंधित पदाधिकारी एवं कर्मी, बिजली, पेयजल आपूर्ति एवं नरगपालिका सेवाएं जिसमें सफाई, सिवरेज एवं कचरे का डिस्पोजल इत्यादि भी शामिल है तथा अग्निशमन सेवाएं। इन शासकीय कार्यालयों में उपरोक्त अवधि में आम जनता का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा।

उपरोक्त बिन्दुओं को छोड़कर नगर पालिक निगम अम्बिकापुर में समस्त गतिविधियों पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगी। आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति एवं प्रतिष्ठानों पर भारतीय दण्ड संहिता 1860 की धारा 188 तथा अन्य सुसंगत विधि अनुसार कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

बलौदा बाजार

कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए कलेक्टर सुनील जैन ने जिले में एक सप्ताह का संपूर्ण लॉक डाउन का आदेश जारी किया है. आदेश के मुताबिक, जिले में 22 सितंबर की रात से 29 सितंबर तक सम्पूर्ण लाकडाउन लगाया गया है.

बलौदाबाजार-भाटापारा जिले में 22 सितम्बर मंगलवार को रात्रि 12 बजे से लेकर 29 सितम्बर मंगलवार को रात्रि 12 बजे तक एक सप्ताह के लिए सम्पूर्ण लॉक डाउन रहेगा।

कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने जिले में कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को ध्यान में रखते हुए व्यापारी संघ के पदाधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों से चर्चा एवं सहमति के बाद इस आशय के आदेश जारी किए हैं। इस समय का लॉक डाउन पहले की तुलना मेंकुछ ज्यादा कठोर होगा। शहरी क्षेत्रों के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी समान रूप से प्रभावशील होगा।

जिला दंडाधिकारी राजेन्द्र गुप्ता ने बताया कि लॉक डाउन अवधि में केवल दूध वितरण के लिए छूट दी जाएगी। सवेरे 8 बजे से 9.30 बजे और शाम में 5.30 बजे से 7 बजे तक दूध वितरण किया जा सकेगा। अत्यावश्यक सेवा में शामिल मेडिकल एवं पेट्रोल पंप ही खुलेंगे।

इस दफा किराना दुकान, फल दुकान एवं सब्जी दुकान भी लॉक डाउन अवधि में बंद रहेंगे। कलेक्टर ने बंद के व्यापक प्रचार-प्रसार की जिम्मेदारी सम्बन्धित एसडीएम, नगरीय निकायों के सीएमओ और जनपद पंचायतों के सीईओ को दिए हैं ताकि लोग लॉक डाउन के पूर्व जरूरत के सामान जुटा सकें।

रायगढ़

जिले में एक सप्ताह का संपूर्ण लॉक डाउन का आदेश जारी किया है. आदेश के मुताबिक, जिले में 24 सितंबर से 30 सितंबर तक सम्पूर्ण लाकडाउन लगाया गया है.

जारी आदेश अनुसार,

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार वर्तमान में नोवेल कोरोना वायरस (COVID-19) एक संक्रामक बीमारी है। इस बीमारी से भारत समेत पूरे विश्व के देशों के लिए खतरा उत्पन्न हो गया है तथा इसने महामारी के रूप ले लिय है ।

रायगढ़ जिले में आज दिनांक तक 4800 से अधिक कोरोना वायरस (कोविड-19) पॉजिटिव मरीजों की पहचान हो चुकी है तथा प्रतिदिन लगभग 150-200 पॉजिटिव मरीज मिल रहे हैं एवं कुल 36 मरीजों की मृत्यु हो चुकी है। कोरोना वायरस के प्रसार के रोकथाम हेतु लगातार प्रयासों के बावजूद कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है ऐसी दशा में कोरोना वायरस (कोविड-19) की रोकथाम एवं चैन को तोड़ने हेतु रायगढ़ जिले के नगरीय क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया जाना आवश्यक हो गया है।

आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की धारा 30,34 सहपठित एपिडेमिक डिसीजेज एक्ट, 1897 यथा संशोधित 2020 के द्वारा प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए मैं भीम सिंह, कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी, जिला रायगढ़ जिले के समस्त नगरीय निकायों को दिनांक 24.09.2020 की प्रातः 05:00 बजे से दिनांक 30.09.2020 की रात्रि 12:00 बजे तक की अवधि के लिए पूर्ण रूप से कंटेनमेंट जोन घोषित करते हुए निम्नलिखित आदेश प्रसारित करता हूँ। (1) उपरोक्त अवधि में रायगढ़ जिले के समस्त नगरीय निकाय क्षेत्रांतर्गत सभी

केन्द्रीय/शासकीय/अर्धशासकीय एवं निजी कार्यालय/प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। (2) आवश्यक सेवायें प्रदान करने वाले निम्नलिखित कार्यालय/प्रतिष्ठान को उपरोक्त प्रतिबंध

से

बाहर रखा जाता है:- कार्यालय कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी,

जिला पंचायत, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, उप पुलिस अधीक्षक, कार्यालय, मुख्य चिकित्सा एवं

स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय एवं उनके अधीनस्थ समस्त कार्यालय, अनुविभागीय दण्डाधिकारी,

तहसील, जनपद कार्यालय, थाना एवं पुलिस चौकी पर लागू नहीं होगा कोविड-19 से

संबंधित कार्यों के निष्पादन एवं समन्वय हेतु जिन विभागों के कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है, उक्त सभी शासकीय कार्यालय अपने न्यूनतम कर्मचारी क्षमता के साथ खुले रहेंगे, किन्तु शासकीय कार्यालयों में उपरोक्त अवधि में आम जनता का प्रवेश पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। इसके अतिरिक्त जेल, अग्निशमन सेवाएं, ए0टी0एम0, प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, रेलवे टेलीकॉम, इन्टरनेट सेवाएं, पोस्टल सेवाएं, कानून व्यवस्था एवं स्वास्थ्य सेवा से संबंधित पदाधिकारी एवं कर्मी, बिजली, पेयजल एवं नगरपालिका सेवायें जिसमें सफाई सीवरेज एवं कचरे का डिस्पोजल इत्यादि भी शामिल है पर यह प्रतिबंध लागू नहीं होगा।

(3) उपरोक्त अवधि में मेडिकल दुकानें प्रातः 09:00 बजे से सायं 06:00 बजे तक संचालित की

(4)

जा सकेगी तथा अस्पताल परिसर में स्थित मेडिकल दुकाने (24X7) संचालित की जा सकेंगी। समस्त बैंक प्रातः 10:00 बजे से अपरान्ह 02:00 बजे तक ही खुले रहेंगे। बैंक अपने संस्थान में न्यूनतम अनिवार्य आवश्यकता तक ही कर्मचारियों/अधिकारियों का उपयोग करेंगे एवं संक्रमण विस्तार को दृष्टिगत रखते हुए भारत सरकार, राज्य सरकार तथा समय-समय पर अन्य संस्थानों के द्वारा महामारी से सुरक्षा हेतु दिए जा रहे निर्देशों का अक्षरशः पालन अनिवार्य रूप से करेंगे। बैंक प्रबंधन द्वारा कर्मचारियों के सामूहिक आवागमन हेतु वाहन व्यवस्था किसी भी स्थिति में उपलब्ध नहीं करायी जाएगी बैंक अपने संस्थान में एक समय से अधिकतम पांच ग्राहकों को ही प्रवेश देंगे। बैंक द्वारा संचालित ए.टी.एम. में पर्याप्त मात्रा में मुद्रा की उपलब्धता बैंक प्रबंधन द्वारा सुनिश्चित की जावेगी तथा ए.टी.एम. में कैश जमा करने हेतु प्रयुक्त वाहन को आवागमन की अनुमति रहेगी।

पेट्रोल पंप के संचालन की अनुमति प्रातः 07:00 बजे से अपरान्ह 1200 तक होगी। -2 मिल्क पार्लर एवं वितरण की समयावधि प्रात: 0600 बजे से प्रातः 08:00 बजे तक एवं संध्या 05.00 बजे संध्या 06.30 तक ही रहेगी। साथ ही यह स्पष्ट किया जाता है कि दुग्ध व्यवसाय कोई भी दुकान/पार्लर नहीं खोले जायेंगे। केवल दुकान पार्लर के सामने फिजिकल डिस्टेंसिंग एवं मास्क संबंधी निर्देशों का पालन करते हुए उपरोक्त समयावधि में केवल दुग्ध विक्रय की अनुमति होगी।

कोरबा

कोरबा में भी लॉकडाउन लगाने का आदेश आ गया है।

कोरबा, जिले के नगरीय निकायों-नगर पालिक निगम कोरबा, नगर पालिका परिषद कटघोरा, दीपका तथा नगर पंचायत पाली, छुरीकला तथा ग्रामीण क्षेत्रों में विकासखण्ड कोरबा अंतर्गत – ग्राम रजगामार, ग्राम बेलाकछार, ग्राम पताड़ी ग्राम उरगा, विकासखण्ड करतला अंतर्गत ग्राम तकनीकी, ग्राम तरदा, ग्राम सरगबुदिया, ग्राम बरपाली, ग्राम खरोरा (मड़वारानी), ग्राम पचपेड़ी, ग्राम सोहागपुर, ग्राम फरसवानी, ग्राम उमरेली, ग्राम कोथारी, ग्राम खरवानी विकासखण्ड कटघोरा अंतर्गत – ग्राम ढेलवाडीह, ग्राम अरदा, ग्राम शुक्लाखार, ग्राम भिलाई बाजार, ग्राम जवाली, ग्राम रंजना विकासखण्ड पाली अंतर्गत – ग्राम हरदीबाजार, ग्राम पोड़ी, ग्राम चैतमा, ग्राम नुनेरा, ग्राम मादन, ग्राम सराईपाली, ग्राम केराझरिया एवं विकासखण्ड पोड़ीउपरोड़ा अंतर्गत ग्राम मोरगा, ग्राम पसान, ग्राम सुतर्रा, ग्राम जटगा. ग्राम कोरबी (संपूर्ण ग्राम पंचायत क्षेत्र) को दिनांक 23.09.2020 प्रातः 05.00 बजे से दिनांक 02.10.2020 रात्रि 12.00 बजे तक पूर्ण रूप से कंटेनमेंट जोन घोषित करते हुए निम्नलिखित आदेश प्रसारित करती हूं : 01. उपरोक्त दर्शित अवधि में कोरबा जिला अंतर्गत नगरीय निकाय की सभी सीमाएं पूर्णतः सील रहेंगी।

उपरोक्त दर्शित अवधि में कोरबा जिला अंतर्गत सभी केन्द्रीय/शासकीय/अर्द्धशासकीय एवं निजी कार्यालय बंद रहेंगे।

आवश्यक सेवाएं प्रदान करने वाले निम्नलिखित कार्यालय/प्रतिष्ठान को उपरोक्त प्रतिबंध से बाहर रखा जाता है- कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, अनुविभागीय दण्डाधिकारी, उप पुलिस अधीक्षक (शहरी/ग्रामीण), कोषालय, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय एवं उनके अधीनस्थ समस्त कार्यालय, तहसील थाना एवं चौकी। किन्तु इन कार्यालयों में आम जनता का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। इसके अतिरिक्त जेल, अग्निशमन सेवाएं, ए.टी.एम. प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मिडिया, रेलवे, टेलीकाम, इन्टरनेट सेवाएं, पोस्टल सेवाएं, बिजली, पेयजल आपूर्ति एवं नगर पालिका सेवाएं जिसमें सफाई, सिवरेज एवं कचरे के डिस्पोजल इत्यादि भी शामिल है, कानून व्यवस्था एवं स्वास्थ्य सेवा से संबंधित पदाधिकारी एवं कर्मियों पर भी यह प्रतिबंध लागू नहीं होगा।

उपरोक्त अवधि में केवल मेडिकल दुकानों को अपने निर्धारित समय में खुलने की अनुमति होगी।

मरीज एवं मेडिकल दुकान संचालक दवाओं की होम डिलिवरी को प्राथमिकता दैंगे 05. समस्त मेडिकल संबंधित व्यवसाय हॉस्पिटल, क्लीनिक अपने निर्धारित समयावधि में कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन करते हुए खुलने की अनुमति रहेंगी।

  1. बैंकों के संचालन की समय सीमा प्रातः 10.00 बजे से 12.00 बजे अपरान्ह तक होगी एवं सनी बैंक अपने संस्थान में न्यूनतम अनिवार्य आवश्यकता तक ही अधिकारियों/कर्मचारियों का उपयोग करेंगे। बैंकों द्वारा ऑनलाईन सेवाओं को प्रोत्साहन दिया जावे एवं ग्राहकों को शाखाओं में आने के लिए हतोत्साहित किया जावे।
  2. पेट्रोल पम्प के संचालन की अनुमति प्रातः 07.00 बजे से अपरान्ह 1200 बजे तक होगी साथ ही

समयावधि के उपरांत भी पेट्रोल पंप संचालकों द्वारा केवल शासकीय वाहनों व शासकीय कार्य में

प्रयुक्त वाहन, मेडिकल इमरजेंसी से संबंधित निजी वाहन/एम्बुलेंस तथा एल.पी.जी. परिवहन

कार्य में प्रयुक्त वाहनों को ही पी.ओ.एल. प्रदाय किया जावेगा अन्य सभी वाहनों हेतु पी.ओ.एल.

प्रदान करना पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। 08. दूग्ध वितरण की समयावधि प्रातः 06.00 बजे से 08.00 बजे तक एवं सायं 05.00 बजे से 06.30 बजे तक होगी। साथ ही यह स्पष्ट किया जाता है कि दुग्ध व्यवसाय हेतु कोई भी दुकान / पार्लर नहीं खोले जायेंगे।

  1. पशु चारा दुकानें /पेट शॉप/एक्वेरियम को केवल पशुओं को पशुचारा देने हेतु प्रातः 06.00 बजे से 08.00 बजे तक तथा सायं 05.00 बजे से 06.30 बजे तक शॉप खोलने की अनुमति होगी। 10. होटल एवं रेस्टोरेंटों को केवल ऑनलाईन के माध्यम से प्राप्त आर्डर का होम डिलिवरी किये जाने हेतु प्रातः 08.00 बजे रात्रि 09.00 बजे तक प्रतिबंध से छूट रहेंगी।
  2. एल.पी.जी. गैस सिलेण्डर की एजेंसियां केवल टेलीफोन या ऑनलाईन ऑर्डर लेंगे तथा ग्राहकों

को सिलेण्डरों की घर पहुंच सेवा उपलब्ध कराएंगे। 12. आवश्यक वस्तुओं से जुड़े वाहनों यथा दवा एवं चिकित्सा उपकरण आदि के परिवहन की अनुमति रहेगी। 13. औद्योगिक संस्थानों एवं निर्माण इकाईयों को अपने कैम्पस के भीतर (onsite) मजदूरों को रखकर

व अन्य आवश्यक व्यवस्था करते हुए उद्योगों के संचालन व निर्माण कार्यों की अनुमति होगी। 14. उक्त अवधि के दौरान संपूर्ण जिला अंतर्गत संचालित समस्त शराब दुकानें बंद रहेंगी। 15. सभी धार्मिक, सांस्कृतिक एवं पर्यटन स्थल आम जनता के लिए पूर्णतः बंद रहेंगे। 16. सभी प्रकार के समाज. जुलूस, आयोजन आदि प्रतिबंधित रहेंगे।

  1. होम आईसोलेशन में रह रहे कोविड पॉजिटिव मरीजों को भोजन की समस्या उत्पन्न होने पर

कोविड केयर सेंटर आवश्यकतानुसार भेजा जावेगा। आपात स्थिति में 0759222720 एवं 07759228548 नंबरों में आवश्यकतानुसार संपर्क किया जा सकता है। 18. कोविड संक्रमण के रोकथाम हेतु जिले में समस्त कार्य जैसे कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग, एक्टिव सर्विलांस, होम आईसोलेशन, दवाई वितरण आदि पूर्वानुसार चलते रहेंगे। इन कार्यों में संलग्न सभी

शासकीय कर्मचारियों की उपस्थिति पूर्वानुसार अनिवार्य होगी कोविड केयर सेंटर में एडमिट एवं डिस्चार्ज होने वाले मरीजों के परिवहन में संलग्न वाहन पूर्वानुसार संचालित रहेंगे। 19. आपात स्थिति में यात्रा के दौरान 04 पहिया वाहनों में ड्राईवर सहित अधिकतम 03 एवं दो पहिया वाहन में केवल 02 व्यक्तियों को यात्रा की अनुमति होगी इस निर्देश का उल्लंघन किये जाने पर 15 दिवस हेतु वाहन जप्त करते हुए चालानी व अन्य कानूनी कार्यवाही की जावेगी। 20. मीडिया कर्मी यथा संभव वर्क फ्रॉम होम द्वारा कार्य संपादित करेंगे अत्यावश्यक स्थिति में कार्य हेतु बाहर निकलने पर अपना आई कार्ड साथ रखेंगे तथा फिजिकल डिस्टेंसिंग एवं मास्क संबंधी निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित

करेंगे। उपरोक्त बिन्दुओं को छोड़कर जिले में समस्त गतिविधियां पूर्णतः प्रतिबंधित रहेंगी।

जशपुर

जशपुर जिला भी अपने यहां लॉक डाउन लगाने जा रहा है, कलेक्टर और जिला दंडाधिकारी महादेव कावरे ने लॉक डाउन का आदेश जारी करते हुए इसकी घोषणा की। यहां 22 सितंबर रात्रि 12:00 बजे से सात दिवस के लिए 29 सितंबर रात्रि 12:00 बजे तक पूरे जिले में संपूर्ण लॉकडाउन रहेगा ।

इस बार दूध, मेडिसिन और पेट्रोल पंप के लिए कुछ समय निर्धारित किया जाएगा। महत्वपूर्ण सरकारी दफ्तर को छोड़कर शेष दफ्तर और शराब दुकान भी बंद रहेगी।

आज पुलिस अधीक्षक , मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी, नगर पालिका सीएमओ और अन्य अधिकारियों के साथ बैठक में फैसला लिया गया। जशपुर जिले में धारा 144 लागू रहेगी और धरना प्रदर्शन भी प्रतिबंधित रहेगा।

दुर्ग

जिले में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए जिला प्रशासन ने आज 20 से 30 सितंबर तक लॉक डाउन का निर्णय लिया है। इस संबंध में जनप्रतिनिधियों, सामाजिक संगठनों, व्यापारिक संगठनों की ओर से भी आग्रह किया गया था।

स्थितियों पर विचार कर जिला प्रशासन ने लॉक डाउन लगाने का निर्णय किया है। कलेक्टर डॉ सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने सभी नागरिकों से आह्वान किया है कि लॉक डाउन का पूरी तरह से पालन करें। इस समय असावधानी बरती गई तो कोरोना संक्रमण की स्थिति को नियंत्रित करने में गंभीर परेशानी हो सकती है।

कलेक्टर ने कहा है कि लॉक डाउन का उद्देश्य कोरोना संक्रमण को रोकना है। इस समय नागरिकों की भी बड़ी जिम्मेदारी है कि वे संयम का परिचय देते हुए लॉक डाउन को सफल बनायें ताकि जिले को संक्रमण से मुक्त करने की बड़ी लड़ाई में सफलता मिल सके।

वहीं जिले की सभी दुकानों, व्यावसायिक प्रतिष्ठानों, फैक्ट्री, गोदाम व साप्ताहिक हाट को भी बंद कर दिया जायेगा, हालांकि इमरजेंसी उत्पाद करने वाली फैक्ट्रियों को छूट दी जायेगी। वहीं धार्मिक, सांस्कृतिक व पर्यटन स्थल को भी बंद कर दिया जायेगा। बिना मास्क के बाहर निकलने पर 100 रुपये का जुर्माना और दूसरी बार बिना मास्क के पकड़े जाने पर कानूनी कार्रवाई की जायेगी.

बिलासपुर

छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण बेकाबू हो चुका है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण की चेन को तोड़ने की कवायद के तहत बिलासपुर समेत ज़िले के नगरीय निकाय क्षेत्रों को कंटेनमेंट ज़ोन घोषित किया जा रहा है।

इन इलाक़ों में लॉकडाउन होगा जो कि 23 सितंबर को सुबह पाँच बजे से शुरु होगा जो कि 28 सितंबर की रात बारह बजे तक जारी रहेगा। इन कंटेनमेंट ज़ोन सख्ती से लॉकडाउन प्रभावी रहेगा।

एलपीजी वितरण केवल टेलीफोन अथवा ऑनलाइन ऑर्डर लेंगे। आवश्यक वस्तुओं से जुड़े वाहनों जैसे दवा चिकित्सा उपकरण आदि को परिवहन की अनुमति होगी। नगरीय निकाय क्षेत्र की सभी शराब दुकानें बंद रहेंगी। कोरोना के रोकथाम को लेकर किए जा रहे स्वास्थ्य विभाग और सहायक एजेंसियों के काम जारी रहेंगे।

बैंकों का संचालन सुबह दस से बारह तक ही होगा। पेट्रोल पंप सुबह सात से बारह बजे तक खुले रहेंगे।दूध पार्लर का समय सुबह 6 से 8 और शाम पाँच बजे से साढ़े छ तक का तय किया गया है।पशु चारा ऐक्वेरियम को केवल पशुओं को चारा देने हेतु सुबह छ से आठ और शाम पाँच से साढ़े छ तक खोले रखे जा सकेंगे।

धमतरी

कलेक्टर जय प्रकाश मौर्य ने व्यापारी संघों के प्रतिनिधिमंडल से बात कर फैसला लिया है कि 22 सितंबर से 10 दिनों तक कंटेनमेंट जोन घोषित कर जिले के नगरीय निकायों में संपूर्ण दुकान बंद रखी जाएंगी।

रूप रेखा पर चर्चा करते हुए सब्जी, फल, किराना, शराब दुकान एवं अन्य सभी की दुकानें भी रहेंगी बंद। अत्यावश्यक सेवाओं सम्बन्धी संस्थान, दूध, पेट्रोल पंप, मेडिकल और गैस एजेंसी खुली रहेगी।

मंगलवार 22 सितंबर से सभी नगरीय निकायों के वार्डों को 10 दिनों के लिए कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा, कलेक्टर ने व्यापारी संघों के प्रतिनिधि मंडल से बैठक में चर्चा कर रूप-रेखा की तैयार, कोरोना संक्रमण से बचाव एवं सुरक्षा के मद्देनजर, अIवश्यक सेवाओं संबंधी संस्थान रहेंगी चालू।

कलेक्टर श्री जय प्रकाश मौर्य द्वारा बताया गया है कि कोरोना संक्रमण से सुरक्षा और बचाव के मद्देनजर मंगलवार 22 सितंबर से धमतरी जिले के सभी नगरीय निकायों के सभी वार्डों को कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा। उन्होंने आज व्यापारी संघों के प्रतिनिधि मंडल से कोविड 19 के संक्रमण और उससे बचाव के संबंध में विस्तार से चर्चा की तथा कंटेनमेंट जोन में कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए रूप-रेखा भी तैयार की। उन्होंने बताया कि मंगलवार से सभी वार्डों को कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा, लेकिन इससे पहले नगरीय निकाय के अमले को इस संबंध में लोगों को जानकारी देना आवश्यक होगा, जिससे कि लोगों को बेवजह तकलीफ नहीं हो।

बैठक में कलेक्टर ने बताया कि इन कंटेनमेंट जोन में कोई भी किराना, सब्जी, फल की दुकान खोली नहीं जाएंगी, किन्तु अत्यावश्यक सेवाओं संबंधी संस्थान/कार्यालय, अस्पताल, नर्सिंग होम, खुली रहेंगी। गैस एजेंसी अपने निर्धारित अवधि में खुला रहेगा तथा मेडिकल, पेट्रोल पम्प चैबीसों घंटे खुले रहेंगे। दूध के लिए सुबह 6 से सुबह 10 बजे का समय तय किया गया है।

इसके साथ ही जिले के सभी पर्यटन स्थल, चाहे वह नगरीय निकाय अथवा ग्रामीण क्षेत्र में हो, वे भी इन दस दिनों में बंद रहेंगे। बैठक में उपस्थित प्रतिनिधि मंडल से कलेक्टर ने अपेक्षा की कि वे इन दस दिनों में लोगों में कोविड 19 के संबंध में जागरूकता लाने का काम करेंगे, जिसमें सामाजिक दूरी, मास्क पहनना तथा सेनिटाईजेशन की महत्ता लोगों को समझाई जाएगी। प्रतिनिधि मंडल ने भी सहमति जताई कि वे व्यापारियों तथा लोगों में जागरूकता लाने का हरसंभव प्रयास करेंगे।

यदि इन दस दिनों के बाद जब पुनः सभी व्यापार शुरू होगा और व्यापारी कोविड 19 का प्रोटोकाॅल का पालन नहीं करते हैं, तो व्यापारी संघ स्वयं संज्ञान में लेकर उन पर उचित कार्रवाई करेगा।
इसके अलावा नगरीय निकाय के अमले को भी कलेक्टर ने निर्देशित किया है कि वे कंटेनमेंट जोन अवधि के दौरान नगरीय निकायों का सेनिटाईजेशन करा लें।

उन्होंने बैठक के अंत में जिलेवासियों से अपील की कि वे अनावश्यक घरों से नहीं निकलें तथा जब भी किसी काम से बाहर जाएं, तो मास्क का उपयोग जरूर करें और सामाजिक दूरी का भी पालन कर कोविड 19 से स्वयं और अपने परिवार का बचाव करें।

सूरजपुर

सूरजपुर जिले में भी 22 सितंबर की रात्रि 9 बजे से 1 अक्टूबर की रात्रि 9 बजे तक लॉक डाउन लगाया जाएगा। जिला दंडाधिकारी और कलेक्टर रणबीर शर्मा ने इसे लेकर आदेश जारी किया है। लॉकडाउन अवधि के दौरान होने वाली परीक्षाओं के लिए प्रवेश कार्ड ही ई-पास के रूप में मान्य होगा।

मीडियाकर्मियों को वर्क फ्रोम होम कहा गया है, वहीं बाहर निकलने पर नियमों के पालन का निर्देश दिया गया है। दूध पार्लर व दुकान दो वक्त दो-दो घंटे के लिए खुलेंगे। लाकडाउन के दौरान सभी केंद्रीय, शासकीय व अर्धशासकीय व निजी कार्यालय बंद रहेंगे, वहीं शराब दुकानों को भी नगर निगम सीमा के अंदर बंद रखा जायेगा।

जारी आदेश अनुसार,

सूरजपुर जिले में आज दिनांक तक 1091 से अधिक कोरोना वायरस (COVID-19) पॉजिटिव मरीजों की पहचान हो चुकी है तथा प्रतिदिन औषतन 40 की संख्या पॉजिटिव मरीज मिल रहे हैं। कोरोना वायरस के प्रसार की रोकथाम हेतु लगातार प्रयासों के बावजूद कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। ऐसी दशा में कोरोना वायरस (COVID-19) की रोकथाम एवं देन को जोड़ने हेतु जिला-सूरजपुर के सम्पूर्ण क्षेत्र को कन्टेनमेंट जोन घोषित किया जाना आवश्यक हो गया है।

अतएव दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 144, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 30, 40 सहपठित एपिडेमिक डिजीज एक्ट 1897 यथासंशोधित 2020 द्वारा प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए मैं, रणबीर शर्मा, कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी, जिला-सूरजपुर निम्नलिखित आदेश प्रसारित करता

दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 144 सूरजपुर जिले के सम्पूर्ण क्षेत्र में दिनांक 22.09.2020 रात्रि 09:00 बजे से 01.10.2020 के रात्रि 09.00 बजे की अवधि हेतु लागू की जाती है तथा सूरजपुर जिला अंतर्गत सम्पूर्ण क्षेत्र को कन्टेनमेंट जोन घोषित किया जाता है।

उपरोक्त दर्शित अवधि में सूरजपुर जिले की सम्पूर्ण सीमाएं पूर्णतः सील रहेगी। उपरोक्त अवधि में केवल मेडिकल दुकानों को अपने निर्धारित समय में खुलने की अनुमति होगी। मरीज एवं मेडिकल दुकान संचालक दवाओं की होम डिलिवरी व्यवस्था को प्राथमिकता देंगे।

पेट्रोल पंप संचालकों द्वारा केवल शासकीय वाहनों व शासकीय कार्य में प्रयुक्त वाहन, मेडिकल

इमरजेन्सी से संबंधित निजी वाहन/एम्बुलेंस, एल.पी.जी, परिवहन तथा मोबाईल कंपनियों के टावर कार्य में प्रयुक्त वाहनों को ही पी.ओ.एल. प्रदाय किया जायेगा। अन्य सभी वाहनों हेतु पी.ओ.एल, प्रदान करना पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। दुग्ध पार्लर द वितरण की समयावधि प्रातः 0600 बजे से प्रातः 08:00 बजे तक एवं संध्या 05:00 बजे से संध्या 07.00 बजे तक ही होगी। साथ ही यह स्पष्ट किया जाता है कि दुन्ध व्यवसाय 5.

हेतु कोई भी दुकान/पार्लर उपरोक्त समयावधि के अलावा नहीं खोले जायेंगे तथा दुकान/ पार्लर के सामने फिजिकल डिस्टेसिंग एवं मास्क सम्बन्धी निर्देशों का अनिवार्यतः पालन करते हुये उपरोक्त समय अवधि में केवल दूध विक्रय की अनुमति होगी।

पेट शॉप/एक्वेरियम को केवल पशुओं को पशुचारा देने हेतु प्रातः 0600 बजे से प्रातः 08:00 बजे तक एवं संध्या 0500 बजे से संध्या 08:30 बजे तक शॉप खोलने की अनुमति होगी।

न्यूज पेपर हॉकर प्रातः 06:00 बजे से प्रातः 08:00 बजे तक ही न्यूज पेपर वितरित कर सकेंगे 8. यदि वे पंजीकृत पत्रकार हैं तो उन्हें पेट्रोल पम्प से पी.ओ.एल. लेने की अनुमति होगी। एल.पी.जी. गैस सिलेण्डर की एजेंसियां केवल टेलीफोन या ऑनलाईन ऑर्डर लेंगे तथा

ग्राहकों को सिलेंडर की घर पहुंच सेवा उपलब्ध कराएंगे।

औद्योगिक संस्थानों एवं निर्माण इकाईयों को अपने कैम्पस के भीतर ( Onsite) मजदूरों को रखकर व अन्य आवश्यक व्यवस्था करते हुये उद्योगों के संचालन व निर्माण कार्यों की अनुमति होगी। उक्त अवधि के दौरान सम्पूर्ण सूरजपुर जिले के क्षेत्रान्तर्गत संचालित समस्त शराब दुकानें बंद

रहेंगी। सभी धार्मिक, सांस्कृतिक एवं पर्यटन स्थल आम जनता के लिए पूर्णतः बंद रहेंगे।

उपरोक्त अवधि में सूरजपुर जिला अन्तर्गत सभी केंद्रीय/ शासकीय / अर्द्धशासकीय एवं निजी कार्यालय बंद रहेंगे।

एस.ई.सी.एल. के कर्मचारी एस.ई.सी.एल. की बसों के माध्यम से ही ड्यूटी आना जाना करेंगे। सभी प्रकार की सभा, जुलूस, आयोजन आदि प्रतिबंधित रहेंगे।

होम आईसोलेशन में रह रहे कोविड पॉजिटिव मरीजों को भोजन की समस्या उत्पन्न होने पर

कोविड केयर सेंटर आवश्यकतानुसार भेजा जावेगा। आपात स्थिति में मोबाईन नं, 9301250252, 9111033446 में आवश्यकतानुसार सम्पर्क किया जा सकता है। कोविड संक्रमण के रोकथान हेतु सूरजपुर जिले में समस्त कार्य जैसे कांटेक्ट ट्रेसिंग, एक्टिय सर्विलांस, होम आइसोलेशन, दवाई वितरण आदि पूर्वानुसार चलते रहेंगे। इस कार्य में संलग्न

सभी शासकीय कर्मचारियों की उपस्थिति पूर्वानुसार अनिवार्य होगी। कोविड केयर सेंटर से

डिस्चार्ज होने वाले मरीजों के परिवहन में संलग्न वाहन पूर्वानुसार संचालित रहेंगे। अपरिहार्य परिस्थितियों में सूरजपुर जिले के क्षेत्र से अन्यत्र जाने वाले यात्रियों को ई-पास के माध्यम से पूर्व अनुमति लिया जाना अनिवार्य होगा।

आपात स्थिति में यात्रा के दौरान 04 पहिया वाहनों में ड्राईवर सहित अधिकतम 03 एवं 02 पहिया वाहन में केवल 02 व्यक्तियों को यात्रा की अनुमति होगी। इस निर्देश का उल्लघन किये जाने पर 15 दिवस हेतु वाहन जप्त करते हुए चालानी व अन्य कानूनी कार्यवाही की जावेगी।

मीडिया कर्मी यथासंभव वर्क फ्राम होम द्वारा कार्य संपादित करेंगे। अत्यावश्यक स्थिति में कार्य हेतु बाहर निकलने पर अपना आई-कार्ड साथ रखेंगे तथा फिजिकल डिस्टेंसिंग एवं मास्क

संबंधी निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करेंगे।

बालोद

22/09/2020 से 30/09/2020 तक संपूर्ण नगरीय निकाय क्षेत्र बालोद जिला लाकडाऊन ,कुछ आवश्यक सेवाओ मे,फल सब्जी ,मांस मटन मे कुछ घंटो के लिए छुट , किराना दुकान ,शराब भट्टी भी रहेगी बंद।

आदेश अनुसार विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यू.एच.ओ.) के अनुसार वर्तमान में नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) एक संक्रामक बीमारी है। इस बीमारी से भारत समेत पूरे विश्व के देशों के लिए खतरा उत्पन्न हो गया है स्वास्थ्य की दृष्टि से यह तथ्य परिलक्षित है कि कोरोना वायरस के संपर्क से पीड़ित, संदेही से दूर रहने की सख्त हिदायत है।

छ0ग0 शासन के द्वारा भी निर्देशित है कि इससे बचने के सभी संभावित उपाय अमल में लाया जावे। वर्तमान में छ0ग0 राज्य सहित बालोद जिले में भी कोरोना वायरस के संक्रमण का व्यापक फैलाव हो रहा है। इसके व्यापक प्रसार के संभाव्य को देखते हुए इसके प्रसार को रोकने के लिए कड़े सामाजिक अलगाव के उपायों को अपनाना उचित एवं आवश्यक हो गया है।

महामारी रोग अधिनियम, 1897 के संदर्भ में शासन द्वारा जारी पत्र कमांक/एफ 1-26/2020/17-1, दिनांक 13/03/2020 के अन्तर्गत दिए गए शक्तियों का प्रयोग में लाते हुए तथा दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 प्रभावशील कर बालोद जिले के समस्त नगरीय निकाय हेतु प्रतिबंधात्मक आदेश 30/09/2020 तक जारी किया गया है।

वर्तमान संक्रमण के फैलाव एवं स्वास्थ्यगत आपातकालीन स्थिति को

नियंत्रित रखने हेतु एवं जिले के नागरिकों की मांग के आधार पर महामारी रोग अधिनियम 1897 एवं दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत फेस मास्क/सोशल/फिजिकल डिस्टेंस रखने के संबंध समय-समय पर छ0ग0 शासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का अनिवार्य रूप से पालन करने की शर्त पर बालोद जिला के समस्त नगरीय निकाय क्षेत्रों एवं प्रभावित ग्राम पंचायतों में दिनांक 22/09/2020 से

30/09/2020 तक निम्नानुसार प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया जाता है। 1 जिले में स्थित भारत सरकार एवं राज्य सरकार के अधीन समस्त शासकीय/अर्द्धशासकीय/निजी कार्यालय प्रतिबंध से मुक्त रहेंगे।

मॉल एवं ऑडिटोरियम, असेम्बली हॉल एवं इस प्रकार के संस्थान बंद रहेंगे।

धार्मिक स्थलों में पूर्व में जारी निर्देशों के तहत पूजा-अर्जना की जा सकेंगी,

4

किंतु धार्मिक/सांस्कृतिक/सामाजिक कार्यक्रम प्रतिबंधित रहेंगे। 5 जिले के प्रतिबंधित शहरी क्षेत्रों में परिवहन सेवाएं, जिसमें टैक्सी, ऑटो-रिक्शा, इत्यादि शामिल है, प्रतिबंधित रहेंगी।

6 ई-रिक्शा, रिक्शा अंतर्जिला एवं अंतर्राज्यीय बस परिवहन सेवाएं चालू रहेंगी।

7 मास्क, सेनेटाईजर, दवाईयां, एटीएम वाहन, एल.पी.जी गैस सिलेण्डर एवं ऑक्सीजन सिलेंडर का परिवहन करने वाले वाहन एवं अन्य आवश्यक सेवाएं वाले वाहन को परिवहन की अनुमति रहेगी

स्वास्थ्य सेवाएं (जिसके अंतर्गत सभी अस्पताल, मेडिकल कॉलेज, लाइसेंस पंजीकृत क्लीनिक भी शामिल है।) निर्वाध रूप से संचालित होंगे।

आवश्यक वस्तुओं से जुड़े वाहनों (मेडिकल, इमरजेंसी वाणिज्यिक कार्यों ) के

परिवहन की अनुमति रहेगी। छूट प्राप्त दुकानदारों को अपने दुकान/संस्थान विक्रय हेतु मास्क रखना अनिवार्य होगा ताकि बिना मास्क पहने खरीदारी करने आए ग्राहको को

सर्वप्रथम मास्क/वितरण किया जाए तत्पश्चात अन्य वस्तु/सेवाओं का विकय किया जावें। इसी प्रकार प्रत्येक दुकान/संस्थान में स्वयं तथा आगंतुकों के उपयोग हेतु सैनिटाईजर रखना अनिवार्य होगा।

23 24 25 किराना दुकानदार किराना सामग्रियों की होम डिलीवरी कर सकेंगे। सार्वजनिक स्थानों पर पान गुटखा इत्यादि खाकर थूकना प्रतिबंधित रहेगा। पूर्व के ही समान किसी भी प्रकार की सभा, आयोजन, जुलूस इत्यादि पर लगा

प्रतिबंध जारी रहेगा। पशु चारा, खाद्य आपूर्ति से संबंधित परिवहन सेवाएं निर्वाध रूप से संचालित रहेगी। 26

27 बिजली, पेयजल आपूर्ति एवं नगर पालिका सेवाएं जिसमें सफाई, सिवरेज एवं कचरे का डिस्पोजल इत्यादि भी शामिल है। जेल, अग्निशमन सेवाएं, एटीएम, प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया टेलीकॉम/इंटरनेट सेवाएं/आई.टी. आधारित सेवाएं, पेट्रोल/डीजल पम्प एवं एल.पी.जी./सी.एन.जी, गैस के परिवहन एवं भंडारण की गतिविधियां, पोस्टल सेवाएं, निर्बाध रूप से संचालित रहेगी। खाद्य, दवा एवं चिकित्सा उपकरण सहित सभी आवश्यक वस्तुओं की ई कॉमर्स आपूर्ति, सुरक्षा कार्य में लगी सभी एजेंसियां (निजी एजेंसियां सहित) निर्बाध रूप से संचालित रहेगी।

अनवरत् उत्पादन प्रक्रिया अपनाने वाले जिले में स्थित औद्योगिक संस्थान अथवा फैक्ट्री (जिसमे ब्लास्ट, फर्नेश, बायलय आदि हो) सीमेंट, स्टील, शक्कर, फर्टिलाईजर एवं खान कोरोना संक्रमण विस्तार को दृष्टिगत रहते हुए भारत सरकार, राज्य शासन तथा समय समय पर अन्य संस्थानों के द्वारा महामारी से सुरक्षा हेतु दिए जा रहे निर्देशों का अक्षरशः पालन करने के शर्तों पर संचालित रहेंगे।

न्यूनतम उपार्जन मूल्य पर उपार्जन में सम्मिलित एजेंसियों सहित कृषि उत्पादों के उपार्जन में शामिल एजेंसियां इसमें मण्डी बोर्ड द्वारा संचालित अथवा राज्य शासन द्वारा अधिसूचित मण्डियां भी शामिल है। कृषि व्यवसाय हेतु कृषि उपकरण, खाद बीज आदि की संचालित रहेंगी।

सभी प्रकार के निर्माण कार्य शासकीय/निजी प्रतिबंध से मुक्त रहेंगे। कृषि कार्य एवं उससे संबंधित गतिविधियां निर्बाध रूप से संचालित रहेंगी। विदेश से आने वाले सभी नागरिक/ अन्य राज्यों से आए हुए नागरिक जो होम क्वारेंटाईन की निगरानी में रखे गए हैं, उन्हें यह निर्देशित किया जाता है कि वे स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा निर्धारित क्वारेंटाईन की अवधि का कड़ाई से पालन करेंगे। इसमें किसी प्रकार की चूक होने पर उनके विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता, 1860 की धारा 188 के तहत कार्यवाही की जाएगी जिसके लिए वे स्वयं जिम्मेदार होंगे।

कोरोना संक्रमित मरीज पाए जाने की स्थिति में कन्टेंमेंट जोन में पूर्व की भांति

सभी गतिविधियां प्रतिबंधित रहेंगी।

मुंगेली

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के चलते मुंगेली जिले के नगरीय निकाय क्षेत्रों में 1 हफ्ते का संपूर्ण लॉकडाउन किया गया है. लॉकडाउन आज से लग गया है, जो 23 सितंबर तक रहेगा.

कलेक्टर ने बीते दिनों इसका आदेश जारी किया था. सरकारी व निजी कार्यालयों को बंद करने के आदेश दिए हैं. कर्मचारियों को घर से काम करने कहा गया है.

मुंगेली कलेक्टर पीसी एल्मा ने अपने आदेश में कहा था कि जिले में कोरोना से बढ़े संक्रमण के मद्देनजर बचाव व आपातकालीन स्थिति को नियंत्रण के लिए जिलेवासियों की मांग पर आज 17 सितंबर से 23 सितंबर के रात 12 बजे तक नगरीय क्षेत्र को टोटल लॉकडाउन किया जा रहा है।

कलेक्टर के इस आदेश के बाद जिले सभी सरकारी कार्यालयों, अर्धशासकीय व अशासकीय कार्यालयों को तत्काल प्रभाव से बंद कर दिया जायेगा। हालांकि कर्मचारियों को मुख्यालय छोड़ने की इजाजत नहीं होगी। वहीं नगरीय क्षेत्र में बस, टैक्सी, आटो, ई रिक्शा को भी बंद कर दिया गया है, सिर्फ आपात स्थिति में ही वाहन को चलाने की इजाजत होगी।

वहीं जिले की सभी दुकानों, व्यावसायिक प्रतिष्ठानों, फैक्ट्री, गोदाम व साप्ताहिक हाट को भी बंद कर दिया जायेगा, हालांकि इमरजेंसी उत्पाद करने वाली फैक्ट्रियों को छूट दी जायेगी।

वहीं धार्मिक, सांस्कृतिक व पर्यटन स्थल को भी बंद कर दिया जायेगा। बिना मास्क के बाहर निकलने पर 100 रुपये का जुर्माना और दूसरी बार बिना मास्क के पकड़े जाने पर कानूनी कार्रवाई की जायेगी.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.