छोटे भाई को थप्पड़ मारने के बाद… दुखी हुई 10 साल की बहन…. फांसी लगाकर की आत्महत्या

आगरा। उत्तर प्रदेश में अपने पांच साल के भाई को थप्पड़ मारकर पछता रही उसकी दस साल की बहन ने खुदकुशी कर अपनी जान दे दी है। शनिवार की शाम को दोनों भाई-बहन की आपस में लड़ाई हुई थी, जिस दौरान बहन ने अपने छोटे भाई को थप्पड़ मार दिया था। इसके बाद वाले दिन रविवार को लड़की ने घर में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली।

बता दें कि मां की मौत के बाद बच्ची आगरा की फतेहाबाद तहसील के प्रताप पुरा गांव में अपनी बड़ी बहन और दो छोटे भाई-बहनों के साथ रहती थी। इन बच्चों के पिता पिछले कई सालों से लापता हैं।

साइकेट्रिस्ट ने बताई ये वजह

साइकेट्रिस्ट का कहना है कि यह किसी गलती के लिए पीटे जाने के डर से की गई खुदकुशी का मामला मालूम पड़ता है। इस मामले में शायद लड़की को इस बात का डर था कि छोटो भाई को मारने की गलती के लिए उसे अपनी बड़ी बहन से डांट या मार पड़ सकती है।

ऐसा भी हो सकता है कि लड़की पहले से ही डिप्रेशन हो। भाई के साथ हुई लड़ाई से वह और भी परेशान हो गई होगी और जिसके चलते उसने अपनी जान दे दी। पुलिस अधिकारी ने बताया कि बच्ची के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है और उन्हें इस मामले में कोई शिकायत नहीं मिली है।

दमाद की सरेआम पिटाई ,ससुर ,साले और सास ने लात घूंसे से पीटा… वहज जानकर हो जायेंगे हैरान

रायगढ़। पहले दामाद की जमकर की धुलाई और फ‍िर उसके ख‍िलाफ दर्ज कराया दहेज प्रताड़ना का मामला। रायगढ़ में एक परिवार का वीडियो अभी काफी चर्चा में है. युवक की ससुराल पक्षवालों ने दुकान में घुसकर 15 मिनट तक जमकर धुलाई की और बात बिगड़ते देख दामाद के खिलाफ दहेज प्रताड़ना का मामला भी दर्ज करा दिया. पीड़ित की गुहार धरी की धरी रह गई और इसी को कहते हैं पहले कानून को हाथ में लिया और फिर कानून का सहारा. कोतवाली थाना क्षेत्र के ढीमरापुर एक युवक की जमकर धुनाई की गई. पिटाई करने वाले ससुराल पक्ष के थे.

बताया जा रहा है क‍ि जूते-चप्पल की दुकान में काम करने वाले युवक दुष्यंत सिन्हा निवासी राजीवनगर की उसके ही के ससुर, साले और सास ने दुकान में घुसकर लात-घूंसों से जमकर पिटाई की. इस दौरान युवक की पत्नी में मौके खड़ी यह सबकुछ चुपचाप देखती रही. यह घटना शाम साढ़े 7 बजे की हैं, जब रोज की तरह दुष्यंत सिन्हा दुकान पर काम कर रहा था. इसी दौरान दुष्यंत सिन्हा के ससुर प्रकाश पटवा, साला, सास और पत्नी दुकान पर पहुंचे. इससे पहले कि वह कुछ समझ पाता उसके ससुरालवालों ने हमला कर दिया. दुष्यंत की जमकर लात घूसों से पिटाई की और करीब 15 मिनट तक उस पर लात-घूसों से पीटने के बाद वे वहां से चले गए. हालांकि मारपीट की यह पूरी वारदात CCTV कैमरे में कैद हो गई हैं, जिसमें साफ देखा जा सकता है कि किस बेहरमी से युवती के पिता ने पीड़ित युवक की पिटाई की हैं और अब उल्टे युवक के खिलाफ़ ही मामला दर्ज करा दिया.

PAINFUL : दरिंदगी की इंतहां… 18 दरिदों ने 9 दिनों तक… नाबालिग के जिस्म को नोचा… करते रहे अत्याचार

महज 15 साल की युवती सेे 18 से ज्यादा दरिंदों ने 9 दिनों तक ना केवल अपनी हवस बुझाई, बल्कि वहशीपन की तमाम हदों को पार कर दिया। हवस के उन अंधों को उस मासूम का दर्द भी नजर आया और केवल पागलों की तरह उसके जिस्म को नोंचते व कुरेदते रहे। दर्द से बेहाल उस मासूम से 9 दिनों के भीतर कितनी बार रेप किया गया, उसकी गिनती भी नहीं है।

पूरा मामला राजस्थान के झालवाड़ा का है, जहां कोटा की एक 15 साल की बच्ची को झालावाड़ ले जाकर 18 से ज्यादा दरिंदों ने 9 दिनों तक उसके साथ कई बार रेप किया। जब वो दर्द से कराहती, तो उसे नशा दे दिया जाता। नशे से मना करती, तो बुरी तरह पीटा जाता। घर छोड़ने की मिन्नतें करती तो चाकू दिखाकर डराया धमकाया जाता।

सहेली ने दिया दगा

पीड़ित लड़की का कहना है कि 25 फरवरी को उसकी पहचान की लड़की और उसका साथी उसे बैग दिलाने के बहाने कोटा के सुकेत से झालावाड़ ले गए थे। वहां उसे दरिंदों के हवाले कर दिया, जिन्होंने 9 दिनों तक घर, होटल, निर्माणाधीन मकान और खेत में उससे कई बार रेप किया। 5 मार्च को वापस सुकेत छोड़ा।

पुलिस पर रिपोर्ट न लिखने का आरोप
6 मार्च को पीड़ित ने विधवा मां के साथ जाकर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई। पीड़ित के भाई का आरोप है कि वह बहन की गुमशुदगी दर्ज कराने के लिए कई बार थाने गया, लेकिन पुलिस वालों ने उसे भगा दिया। पीड़ित की मां का कहना है कि दरिंदों को फांसी दी जानी चाहिए। अब तक 4 नाबालिग समेत 20 आरोपी पकड़े जा चुके हैं। रामगंजमंडी के डीएसपी मंजीत सिंह ने कहा कि 1-2 दिन में बाकी आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

प्रदेश के इस जिले में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़… 3 युवक समेत 2 युवतियों को पुलिस ने किया गिरफ़्तार

रायगढ़। कोतवाली पुलिस ने सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया है. पुलिस ने सर्किट हाउस के पास एक मकान में छापेमारी की. मकान में 3 युवक और 2 युवतियां आपत्तिजनक स्थिति में मिले. पुलिस ने पांचों पर पीटा एक्ट के तहत कार्रवाई की है. दरअसल, स्थानीय लोगों ने पुलिस को सूचना दी थी. इसके बाद रायगढ़ एसपी ने रायगढ़ सीएसपी अविनाश सिंह ठाकुर को कार्रवाई करने के लिए निर्देशित किया.

सीएसपी अविनाश सिंह ने प्वॉइंटर को उक्त मकान में भेजा. जहां दो युवती और तीन युवक आपत्तिजनक हालत में मिले. तत्काल प्वॉइंटर ने रेड टीम को सूचना दी. रायगढ़ सीएसपी, कोतवाली टीआई मनीष नागर, उप निरीक्षक बीएस डहरिया समेत कई अधिकारी मौके पर पहुंचे. मकान में छापेमारी की. पुलिस को मौके पर आपत्तिजनक हालत में दो युवती और तीन युवक दिलखुश यादव, ओम प्रकाश भोय और दीपक कुमार गुप्ता मिले. पुलिस की टीम मौके से 5 मोबाइल, युवतियों के पास से 1700 रुपये और आपत्तिजनक सामान जब्त की है. सभी आरोपियों को हिरासत में लेकर थाना लाया गया है.

लड़के को बहकाकर लड़की ने बनाया अश्लील वीडियो… और फिर मांगे पैसे… कहा नहीं देने पर…

एक लडकी ने पहले युवक को बहकाकर उसका अश्लील वीडियो बना लिए और फिर उसे वायरल कर देने की धमकी देकर पैसे मांगने लगी। मध्य प्रदेश के जबलपुर से एक हैरान कर देने मामला सामने आया है। अब हैरान-परेशान युवक ने थाने में एक युवती के खिलाफ ब्लैकमेलिंग की शिकायत दर्ज कराई है। साथ ही युवक ने शिकायत में बताया है कि लड़की को जब उसने पैसे देने से मना कर दिया तो उसने वीडियो वायरल कर दिया। हालांकि, पुलिस ने बताया है कि साइबर एक्सपर्ट्स की मदद से वीडियो सोशल मीडिया से हटवा दिया गया है।

जानकारी के अनुसार, युवक दिक्षितपुरा इलाके का रहने वाला है और वह पास के ही कचियाना में प्रिंटिंग की दुकान चलाता है। उसने बताया कि करीब 15 दिन पहले सोशल मीडिया पर उसकी एक लडकी से दोस्ती हुई थी। इस दौरान बातचीत होती रही। इसके बाद लडकी ने वीडियो कॉल करने को कहा लेकिन उसने युवक के सामने शर्त रखी कि अगर वह न्यूड होकर वीडियो कॉल करेगा, तभी वह चेहरा दिखाएगी। ऐसे में युवक लड़की के जाल में फंस गया और लड़की ने उसके कॉल को रिकॉर्ड कर लिया। इसके बाद वह ब्लैकमेल करने लगी।

पुलिस का कहना है कि पीड़ित की मदद की जा रही है, साथ ही पता लगाया जा रहा है कि आखिर ब्लैकमेलर है कौन? लेकिन पुलिस का कहना है कि हो सकता है यह किसी एक गिरोह का काम हो। क्योंकि, इस तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं। पुलिस ने बताया कि लड़की युवक से वीडियो वायरल न करने के बदले बीस हजार रूपये की मांग कर रही थी।

इस मामले में पीड़ित का आरोप है कि जब उसने लड़की को पैसे नहीं दिए तो उसका वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड भी कर दिया गया है। पीड़ित के इस आरोप पर जवाब देते हुए मामले की जांच कर रहे एसआई संतराम बागरी ने बताया कि युवक का वीडियो सोशल मीडिया से हटवा दिया गया है और साइबर सेल की मदद से मामले की छानबीन जारी है।

जोमैटो मह‍िला ग्राहक के खिलाफ अब FIR,  डिलिवरी ब्वॉय के साथ मारपीट करने का आरोप

नई दिल्ली। फूड डिलीवरी कंपनी जोमैटो के डिलीवरी बॉय और मह‍िला ग्राहक के बीच हाथापाई वाले केस में अब एक नया मोड़ देखने को मिल रहा है. अब तक पीड़िता बनी हुई महिला के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. महिला पर डिलिवरी ब्वॉय के साथ मारपीट करने का आरोप लगा है.

शिकायत में कहा गया है कि आरोपी महिला ने डिलीवरी ब्वॉय को चप्पल से पीटा, गालियां दी और फिर बाद में उसी के खिलाफ झूठी शिकायत दर्ज करवा दी. यह एफआईआर कामराज की शिकायत पर दर्ज कराई गई है. इलेक्ट्रॉनिक सिटी पुलिस स्टेशन में फिलहाल मामला दर्ज कर लिया गया है.

क्या है मामला?

दरअसल, कुछ दिनों पहले एक मह‍िला ने वीड‍ियो शेयर कर बताया था कि ऑर्डर कैंसल करने पर जोमैटो के डिलीवरी ब्वॉय ने उन्हें मुंह पर मुक्का मारकर जख्मी कर दिया है. उनका यह वीड‍ियो काफी वायरल हुआ था जिसके बाद लोग कह रहे थे कि मह‍िला के साथ गलत हुआ है. इसके बाद उस जोमैटो डिलीवरी ब्वॉय को कंपनी ने काम से निकाल दिया था.

डिलीवरी ब्वॉय के साथ हुए इस कार्रवाई के बाद उसका पक्ष लिया गया जहां डिलीवरी ब्वॉय ने मह‍िला की बातों को झूठ बताया. डिलीवरी ब्वॉय का कहना है कि मह‍िला ने उन्हें चप्पल से मारना शुरू कर दिया था, जब इसने अपने बचाव में हाथ उठाया तो उस मह‍िला को अपनी ही अंगूठी से नाक पर चोट लग गई.

मह‍िला और डिलीवरी ब्वॉय दोनों के पक्ष सामने आने के बाद सोशल मीडिया दो हिस्सों में बंट गया है. वहीं कई सोशल मीडिया यूजर्स डिलीवरी ब्वॉय को सही बता रहे हैं और उसे इंसाफ दिलाने की मांग कर रहे हैं.

महिला का आरोप
पीड़ित महिला ने बताया कि उन्होंने जोमैटो के जरिए खाना ऑर्डर किया था. ऑर्डर में होने वाली देरी का कारण जानने के लिए महिला ने कंपनी के कस्टमर केयर पर फोन किया और तय समय पर डिलिवरी नहीं देने पर ऑर्डर कैंसिल कर दिया. जिस वक्त वो कस्टमर केयर से बात कर रही थी उसी दौरान डिलिवरी ब्वॉय उसके घर खाना लेकर पहुंच गया.

महिला ने बताया कि उसने आधा दरवाजा खोलकर जैसे ही खाना लेने से इनकार कर दिया डिलिवरी ब्वॉय गुस्से में आ गया. वो महिला से बहस करने लगा और फिर घर के अंदर घुस कर खाना रख दिया. महिला ने जब घर में घुसने का विरोध किया तो डिलिवरी ब्वॉय ने उस पर खीजते हुए पूछा कि क्या वो उसका नौकर है और एक घूंसा नाक पर मार दिया.

इसके बाद डिलिवरी ब्वॉय वहां से फरार हो गया और किसी ने भी महिला की मदद नहीं की. इस वाकया ने मुझे बेहद डरा दिया. इसके बाद मैं अस्पताल गई जहां मैने अपना इलाज करवाया. मेरी वर्तमान स्थिति बात करने लायक भी नहीं है. वीडियो में महिला ने बताया कि हालांकि बेंगलुरु पुलिस ने उनकी मदद की और उन्हें आरोपी को जल्द से जल्द पकड़ने का आश्वासन दिया.

शर्मसार : पति के सामने ही… पत्नी से 5 लोगों ने किया दुष्कर्म…

राजस्थान के बारन जिले में पति के सामने एक महिला से 5 लोगों ने कथित तौर पर गैंगरेप किया। पुलिस के मुताबिक, मामला शनिवार का है जब 30 वर्षीय पीड़ित महिला अपने पति और 8 साल की बहन के साथ बाइक पर घर लौट रही थी। उसी समय 5 लोगों ने महिला को खेत में ले जाकर बलात्कार किया।

महिला बारन में ही बालाजी मंदिर से दर्शन के बाद अपने घर लौट रही थी। एसपी विनीत कुमार बंसल ने बताया कि महिला का आरोप है कि बलात्कार करने वाले 5 लोगों में उसके पूर्व पति का भाई भी शामिल था। महिला ने बताया कि पांचों ने उनकी बाइक को बारन-अटरू हाईवे पर रोका।

इसके बाद आरोपी महिला और उसके पति को पास के खेत में ले गया। आरोपियों ने पति को बांध दिया और फिर उसके सामने ही महिला से बलात्कार कर फरार हो गए।

बाद में महिला अपने पति के साद सदर पुलिस थाने पहुंची और वहां शिकायत दर्ज करवाई।

पुलिस ने बताया कि महिला की मेडिकल जांच हो गई है और उसका बयान भी दर्ज कर लिया गया। पुलिस फिलहाल आरोपियों को तलाश रही है। पुलिस ने बताया कि महिला और उसके पूर्व पति के परिवार ने पहले भी एक-दूसरे पर पुलिस केस किए हुए हैं, इसलिए पुलिस मामले की तफ्तीश हर ऐंगल से कर रही है।

CG बड़ी खबर : दो नाबालिग लड़कियों से जंगल में रेप… सातवीं और आठवीं की छात्राओं को ऐसे बनाया हवस का शिकार… एक अपचारी बालक सहित दो गिरफ्तार…

जशपुर । मामला जशपुर जिले के बगीचा थाना का है। दो नाबालिग लड़कियों के साथ रेप किया गया है। दोनों पीड़िता कक्षा सातवीं व आठवीं की छात्राएं हैं। जंगल ले जाकर युवकों ने हवस का शिकार बनाया है। पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए दो आरोपियों को हिरासत में लिया है।

थाना प्रभारी बोले ये

बगीचा थाना प्रभारी भास्कर शर्मा ने बताया कि दोनों मामलों में आरोपी समेत अपचारी बालक के विरुद्ध आईपीसी की धारा 363, 366, 376, 4 पोक्सो एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्ध कर उन्हें हिरासत में ले लिया है।

चौकी प्रभारी बोले ये

पंडरापाठ चौकी प्रभारी दिलबोध चौहान ने बताया कि 13 मार्च को उन्हें शिकायत मिली कि पिछले 24 घंटों से दो लड़कियां घर से गायब हैं। परिजन उन्हें कई स्थानों पर ढूंढा, लेकिन उनका कोई पता नहीं चला। इस बीच परिजनों को पता चला कि कुछ लोगों को जाड़ाकोना जंगल में देखा गया है, जहां परिजन पहुंचे तो आरोपी उन्हें देखकर भाग गए, जहां से नाबालिगों को वापस घर लाया गया।

जाने पूरा मामला

जानकारी के अनुसार, पण्ड्रापाठ पुलिस चाैकी क्षेत्र में 11 मार्च को एक बारात आई थी। इस दौरान गांव में नाच गाने का कार्यक्रम था, जिसमें पीड़ित नाबालिग गई थी। रात के लगभग 3 बजे जब वह नाच-गाने के बाद चूल्हे के पास बैठी हुई थी, तब आरोपी गंगाराम उसके पास आया और उससे शादी करने की बात कहते हुए उसे अपने साथ जंगल ले गया और दुष्कर्म किया।

इसी बीच दूसरी नाबालिग युवती भी रात के तीन बजे के आसपास अपने घर से बाहर निकली थी, जिसे गांव का ही एक अपचारी बालक अपने साथ जंगल ले गया और उसके साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम देकर फरार हो गया। पीड़ित युवती किसी तरह से वापस अपने घर आई और परिजनों को सारी बात बताई जिसके बाद उन्होंने थाने में शिकायत दर्ज कराई।

हैवानियत : 40 कुत्तों से रेप करने वाला दरिंदा गिरफ्तार… गिरफ्तारी के बाद जो कहा – सुनकर हो जायेंगे शर्मशार 

मुंबई। देश में आए दिन ऐसी कई घटना सामने आती है, जिसे सुनकर रूह कांप उठती है। एक ऐसी ही घटना सामने आई है, जो इंसानियत को शर्मसार करने वाली है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में एक 68 वर्षीय दरिंदे ने कुत्तों के साथ रेप किया हैं। जी हाँ, सुनकर हैरानी होगी, लेकिन ऐसा ही हुआ है। इस हैवान ने जानवरों को अपने हवस का शिकार बनाया है। यह घटना सुनकर सबके होश उड़ गए हैं।

इस हैवान का नाम अहमद शाह बताया गया है, जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। यह मामला बॉम्बे एनिमल राइट नामक संस्था के विजय मोहन मोहनानी ने दर्ज कराया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि अहमद शाह अभी तक कई जानवरों के साथ इस तरह का दुष्कर्म कर चुका है। साथ ही उन्होंने बताया है कि आरोपी ने अब तक 30 से 40 कुत्तों का रेप कर चूका है। मोहनानी के बयान और वीडियो के आधार पर डीएन नगर पुलिस ने कई धाराओं में मामला दर्ज कर दरिंदे को हिरासत में ले लिया है। जिसके बाद यह मामला सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है, जहां आरोपी को जमकर कोसा जा रहा है।

चेतवानी के बाद भी करता रहा दुष्कर्म

रिपोर्ट्स की मानें तो, आरोपी अहमद शाह एक सब्जी विक्रेता है जो जुहू गली में रहता है। वहीं इस वारदात का वीडियो भी वायरल हो चूका है, जिसमें इस हैवान की गंदी करतूत साफ़ देखि जा सकती है। साथ ही यह भी बताया गया है कि स्थानीय लोगों ने कई बार आरोपी को इस बारे में चेतावनी दी थी लेकिन उसने हर बार इन्हें अनसुना कर दिया था।

जानवरों को आपत्ति नहीं

खबर के अनुसार, पुलिस ने जब आरोपी से पूछताछ की, तो अहमद शाह ने कहा कि वह जानवरों को खाना देता है और उनके साथ रेप करता है। इसमें अगर जानवरों को कोई आपत्ति नहीं है तो यह क्राइम कैसे हुआ। उसका यह बयान लोगों का और भी खून खौला रहा है। वहीं, मोहनानी के मुताबिक, मंगलवार को उन्हें अहमद के इस कर्तोत को लेकर एक कॉल भी आया था। जहाँ उन्हें बताया कि एक व्यक्ति आवारा कुत्तों का रेप करता रहता है। सबूत के तौर पर उसने दिसंबर 2020 का एक वीडियो भी भेजा था, जिसे देखकर विजय मोहनानी चौंक गए थे। जिसके बाद इस बात की सुचना डीएन नगर पुलिस स्टेशन को दी गई। पुलिस अब जाँच में जुट गई है।

पोर्न साइट पर भाभी ने डाले ननद के फोटो और मोबाइल नंबर… अनजान युवकों के आने लगे फोन… बोले- कहां मिलोगी… फिर जो हुआ…

युवक तो युवतियों को परेशान करने के लिए कुछ भी कर गुजरते हैं। यहां मामला कुछ दूसरा है। भाभी ने ननद को बदनाम कर दिया। अश्लील वेबसाइट पर उसके फोटो अपलोड कर दिए। आरोप है कि उसे एस्कार्ट बता दिया। वक्त बेवक्त युवकों के फोन आने लगे। लड़के वीडियो कॉल करके अश्लील फरमाइश करने लगे। कीमत पूछने लगे। ननद की तहरीर पर सदर थाने में भाभी और एक युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस साइबर सेल की मदद से जांच कर रही है।

मामला आगरा जिले के सदर थाना क्षेत्र से संबंधित है। युवती ने पुलिस को बताया कि भाई की कुछ समय पहले मौत हो गई थी। भाई की मौत के बाद भाभी का व्यवहार बदल गया। मामूली बात पर उनसे उलझने लगीं। उनसे उल्टा सीधा बोलने लगीं। ज्यादातर समय घर से बाहर रहने लगीं। कहां गई थीं यह पूछने पर विवाद करने लगीं। कुछ दिन पहले अचानक उसके मोबाइल पर अनजान युवकों के फोन आने लगे। कोई देर रात वीडियो कॉल करता तो कोई दोपहर में फोन करके यह पूछता कि शाम को कहां मिलोगी। यह सुनकर उसके होश उड़ गए। समझ नहीं आ रहा था कि ये हो क्या रहा है। एक दिन में बीस-बीस फोन आने लगे। जो भी फोन करता ऐसे बात करता जैसे वह देह व्यापार में लिप्त है। उन्होंने एक युवक से पूछा कि नंबर कहां से मिला। उसे बताया कि नंबर तो वेबसाइट पर है। उनका फोटो भी है। इस जानकारी ने होश उड़ा दिए। ननद का आरोप है कि भाभी ने उसे बदनाम करने के लिए ऐसा किया है। अजय नाम का एक युवक भाभी के संपर्क में है। दोनों मिले हुए हैं।

युवक और भाभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया
पीड़िता ने बताया कि छह मार्च से वह परेशान है। रात को नींद नहीं आती है। पता नहीं किस-किसने फोटो देखे होंगे। दहशत में उन्होंने अपना मोबाइल नंबर ही बंद कर दिया है। कोई काम होता है तो मोबाइल ऑन करती हैं। पीड़ित ननद ने सदर थाने में अजय नाम युवक और भाभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। इंस्पेक्टर सदर जितेंद्र सिंह ने बताया कि तहरीर मिली थी। आईपीसी की धारा 354 सी और 67 आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

विवाद के पीछे कई कारण
इंस्पेक्टर सदर जितेंद्र सिंह ने बताया कि मुकदमा लिखा जाना जरूरी था। तहरीर मिली थी। पुलिस इस मामले की गहराई से जांच करेगी। विवाद के पीछे कई कारण हैं। आरोपित भाभी के पति का देहांत हो चुका है। ससुर भी नहीं हैं। ससुर की पेंशन सास को मिलती है। ननद भी विवाहित है। उसका पति विकलांग है। मकान के बंटवारे से लेकर पेंशन में हिस्सेदारी का भी विवाद है। भाभी ने ननद को बदनाम करने के लिए साइबर क्राइम किया होगा तो गिरफ्तारी होगी मगर इससे पहले पुलिस साक्ष्य संकलित करेगी।

Zomato केस में सच्चाई जानना चाहती हैं परिणीति चोपड़ा, की ये मांग

सोशल मीडिया पर हितेशा चंद्रानी नाम की एक मेकअप आर्टिस्ट और इन्फ्लुएंसर ने बीते दिनों ही एक वीडियो शेयर किया था। इस वीडियो में उसने आरोप लगाया था कि फ़ूड डिलीवरी बॉय ने उनके साथ मारपीट की और फरार हो गया। उसके वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हुए और उसके बाद बेंगलुरु पुलिस ने कामराज नाम के उस डिलीवरी बॉय को गिरफ्तार लिया। अब कामराज ने अपने बयान में हितेशा द्वारा लगाए गए सभी आरोपों को खारिज किया है और रोते-रोते सच्चाई बताई है।

युवक का कहना है सबसे पहले उस महिला ने उनके साथ मारपीट की कोशिश की और उन्हें चप्पल से मारा। इसी बीच हितेशा को उनके हाथ में पहने हुए फिंगर रिंग से नाक पर चोट लग गई। अब इस मामले में एक्ट्रेस परिणीति चोपड़ा ने सच्चाई जानने की मांग की है। हाल ही में परिणीति ने ट्विटर पर जोमेटो इंडिया को टैग करते हुए लिखा, “जोमेटो इंडिया- प्लीज सच्चाई बाहर लें और सच बताएं। अगर ये व्यक्ति मासूम है (मुझे लगता है कि वो है, तो उस महिला को सजा दिलवाने में हमारी मदद करें। ये अमानवीय, शर्मनाक और दर्दनाक है।।कृपया मुझे जरूर बताएं कि मैं किस तरह से मदद कर सकती हूं।”

आप सभी जानते ही होंगे यह मामला सामने आने के बाद कामराज ने एक मशहूर वेबसाइट को दिए अपने बयान में कहा, “मैं हितेशा के अपार्टमेंट पहुंचा और उन्हें खाना दिया और उम्मीद कर रहा था कि वो मुझे पेमेंट करेंगी क्योंकि उन्होंने कैश ऑन डिलीवरी का विकल्प चुन रखा था। मैंने उनसे माफी भी मांगी क्योंकि खाना देरी से पहुंचा था। रास्ते में ट्रैफिक और बेकार सड़क होने के चलते मुझे पहुंचने में देरी हो गई थी लेकिन उन्होंने मुझसे बदतमीजी से बात करना शुरू कर दिया।”

सोशल मीडिया पर हितेशा चंद्रानी नाम की एक मेकअप आर्टिस्ट और इन्फ्लुएंसर ने बीते दिनों ही एक वीडियो शेयर किया था। इस वीडियो में उसने आरोप लगाया था कि फ़ूड डिलीवरी बॉय ने उनके साथ मारपीट की और फरार हो गया। उसके वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हुए और उसके बाद बेंगलुरु पुलिस ने कामराज नाम के उस डिलीवरी बॉय को गिरफ्तार लिया। अब कामराज ने अपने बयान में हितेशा द्वारा लगाए गए सभी आरोपों को खारिज किया है और रोते-रोते सच्चाई बताई है।
युवक का कहना है सबसे पहले उस महिला ने उनके साथ मारपीट की कोशिश की और उन्हें चप्पल से मारा। इसी बीच हितेशा को उनके हाथ में पहने हुए फिंगर रिंग से नाक पर चोट लग गई। अब इस मामले में एक्ट्रेस परिणीति चोपड़ा ने सच्चाई जानने की मांग की है। हाल ही में परिणीति ने ट्विटर पर जोमेटो इंडिया को टैग करते हुए लिखा, “जोमेटो इंडिया- प्लीज सच्चाई बाहर लें और सच बताएं। अगर ये व्यक्ति मासूम है (मुझे लगता है कि वो है, तो उस महिला को सजा दिलवाने में हमारी मदद करें। ये अमानवीय, शर्मनाक और दर्दनाक है।।कृपया मुझे जरूर बताएं कि मैं किस तरह से मदद कर सकती हूं।”
आप सभी जानते ही होंगे यह मामला सामने आने के बाद कामराज ने एक मशहूर वेबसाइट को दिए अपने बयान में कहा, “मैं हितेशा के अपार्टमेंट पहुंचा और उन्हें खाना दिया और उम्मीद कर रहा था कि वो मुझे पेमेंट करेंगी क्योंकि उन्होंने कैश ऑन डिलीवरी का विकल्प चुन रखा था। मैंने उनसे माफी भी मांगी क्योंकि खाना देरी से पहुंचा था। रास्ते में ट्रैफिक और बेकार सड़क होने के चलते मुझे पहुंचने में देरी हो गई थी लेकिन उन्होंने मुझसे बदतमीजी से बात करना शुरू कर दिया।”

‘इतनी नफरत क्यों?’ थूक लगाकर रोटी सेंकने का दूसरा मामला आया सामने, मोहसिन गिरफ्तार

मेरठ: उत्तर प्रदेश के मेरठ के बाद अब सूबे के ही गाजियाबाद से रोटी बनाते वक़्त थूक लगाकर तंदूर में रोटी बनाने का वीडियो सामने आया है। जिले के भोजपुर गाँव का एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है, जिसमें एक व्यक्ति को रोटियाँ सेंकते वक़्त उसमें थूकते हुए देखा जा सकता है। पुलिस ने जाँच के बाद जब आरोपित मोहसिन की शिनाख्त की और उसकी तलाश में दबिश देनी शुरू की तो वह मुरादनगर स्थित अपने घर से भाग गया।

हालाँकि, उत्तर प्रदेश पुलिस ने उसे अरेस्ट कर लिया है। गाजियाबाद पुलिस ने कहा कि, “वीडियो का तत्काल संज्ञान लेते हुए प्राथमिकी दर्ज कर आरोपित अभियुक्त मोहसिन को अरेस्ट कर लिया गया है। वैधानिक कार्यवाही शुरू कर दी गई है।” उक्त वीडियो गाँव के एक मांगलिक कार्यक्रम का है, जो कुछ दिनों पूर्व आयोजित किया गया था। कार्यक्रम में भोजन का जिम्मा हलवाइयों को सौंपा गया था। नान की रोटी बनाने के लिए इसी युवक को बुलाया गया था।

वीडियो में नज़र आ रहा है कि मोहसिन रोटी बनाकर उसमें थूकता है और फिर उसे नान में सेंकने के लिए डाल देता है। थाना प्रभारी प्रदीप कुमार ने बताया कि शुक्रवार (मार्च 12, 2021) को भोजपुर पुलिस गाँव में पहुँची। वहाँ स्थानीय लोगों ने बताया कि यह वीडियो शादी समारोह का है, जिसमें मुरादनगर का मोहसिन रोटियाँ सेंक रहा था। इसके बाद उसे पुलिस ने अरेस्ट कर लिया। उसके खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज कर ली गई है। बता दें कि, इससे पहले मेरठ से नौशाद नामक युवक को भी इसी मामले में गिरफ्तार किया गया था, उसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ था।

भिखारी महिला के साथ बलात्कार, खेत में घसीट 3 लड़कों ने किया रेप…

दरभंगा में एक ऐसी घटना हुई है, जिसने मानवता को शर्मसार कर दिया है. दरअसल भीख मांगकर गुजारा करने वाली 20 साल की एक महिला के साथ तीन लड़कों ने दरिंदगी की है. बलात्कार की घटना को लेकर पीड़ित महिला ने पुलिस में शिकायत की है. पुलिस इस कुकर्म की घटना को अंजाम देने वाले तीनों आरोपियों की तलाश कर रही है.

घटना दरभंगा जिले के कमतौल थाना क्षेत्र की है, जहां एक भिखारी महिला के साथ बलात्कार की घटना को अंजाम देने की बात सामने आ रही है. पीड़ित महिला का उम्र 20 साल बताया जा रहा है, शादीशुदा है. जानकारी मिली है कि महिला किसी तरह भीख मांगकर अपने घर का गुजारा करती है. पीड़िता ने दरभंगा के महिला थाना में घटना की शिकायत की है.

दरभंगा महिला थाना की जमादार मीनू कुमारी ने बताया कि पीड़िता के बयान पर मामला दर्ज कर लिया गया है. उसने बताया है कि वह गुरूवार को ऑटो से कमतौल भीख मांगने आई थी. भीख मांगकर वह पैदल ही लौट रही थी. इस दौरान बीसो बीघा गाछी के पास तीन लड़कों ने उसे पकड़ लिया और जबरदस्ती उसे खेत में लेकर गए.

खेत में दो लड़कों ने पीड़ित महिला को पकड़ा और तीसरे युवक ने उसके साथ बलात्कार की घटना को अंजाम दिया. इस दौरान महिला किसी भी तरह खुद को उन दरिंदों से छुड़ाकर कमतौल-बसैठा एसएच-75 पर भागकर आई और जोर-जोर से शोर मचाने लगी. पीड़िता की आवाज सुनकर वहां आसपास मौजूद स्थानीय लोग दौड़ कर आये, तब तक तीनों आरोपी भाग निकले. लोगों ने तीनों आरोपियों को वहां से भागते हुए देखा.

कमतौल थानाध्यक्ष सरवर आलमने बताया कि पीड़ित महिला ने कमतौल के रहने वाले राहुल कुमार ठाकुर, अजीत कुमार और गौतम कुमार के ऊपर बलात्कार का आरोप लगाया है. महिला पुलिस की अभिरक्षा में पीड़िता का मेडिकल डीएमसीएच में कराया जा रहा है. तीनों आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर दरभंगा पुलिस प्रयासरत है.

किसी ने बेकसूर होने के बाद भी काटे 20 साल की सज़ा तो किसी ने की आत्महत्या तो कोई अब भी जूझ रहा करियर की बर्बादी से – पढ़िए वो केस जब महिलाओ ने लगाय थे गलत आरोप

हाल ही में सोशल मीडिया के साथ televison पर जोमाटो के डिलीवरी बॉय और बेंगलुरु की मेकअप आर्टिस्ट हितेश चन्द्राणी द्वारा डिलीवरी व मारपीट को लेकर आरोप लगाए गए थे जिसके बाद जोमाटो डिलीवरी बॉय ने भी अपने ब्यान से पूरा तख्ता ही पलट दिया जिसके बाद से इंस्टाग्राम फेसबुक ट्विटर में हितेश चन्द्राणी को लेकर लोगो में गुस्से भरा कमेंट देखने को मिला महिलाओ द्वारा गलर आरोपों के चलते कितने बार ही बेकसूर पुरुषो को बहुत बड़े खामियाजे को भुगतना पड़ता है

सोशल मीडिया पर एक के बाद एक पुराने केसेस भी निकाल कर लोग धड़ल्ले से शेयर करते हुए दिख रहे है वही कई सोशल मीडिया पर फेमिनिस्ट पर भी कमेंट आरहे है
सर्वजीत सिंह, जिसे अब एक उत्पीड़नकर्ता के रूप में जाना जाता है, दिल्ली कॉलेज की छात्रा जसलीन कौर द्वारा दायर एक झूठे मामले के लिए धन्यवाद, पंद्रह महीने पहले हुई घटना के बाद से जीवन कितना कठिन और शर्मनाक है। सिंह, पुरुष अधिकार कार्यकर्ता दीपिका नारायण भारद्वाज, और मानवाधिकार कार्यकर्ता कुंदन श्रीवास्तव द्वारा शुरू से ही समर्थित हैं, अब कुंदन के ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर अपनी आवाज उठा रहे हैं जो लोगों को उत्पीड़न, अन्याय, अनैतिकता और अनौचित्य के खिलाफ आवाज उठाने में मदद करता है।
जसलीन ने एक उत्पीड़क को खड़े होने के लिए तुरंत प्रसिद्धि के लिए उपयोग किआ , दिल्ली पुलिस आयुक्त बीएस बस्सी ने उसके साहस के लिए जसलीन को 5,000 रुपये का नकद इनाम देने की घोषणा की, और दिल्ली के सीएम अरविंद केरीवाल ने कौर, AAP सदस्य को ट्विटर पर बधाई दी।सिर्फ एक दिन में, जब पुलिस ने पूछताछ की, तो विश्वजीत सिंह, एक प्रत्यक्षदर्शी, ने यू-टर्न लेना शुरू कर दिया। उन्होंने मामले में सर्वजीत की बेगुनाही की कसम खाई और इस बात की पुष्टि की कि यह जसलीन ही थी जिसने मौखिक रूप से उस व्यक्ति के साथ दुर्व्यवहार और दुर्व्यवहार किया था। सोशल मीडिया उपयोगकर्ताओं ने पक्ष बदल दिया, अभिनेता सोनाक्षी सिन्हा, जिन्होंने शुरू में कौर का समर्थन किया, ने सर्वजीत से माफी मांगी और मामले की प्राथमिक जांच पूरी होने से पहले ही दिल्ली के सीएम केजरीवाल को लड़की की प्रशंसा करने के लिए बाहर बुलाया गया।

दुष्कर्म के झूठे आरोप में 20 साल जेल में बिताने वाले विष्णु तिवारी के पुनर्वास के लिए उठाए गए कदमों को लेकर नेशनल हयूमन राइट्स कमीशन (NHRC) ने उत्तर प्रदेश सरकार से जवाब मांगा है। एनएचआरसी ने यह भी पूछा है कि सरकार इन सालों में क्या कर रही थी और सेंटेंस रिव्यू बोर्ड ने उसके मामले का आंकलन क्यों नहीं किया। एनएचआरसी को अपनी जांच में यह भी पता चला है कि यह सीआरपीसी की धारा 433 के ‘गैर-अनुप्रयोग’ का मामला लगता है, जिसके तहत सरकार उन कैदियों की जल्द रिहाई की समीक्षा करती है, जिन्हें स्वास्थ्य, अच्छे आचरण और विभिन्न कारणों से रिहाई पाने के योग्य होते हैं। ऐसे में इस मामले पर रिव्यू न किया जाना स्पष्ट रूप से सेंटेंस रिव्यू बोर्ड की असक्रियता को दर्शाता है।

अब आयोग ने उप्र के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को नोटिस जारी कर 4 हफ्ते में उनका जवाब मांगा है। आयोग ने अपने पत्र में कहा है, “इस मामले में जिम्मेदार लोक सेवकों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए और पीड़ित के लिए राहत और पुनर्वास के कदम उठाकर उसके साथ हुए अन्याय की भरपाई होनी चाहिए। जो कि उसने इतने सालों के दौरान मानसिक पीड़ा और सामाजिक कलंक के तौर पर झेला।एक व्यक्ति, जिसने अपराध के लिए सात साल से अधिक समय तक मुकदमे का सामना किया, उसे चेन्नई, तमिलनाडु की एक अदालत ने 15 लाख रुपये का मुआवजा दिया।संतोष ने एक महिला के खिलाफ मुआवजे का मुकदमा जीता, जिसने उस पर बलात्कार और उसे अभद्रता करने का झूठा आरोप लगाया था। हालांकि, एक डीएनए परीक्षण ने पुष्टि की कि संतोष उसके बच्चे का पिता नहीं है।

मासूम ने किया बलात्कार का मुकदमा
संतोष ने कहा कि उसके माता-पिता ने महिला के साथ उसकी शादी तय कर दी थी, लेकिन संपत्ति के विवाद को लेकर उनके परिवार के साथ उनके रिश्तों में खटास आ गई, और उन्होंने भाग लिया। बाद में, जब वह एक निजी कॉलेज में इंजीनियरिंग कर रहा था, तो महिला की माँ ने अपने माता-पिता को बताया कि उसने उसकी बेटी को गर्भवती कर दिया है और मांग की कि वे तुरंत शादी कर लें।जब संतोष ने महिला के साथ कोई संबंध होने से इनकार किया, तो उसने और उसके परिवार ने उसके खिलाफ बलात्कार की शिकायत दर्ज की। शिकायत के आधार पर, पुलिस ने संतोष के खिलाफ मामला दर्ज किया और उसे गिरफ्तार कर लिया। उसे एक अदालत में पेश किया गया जिसने उसे 95 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया। बाद में, उन्हें 12 फरवरी 2010 को द टाइम्स ऑफ इंडिया ने जमानत पर रिहा कर दिया।इस समय तक महिला ने एक बच्ची को जन्म दिया था। बच्चे के डीएनए परीक्षण ने साबित कर दिया कि संतोष उसके पिता नहीं थे। फिर सात साल से अधिक समय तक चले मुकदमे के बाद, एक महिला अदालत ने 10 फरवरी, 2016 को संतोष को बरी कर दिया।

सिर्फ महिलाओ के आरोप ही नहीं बल्कि सोशल मीडिया पर भी तुरंत तस्वीर और वीडियो देख कर विचार व्यक्त करना या आक्रोश जताने वाले युवा भी इन सभी पर बराबर हिस्सेदारी रखते है,

क्रिकेट खेलते खिलाड़ी से 12 वीं की छात्रा को लड़के से हुआ प्यार… नेपाल बॉर्डर में एक महीने तक रेप …पढ़िए पूरी कहबर

ग्वालियर के क्रिकेट मैदान में एक लड़की को खिलाड़ी से प्यार हो गया। जिसके बाद 12 वीं छात्रा को लड़के ने यूपी स्टेट टीम का प्लेयर बताया औ रलड़की को प्यार का झांसा देते हुए कहा कि उसके पिता हार्ट स्पेशलिस्ट और माँ भी डॉक्टर है। लड़की को बहलाफुसला कर लाखनाऊ ले गया। लड़की के गायब होने पर परिजनों ने थाना में इसकी शिकायत दर्ज कराई। जिसके बाद पुलिस ने तलाश जारी करते हुए। छात्रा को नेपाल बॉर्डर से बरामद किया है। लड़की को आरोपी नेपाल बॉर्डर ले जा कर एक महीने ताज दुष्कर्म करता रहा। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

दो दिन पहले पुलिस ने छात्रा को नेपाल बॉर्डर पर UP के बलरामपुर जिले के सरदारगढ़ से बरामद किया है। आरोपी को भी गिरफ्तार किया गया है। हजीरा क्षेत्र से 5 फरवरी को एक 17 वर्षीय छात्रा लापता हुई थी।

वहीं छात्रा के परिवार ने हजीरा थाना पहुंचकर सूचना दी थी। जिस पर पुलिस ने अपहरण का मामला दर्ज कर जांच शुरू की। छात्रा की कॉल डिटेल से पता लगा था कि वह नेपाल बॉर्डर पर UP के बलरामपुर जिले के सरदारगढ़ निवासी राजन शुक्ला उर्फ भूपेन्द्र मणि के संपर्क में है। इस पर पुलिस ने दो से तीन बार दबिश दी, लेकिन न राजन शुक्ला मिला न ही नाबालिग छात्रा। अभी दो दिन पहले SI अनिता भिलाले, SI नरेन्द्र छिकारा, ASI शैलेन्द्र सिंह चौहान की टीम ने दबिश देकर नेपाल बॉर्डर से छात्रा को मुक्त कराया था।

छात्रा से पूछताछ के बाद आरोपी भूपेन्द्र मणि को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। छात्रा ने बताया है कि आरोपी ने उसे धोखे में रखकर झूठी शादी की और कई बार दुष्कर्म किया। पुलिस ने आरोपी पर अपहरण व दुष्कर्म का मामला दर्ज किया है। छात्रा ने पुलिस को बताया कि भूपेन्द्र ने उसे खुद को क्रिकेटर बताया था। बोला था वह इंटरनेशनल क्रिकेटर दिनेश मोगिया की अकादमी में चंडीगढ़ से सीखा है और यूपी की स्टेट टीम में सिलेक्ट हुआ है। यह फेक था। पिता को हार्ट स्पेशलिस्ट बताया था और मां को डॉक्टर। बाद में पता लगा कि उसकी मां डॉक्टर नहीं घरों में काम करती है। जिस पिता को हार्ट स्पेशलिस्ट बताया वह झोलाछाप डॉक्टर है।

BIG BREAKING : राजधानी के इस होटल में चल रही थी रेव पार्टी… पुलिस ने मारा छापा… भारी मात्रा में ड्रग्स बरामद… 5 गिरफ्तार  

मुंबई। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई से एक बड़ी खबर सामने आई है। खबर मिली है कि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने मुंबई में चल रहे एक रेव पार्टी का भंडाफोड़ किया है।

मिली जानकारी के अनुसार मुंबई के वाघा बीच के पास शिवा वैली नाम के एक होटल में ये रेव पार्टी चल रही थी। एनसीबी ने ये छापेमारी गोवा क्राइम ब्रांच की टीम की मदद से की। इस पार्टी में NCB को भारी मात्रा में ड्रग्स मिले हैं। NCB के मुताबिक इस सिलसिले में 5 लोगों को हिरासत में लिया गया है।

इस रेव पार्टी में एनसीबी ने कई प्रकार के ड्रग्स बरामद किए हैं, जिसमें चरस, गांजा, एलएसडी और अन्य प्रकार के कमर्शियल ड्रग्स थे। अब तक कुल 5 ड्रग्स सप्लायरों को पकड़ा गया है। इनमें से दो-दो सप्लायर गोवा और केरल के हैं। इसके अलावा एक सप्लायर स्विट्जरलैंड का है। इस मामले में एक केस भी दर्ज किया गया है। फिलहाल मामले की जांच चल रही है।

JUSTICE : ‘समय’ को मिली गलत काम करने की 40 साल की सजा,जानिए किसका शुरु हुआ बुरा समय ?

छत्तीसगढ़ के रायपुर जिले की एक अदालत ने दो बहनों से बलात्कार के मामले में एक तांत्रिक को 20-20 साल यानी कुल 40 वर्ष कारावास की सजा सुनाई है। विशेष लोक अभियोजक ताराचंद कोसले ने बताया कि जिले की अपर सत्र न्यायाधीश (फास्ट ट्रैक कोर्ट) पूजा जायसवाल की अदालत ने दो बहनों से बलात्कार के मामले में तांत्रिक समय लाल देवांगन उम्र 48 साल को 20-20 साल यानी कुल 40 वर्ष कारावास की सजा सुनाई है।

ऐसे फांसा था जाल में ?

वकील ने बताया कि अदालत ने अपने फैसले में कहा कि आरोपी की कारावास की सजा एक के बाद एक चलेगी। यही नहीं आरोपी पर 10 हजार का जुर्माना भी लगा है। आपको बता दें कि दिसंबर 2016 में 19 और 21 साल की दो बहनों को पेट और कमर में दर्द की शिकायत रहती थी। परिजन इसे कोई बुरी आपदा मानकर तांत्रिक समय लाल देवांगन के पास ले गए।जिसके बाद समय लाल देवांगन ने अपना समय बर्बाद नहीं करते हुए दोनों बहनों से साल 2017 इलाज के बहाने बलात्कार करना शुरु कर दिया। तांत्रिक एक के बाद एक दोनों ही बहनों से अपनी हवस की प्यास बुझाता रहा। ये सिलसिला 7 महीनों तक चला। जब बहनों के सब्र का बांध टूट गया तो उन्होंने अपने साथ हो रहे अत्याचार की जानकारी अपने पिता को दी।

डर के कारण बुरा होता चला गया मामला
पीड़िता ने बताया कि तांत्रिक उन्हें मुंह खोलने पर जान से मारने की धमकी दिया करता था। यही नहीं उनके परिवार को भी खत्म करने की बात समय लाल करता था। जिससे दोनों ही बहनें काफी समय तक सब कुछ चुपचाप सहती रही। लेकिन जिस दिन परिजनों को इस बात का पता चला तो उन्होंने गुढ़ियारी थाने में इसकी शिकायत की। जिसके बाद समय लाल का समय बदल गया और अब वो 40 साल तक जेल की चार दीवारी में अपना समय काटेगा।

BREAKING : प्रदेश की राजधानी में… पिस्टल दिखाकर नाबालिग को किया अगवा… फिर चलती कार में रेप… दो दिनों तक बनाए रखा बंधक

देश के हर कोने में इन दिनों सिर्फ और सिर्फ बलात्कार की चीख सुनाई पड़ रही है। घर से अपनी बहन-बेटियों को बाहर भेजने में लोगों की रूह कांप रही है। पुलिस से लेकर सरकार के माथे पर बल पड़ा हुआ है, पर जुर्म की दास्तां कम होने का नाम नहीं ले रही है। ताजा मामला बिहार की राजधानी से सामने आया है, जहां राजधानी पटना में एक कॉलेज छात्रा के साथ रेप की सनसनीखेज वारदात को अंजाम दिया गया है। उसके साथ चलती कार में दुष्कर्म किया गया। दो दिनों तक नाबालिग छात्रा को बंधक बनाकर भी रखा गया। बलात्कार का वीडियो बनाया गया और फिर उसकी मांग में सिंदूर भी भर दिया गया।

पटना के जेडी विमेंस कॉलेज की पीड़ित छात्रा है। पुलिस के मुताबिक 5 युवकों ने पिस्टल दिखाकर कार में जबरन बैठाया और उसका हाथ पैर बांध दिया। कार में ही रामकृष्णा नगर के रहने वाले उज्जवल कांत ने छात्रा के साथ रेप किया। यही नहीं उज्जवल कांत ने रेप का अश्लील वीडियो भी बनाया, साथ ही उसकी मांग में सिंदूर भी भर दिया। यह पूरी घटना 7 मार्च की है।

जानकारी के मुताबिक के 7 मार्च को पीड़िता अपने घर से कॉपी खरीदने के लिए पास की दुकान पर गई थी। इसी दौरान उसे पांच युवकों ने कार में खींच लिया। उसे दो दिन तक बंधक बनाकर रखा गया। कार में रेप करने के बाद उज्जवल कांत ने पीड़िता को अपनी बहन के घर पर बंधक बनाकर रखा। शुक्रवार की सुबह उसे छोड़ दिया। इसके बाद आरोपी पीड़िता के घर पहुंचा और परिवार वालों को धमकी भी दी। डर से परेशान परिवार वाले लड़की को लेकर महिला थाने गए और फिर प्राथमिकी दर्ज कराई गई।

महिला थाने में रेप और अपहरण की अन्य धाराओं में प्राथमिकी दर्ज की गई है। पीड़िता ने जो केस दर्ज कराया है उसके मुताबिक उज्जवल कांत के पिता ने भी जान से मारने की धमकी दी। उज्जवल कांत अपराधिक प्रवृत्ति का है और 2019 में वो जेल से छूटा था। पीड़िता के परिवार वालों को वो बार-बार धमकी दे रहा था। पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी कर रही है। पीड़िता का मेडिकल टेस्ट कराया गया है।

रेप पीड़िता ने थाने में दिया बेटी को जन्म… महिला कॉन्स्टेबल ने कराई डिलीवरी

मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में एक रेप पीड़िता के द्वारा थाने में एक बेटी को जन्म देने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा कि पीड़िता थाने में आरोपी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने आई थी। तभी उसे अचानक प्रसव पीड़ा उठी ऐसे में एक महिला कांस्टेबल ने थाने में ही उसकी डिलीवरी कराई। दोनों अब पूरी तरह स्वस्थ हैं। यह मामला जिले के लावाघोघरी थाने का है।

इसके बाद पीड़िता को जिला अस्पताल में एडमिट कराया गया है। दिलचस्प बात यह है कि शीतल वाघमारे नाम की महिला कांस्टेबल ने पीड़िता की डिलीवरी कराई है, उन्होंने पुलिस ज्वाइन करने पहले नर्सिंग का कोर्स किया हुआ था। पूरे मामले में एक और बात सामने आई है कि, बेटी को जन्म देने के बाद महिला का कहना है कि यदि आरोपी उससे शादी कर लेता है तो वह उसके खिलाफ केस दर्ज नहीं कराएगी।

जानकारी के अनुसार, पीड़िता ने बताया कि उसके गाँव का ही एक युवक शादी का झांसा देकर उसके साथ दुष्कर्म करता रहा। इस दौरान वह गभवती हो गई तो उसने युवक से शादी की बात की। ऐसे में युवक अपने वादे से मुकर गया। इसी के बाद पीड़िता थाने में शिकायत दर्ज करने पहुँची थी। वहीं पीड़िता के साथ शिकायत दर्ज करने पहुंचे ग्रामीणों ने पुलिस ने आरोप लगाया कि वह आरोपी के खिलाफ रिपोर्ट नहीं दर्ज कर रही थी।

इस सन्दर्भ में थाना प्रभारी ने बताया कि युवती शिकायत दर्ज कराने आई थी। इस पर आरोपी युवक से फोन पर बातचीत की गई। उसने दूसरे दिन आने की बात कही। इसके बाद वह एक केस के सिलसिले में बाहर चले गए। लौटकर आए तो युवती की डिलीवरी हो चुकी थी। थाने की कॉन्स्टेबल शीतल वाघमारे ने बताया कि उन्होंने पुलिस में आने से पहले नर्सिंग का कोर्स किया था। वहीं, दूसरी तरफ आरोपी के परिजन भी पीड़िता को देखने जिला अस्पताल पहुंचे। उन्होंने कहा कि,शादी करना लड़के का फैसला है, वह जो चाहे कर सकता है। हालाँकि पुलिस सूत्रों का इस मामले में कहना है कि आरोपी शादी करने को तैयार है।

कलंक कथा : बेटी पर…..पिता-पुत्र का सितम….7 महीने तक गैंगरेप…अब हुआ ये…

देश में ऐसी हरक़ते आए दिन होती रहती है, परन्तु ये घटना बहुत ही शर्मसार है। भारत में अभी भी लड़कियों को डर कर ही रहना पड़ता हैं।

हरियाणा के भिवानी जिले में शर्मसार कर देने वाला एक मामला सामने आया है। यहां के बवानीखेड़ा क्षेत्र के एक गांव में एक नाबालिग लड़की से 7 लोगों पर दुष्कर्म करने का आरोप है। आरोपी पिछले 6 माह से लड़की से रेप करते आ रहे थे। पीड़िता जब गर्भवती हुई तो सारी घटना का खुलासा परिजनों के सामने हुआ। पुलिस ने पीड़िता के पिता की शिकायत पर पिता, पुत्र सहित 7 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। पीड़िता लड़की जो कक्षा 9 की छात्रा है, वह दो महीने की गर्भवती पाई गई है।

आरोपियों ने कथित तौर पर किशोरी को हत्या करने की धमकी देते हुए उसे किसी से भी दुष्कर्म की घटना के बारे में नहीं बताने के लिए कहा था। इस घटना का पता तब चला जब किशोरी के पिता ने पुलिस से संपर्क किया और शिकायत दर्ज कराई। फिर लड़की को मेडिकल परीक्षण के लिए भेजा गया और अब पुलिस व परिवार को रिपोर्ट के आने का इंतजार है।

लड़की के साथ एक आदमी ने पहली बार रेप किया था, जब वह किराने की चीजें खरीदने के लिए उस शख्स के दुकान पर गई थी। इसके तुरंत बाद, पुरुष के सहयोगियों ने भी लड़की का यौन उत्पीड़न शुरू कर दिया था। कथित तौर पर लड़की का छह महीने तक 7 पुरुषों द्वारा बार-बार रेप किया गया था।

हाल ही में, लड़की ने अपने पेट में दर्द की शिकायत की और फिर उसे उसके परिवार के सदस्यों द्वारा अस्पताल ले जाया गया। किशोरी की मेडिकल जांच में पता चला कि वह दो महीने की गर्भवती थी।

लड़की के पिता ने पुलिस से कहा कि आरोपी ने मेरी बेटी को मारने की धमकी देते हुए रेप की इस घटना के बारे में किसी से भी बताने से मना किया था। पीड़िता के पिता ने कहा कि उन्होंने लड़की के साथ कई बार रेप किया और मामला तब सामने आया जब वह गर्भवती हो गई।

पीडि़ता के पिता की शिकायत के बाद पुलिस ने आरोपियों पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) और यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण (POCSO) अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।