BREAKING : राज्य के इन चार बडे़ शहरों में… 17 से 31 मार्च तक… प्री-नाइट कर्फ्यू

देशभर में कोरोना के बढ़ते प्रभाव का असर नजर आने लगा है। महाराष्ट्र के नागपुर में जहां लाॅक डाउन कर दिया गया है, तो कई जिलों और शहरों नाइट कर्फ्यू लागू हो चुका है। अब गुजरात में भी कोरोना संक्रमण के मद्देनजर राज्य सरकार ने बड़ा फैसला ले लिया है।

गुजरात सरकार ने 17 मार्च से 31 मार्च के बीच चार महानगरों-अहमदाबाद, वडोदरा, सूरत और राजकोट में रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू लागू करने का फैसला किया है। इन चार महानगरों में 16 मार्च तक रात 12 बजे से सुबह 6 बजे प्री-नाइट कर्फ्यू रहेगा।

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र के नागपुर में 15 मार्च से 21 मार्च तक टोटल लॉकडाउन लगाया गया है। बावजूद इसके सड़कों पर बड़ी संख्या में लोग दिख रहे हैं। ऐसे में यह सवाल उठना लाजिमी है कि अगर लोग इसी तरह से सड़कों पर निकलेंगे तो कोरोना खत्म कैसे होगा? जबकि कोरोना को रोकने के लिए सबसे बड़ा हथियार भीड़भाड़ को रोकना है।

BIG NEWS : क्या छत्तीसगढ़ में भी लगेगा लॉकडाउन ?? जानिए वरिष्ठ मंत्री चौबे का क्या है बयान…

रायपुर: देश के कई राज्यों में एक बार फिर कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। हालात को देखते हुए महाराष्ट्र के कई शहरों में लॉकडाउन और नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है। वहीं, छत्तीसगढ़ में भी कोरोना संक्रमण ने रफ्तार पकड़ी है, रोजाना नए मरीजों के आंकड़ों में इजाफा हो रहा है। इसी बीच संक्रमण के मामले को लेकर मंत्री रविंद्र चौबे ने प्रदेश में लॉकडाउन और नाइट कर्फ्यू लगाए जाने को लेकर बड़ा बयान दिया है।

मंत्री चौबे ने सोमवार को मीडिया से बात करते हुए कहा है कि कोरोना के बढ़ते आंकड़ों से सरकार चिंतित है। छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन, नाइट कर्फ्यू नहीं लगेगा। कोरोना को लेकर जिलों में समीक्षा बैठक होगी, जिलों के प्रभारी मंत्री अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। प्रभारी मंत्री समीक्षा कर जरूरी उपाय करेंगे।

BREAKING : राजधानी में नाइट कर्फ्यू के आसार… सीएम ने बैठक में दिए संकेत… लगातार बढ़ रहा कोरोना का औसत

देश के कई राज्यों में कोरोना के बढ़ते मामलों ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है। महाराष्ट्र में हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। यहां शुक्रवार को 15,817 नए मामले सामने आए हैं। यह आंकड़ा पिछले 6 महीने में सबसे ज्यादा है। इससे पहले पिछले साल एक अक्टूबर को 16,476 मामले सामने आए थे। वहीं, मध्यप्रदेश में भी कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए रविवार या सोमवार से भोपाल और इंदौर में नाइट कर्फ्यू लगाया जा सकता है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने शुक्रवार को मीटिंग के दौरान यह बात कही।

24 घंटे में 24,845 नए संक्रमित मिले
देश में कोरोना के नए संक्रमितों की संख्या हर दिन बढ़ती जा रही है। शुक्रवार को 24,845 नए संक्रमित मिले, 19,972 ठीक हुए और 140 की मौत हो गई। इस तरह एक्टिव केस, यानी इलाज करा रहे मरीजों की संख्या में 4,730 की बढ़ोतरी हुई। सबसे ज्यादा केस महाराष्ट्र में आए। इसके बाद केरल, पंजाब, गुजरात और मध्यप्रदेश रहे।

देश में अब तक 1.13 करोड़ संक्रमित
देश में अब तक देश में अब तक 1.13 करोड़ लोग इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं। इनमें से 1.09 करोड़ ठीक हो चुके हैं। 1.58 लाख की मौत हुई है, जबकि 1.99 लाख का इलाज चल रहा है।

बिग न्यूज : कोरोना की बढ़ती रफ्तार ने मचाया हड़कंप… 31 मार्च तक स्कूल-कॉलेज होंगे बंद… नाईट कर्फ्यू का आदेश जारी… होटल-रेस्टोरेंट के समय में हुआ बदलाव 

पुणे। महाराष्ट्र में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है जिसके कारण नागपुर, अकोला में तो पूर्ण लॉकडाउन लगा दिया गया है। अब पुणे मे भी जिला प्रशासन की तरफ से स्कूल-कालेजों को 31 मार्च तक बंद करने के आदेश दिए गए हैं। जिले में रात के 11 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू लगा रहेगा। इस दौरान होटल, रेस्टोरेंट, बार को 10 बजे तक बंद करने के भी आदेश दिए गए हैं।

आदेश के मुताबिक

होटल-रेस्टोरेंट को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ ही चलाए जाएगा।

इसके साथ ही सामानों की होम डिलीवरी को भी रात से 10 से 11 बजे तक की ही मंजूरी दी गई है।

मॉल, बाजार, सिनेमाहाल को रात के 10 बजे तक बंद करने का आदेश।

शादी समारोह, तेरहवी में सिर्फ 50 लोगो के उपस्थित रहने की मंजूरी।

गार्ड़ेन सुबह खुलेंगे, शाम के वक्त रहेंगे बंद।

CURFEW : तीन दिनों के लिए जिले में… जनता कर्फ्यू की घोषणा… केवल आपात सुविधाओं को छूट

महाराष्ट्र में कोविड -19 के मामलों की संख्या में वृद्धि के बाद जिला अधिकारियों द्वारा सख्त आदेश दिए गए हैं, जिसके तहत जलगांव में गुरुवार से तीन दिनों के लिए जनता कर्फ्यू लागू रहेगा। यह कर्फ्यू गुरुवार रात आठ बजे शुरू होकर 15 मार्च की सुबह आठ बजे तक जारी रहेगा।

जलगांव के जिला कलेक्टर अभिजीत राउत ने मंगलवार को सख्त निर्देश देते हुए कहा, ‘इस आदेश को लागू कराने की जिम्मेदारी नगर निगम और स्थानीय पुलिस की होगी। आदेश का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ एपिडेमिक एक्ट और आईपीसी (भारतीय दंड संहिता) के अन्य संबंधित धाराओं के तहत कार्रवाई की जाएगी।’ आदेश में स्पष्ट किया गया है कि कर्फ्यू के दौरान आपातकालीन सेवाओं के अलावा पहले से तय महाराष्ट्र लोक सेवा आयोग (एसपीएससी) व अन्य विभागों की परीक्षा देने वालों को छूट रहेगी।

BREAKING : विधानसभा बजट सत्र पर… ग्रहण के आसार… राजस्व मंत्री के बाद… स्वास्थ्य मंत्री भी पाॅजिटिव!

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा के बजट सत्र का तीसरा सप्ताह आज से शुरू हो गया है। सदन शुरू होने से ठीक पहले ही भूपेश कैबिनेट के राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल के कोरोना पाॅजिटिव होने की जानकारी सामने आई है। मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने ट्विटर के माध्यम से इस बात की जानकारी साझा की है।

इसके ठीक बाद प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के भी पाॅजिटिव होने की खबर सामने आ रही है। सूत्रों के मुताबिक बीती रात ही वे अंबिकापुर से लौटे हैं। घर पहुंचते ही उन्हें हरारत महसूस हुई और अचानक खांसी बढ़ गई। तत्काल में उनका एंटीजन टेस्ट कराया गया, जिसमें रिजल्ट पाॅजिटिव आने की बात कहीं जा रही है। पुष्टि के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट कराया गया है, जिसकी रिपोर्ट आना बाकी है।

भूपेश कैबिनेट के दो मंत्रियों का एक साथ पाॅजिटिव होने के बाद अब विधानसभा सत्र के संचालन पर ग्रहण मंडराने लगा है। संभावनाओं को देखते हुए सदन को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने का भी निर्णय लिया जा सकता है। क्योंकि इन दोनों ही मंत्रियों के संपर्क में मुख्यमंत्री से लेकर तमाम मंत्री और अधिकारी बीते दिनों में आए हैं। ऐसे में विधानसभा में कोरोना विस्फोट की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता।

BREAKING : भूपेश कैबिनेट के मंत्री… पाए गए कोरोना पाॅजिटिव… लगातार सदन में… दर्ज कराई है उपस्थिति

रायपुर। कैबिनेट मंत्री जयसिंह अग्रवाल कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। कोरोना जांच की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। साथ ही संपर्क में आने वालों से कोरोना जांच करने की अपील की है। वहीं लोगों से कोरोना गाइडलाइन का पालन करने की अपील की है।
विदित है कि छत्तीसगढ़ विधानसभा का बजट सत्र जारी है। कैबिनेट मंत्री जयसिंह अग्रवाल नियमित तौर पर सदन में शामिल होते रहे हैं। दूसरे सप्ताह के अंतिम दिन शुक्रवार को भी वे सदन में शामिल हुए थे, इस दौरान मुख्यमंत्री से लेकर अन्य मंत्रियों के संपर्क में भी आए थे।
मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने लिखा- मेरे कोरोना रैपिड टेस्ट का परिणाम पॉजिटिव आया है। आपसे निवेदन है कि अगर पिछले 14 दिनों के दरमियान आप मेरे संपर्क में आए हों तो टेस्ट करवा लें, उससे पहले तुरंत क्वारंटाइन हो जाएँ। साथ आपसे अपील है कि अधिक भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। मास्क लगाएँ और हाथ धोते रहें।

CURFEW : राजधानी सहित प्रदेश में… बढ़ा कोरोना संक्रमण… सीएम ने कहा… नहीं आई गिरावट तो… 8 मार्च से नाइट कर्फ्यू

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भोपाल और इंदौर में कोरोना के प्रकरणों में लगातार वृद्धि हो रही है। मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग पर सख्ती जरूरी है। यदि अगले 3 दिन में कोरोना के प्रकरणों में गिरावट नहीं हुई तो 8 मार्च से भोपाल और इंदौर में रात्रि कर्फ्यू लगाया जायेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने यह निर्देश मंत्रालय में कोरोना की समीक्षा बैठक में दिए। बैठक में लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चैधरी, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान उपस्थित थे।

कोरोना का लंदन वैरिएंट अधिक घातक
मुख्यमंत्री ने कहा कि इंदौर में लंदन वैरिएंट से प्रभावित 6 मरीज मिले हैं। लंदन वैरिएंट का संक्रमण अधिक घातक है। इसकी संक्रामक क्षमता तुलनात्मक रूप से अधिक है। इंदौर में पिछले सप्ताह प्रतिदिन औसतन 151 प्रकरण बढ़े हैं। इसी प्रकार भोपाल में 78, जबलपुर में 16, बैतूल में 13 और छिंदवाड़ा व उज्जैन में 11-11 प्रकरणों की प्रतिदिन औसतन वृद्धि हुई है। इंदौर में पिछले 15 दिनों में प्रकरणों की संख्या दोगुनी हो गई है। इस गंभीरता को देखते हुए इंदौर और भोपाल में सावधानियाँ बरतना और सख्ती करना आवश्यक है।

चलेगा रोको-टोको अभियान
मुख्यमंत्री चौहान ने दुकानदारों से सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करने, मास्क लगाने और अन्य सावधानियाँ बरतने की अपील की। मुख्यमंत्री ने कहा कि दुकानदार दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करें जो दुकानदार बिना मास्क के दुकान पर बैठेंगे या बिना मास्क लगाए व्यक्तियों को सामान देंगे उन पर कार्रवाई की जाएगी। साथ ही सामान्य तौर पर रोको-टोको के लिए भी भोपाल और इंदौर में तत्काल प्रभाव से अभियान आरंभ किया जाए।

CORONA BREAKING : विधानसभा में कोरोना विस्फोट… एक और विधायक निकले पॉजिटिव


छत्तीसगढ़ विधानसभा में कोरोना की दस्तक हो चुकी है। बजट सत्र में पहुंचे अब तक 2 विधायकों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। खैरागढ़ विधायक देवव्रत सिंह भी कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। इसके पहले दुर्ग विधायक अरुण वोरा भी संक्रमित हो चुके हैं। उनकी रैपिड एंटीजन टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। बता दें कि कल प्रदेश में 216 कोरोना पॉजिटिव मरीज़ों की पहचान की गई थी. और 192 मरीज़ स्वस्थ होने के उपरांत डिस्चार्ज/रिकवर्ड हुए।

LOCKDOWN : कोरोना की वापसी… देश में मचा हड़कंप… राज्य में बढ़ा लॉकडाउन… फिर से बंद हुए स्कूल-कॉलेज और कोचिंग…

नागपुर। कोरोना की बढ़ी रफ्तार से देश भर में हड़कंप है। पिछले 24 घंटे में 17 हजार नये केस आये हैं, तो वहीं मौत का आंकड़ा भी 100 से ज्यादा का रहा है। कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित महाराष्ट्र है, वहीं कई अन्य राज्यों में भी संक्रमण बढ़ा है। इधर कोरोना के बढ़े मामले को देखते हुए महाराष्ट्र में नागपुर समेत विदर्भ के 5 जिलों में दो दिनों का वीकेंड लॉकडाउन लगा दिया गया है।

ये जिले हैं अमरावती, वुलढाना, यवतमाल, वासिम , अकोला, विदर्भ के इन जिलों में शनिवार और रविवार को लॉकडाउन घोषित किया गया है. जिला प्रशासन ने बाजार की सभी दुकानें, होटल, रेस्टोरेंट और सभी सरकारी दफ्तर दो दिनों तक बंद रहेंगे। प्रशासन ने सिर्फ अत्यावश्यक सामानों की दुकानों को खुले रखने की इजाजत दी है। मतलब दूध, सब्जी, पेट्रोल पंप और मेडिकल स्टोर खुले रहेंगे। शहर के सभी शापिंग मॉल को भी बंद रहने के आदेश दिये गए हैं ताकि लोगों की भीड़ को इकट्ठा होने से रोका जा सके।
शहर के लोगों को बेवजह घर से बाहर न आने के लिए भी आवाहन किया गया है। अगर कोई घर से बाहर आता है तो उसे सही वजह बतानी पड़ सकती है। नागपुर में आज लॉकडाउन के दौरान नागपुर के महापौर दयाशंकर तिवारी शहर का दौरा करते नजर आए और लोगों को सुरक्षित रहने और कोरोना के प्रभाव को रोकने के लिये दो दिन के इस लॉकडाउन में लोगों को घर में रहने की अपील की। हम आपको बता दें कि विदर्भ में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित जिला है अमरावती। 5 दिनों के अंदर इस जिले में 4061 नए कोरोना के मरीज पाये गये हैं और 32 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है। वहीं, बीते शुक्रवार को नागपुर में कोरोना के 1074 कोरोना के मरीज पाए गए हैं।

पुणे में स्कूल-कॉलेजों और कोचिंग में लगा ताला

अब इसके बाद पुणे में भी स्कूल-कॉलेजों और कोचिंग संस्थानों को 14 मार्च तक बंद रखने के आदेश दे दिए गए हैं। पुणे के मेयर मुरलीधर मोयोर ने इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया है कि 14 मार्च तक सभी शैक्षणिक संस्थान बंद रहेंगे तो वहीं शहर में 11 बजे से सुबह 6 बजे के बीच नाइट कर्फ्यू भी लागू रहेगा, इस दौरान केलव आवश्यक सेवाओं के लिए लोगों को छूट मिलेगी. मेयर मुरलीधर ने बताया कि पुणे शहर में लगाए गए प्रतिबंधों को पहले 14 मार्च तक बढ़ाया गया था।

लातूर जिले में हुई जनता कर्फ्यू की घोषणा

महाराष्ट्र में मराठवाड़ा के लातूर जिले में भी कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए जनता कर्फ्यू की घोषणा की गयी है। फिलहाल महाराष्ट्र के 32 जिलों में से ज्यादातर जिलों में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते नजर आ रहे हैं। मुंबई में भी कोरोना की रफ्तार बढ़ती जा रही है। एक सप्ताह पहले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लोगों से अपील की थी कि लोग भीड़ करने से बचे, मास्क लगाएं, कोरोना से सुरक्षित रहने के सभी उपाय करें। वर्ना कोरोना के मामले बढ़ते हैं तो फिर लॉकडाउन के लिये भी तैयार रहें।

BREAKING : रायपुर में अब 250 रुपए में इन सरकारी और निजी अस्पतालों में… लगेगा कोरोना टीका… पढ़िए पूरी खबर

रायपुर। कल से नगर निगम के 3 जोन में कोरोना का टीका लगाया जाएगा । 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को कोरोना का टीका लगाया जाएगा। ज़ोन 2, 3 और 5 में टीकाकरण शुरू होगा। टीका लगवाने लोगों को जोन कार्यालय से टोकन लेना होगा।

जोन 2 में मेकाहारा, जोन 3 में जिला अस्पताल, जोन 5 में आयुर्वेदिक अस्पताल में कोरोना का टीका लगाया जाएगा। प्रशासन ने इस संबंध में आदेश जारी किए है।

पहले दिन 120 लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। 3 सरकारी समेत 5 निजी अस्पताल में वैक्सीन लगाई जाएगी। निजी अस्पताल में गंभीर बीमार से ग्रस्त 49 से 59 साल के लोग टीका लगवा सकेंगे। निजी अस्पताल में टीकाकरण के लिए 250 रुपए का शुल्क देना होगा।

कोरोना गाइडलाइन जारी : 31 मार्च तक सख्त पाबंदी लागू करने का निर्देश हुआ जारी… किसी नई गतिविधि को छूट नहीं… केंद्र ने सभी राज्यों को दी ये सलाह 

नई दिल्ली । देश में कोरोना संकट अभी थमा नहीं है। ऐसे में केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए लागू गाइडलाइंस की समयसीमा बढ़ा दी है। देशभर में कोविड-19 से जुड़े दिशानिर्देश अब 31 मार्च तक लागू रहेंगे। इस संदर्भ में केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को पत्र लिखा है। पत्र में सभी राज्यों से सावधानी और सख्त निगरानी बनाए रखने की सलाह दी है।

गृह मंत्रालय ने कहा, ‘कोरोना वायरस से जुड़े दिशानिर्देशों का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए। संबंधित प्रशासन द्वारा जारी किए गए दिशानिर्देशों का पालन करते हुए सभी गतिविधियों की अनुमति दी गई है। पड़ोसी देशों से व्यापार के लिए लोगों के आने जाने और वस्तुओं के आदान-प्रदान पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा।

मंत्रालय ने ये भी कहा है कि देश में एक्टिव केस और नए मामलों की संख्या में पिछले कुछ महीनों की तुलना काफी गिरावट आई है। किन फिर भी महामारी को पूरी तरह से दूर करने के लिए सावधानी और कड़ी निगरानी रखने की आवश्यकता है।

क्या है कोरोना गाइडलाइंस

कोरोना महामारी से बचाव के लिए 27 जनवरी को दिशानिर्देश जारी किए गए थे। इनके अनुसार, सिनेमा हॉल और थिएटरों को दर्शकों के साथ चलाने की अनुमति दी गई है। एक राज्य से दूसरे राज्य लोगों की आवाजाही और वस्तुओं की ढुलाई पर कोई रोक नहीं है। स्वीमिंग पूल को भी इस्तेमाल की अनुमति दे दी गई है।

वाणिज्यिक यात्री उड़ानों की निलंबन 31 मार्च तक बढ़ा

विमानन नियामक डीजीसीए ने अंतरराष्ट्रीय वाणिज्यिक यात्री उड़ान सेवाएं निलंबित रखने की अवधि 31 मार्च तक के लिये बढ़ा दी. कोविड-19 महामारी के कारण अनुसूचित अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का परिचालन पिछले साल 23 मार्च से निलंबित है। हालांकि चुनिंदा मार्गों पर अंतरराष्ट्रीय अनुसूचित उड़ानों को सक्षम प्राधिकरण द्वारा मामला-दर-मामला आधार पर अनुमति दी जा सकती है।

कोरोना गाइडलाइंस बढ़ाने की वजह क्या है

कोरोना गाइडलाइंस की समयसीमा बढ़ाए जाने की वजह कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या देखी जा रही है। भारत में संक्रमण का ग्राफ एक बार फिर चढ़ने लगा है। लगातार तीसरे दिन 16 हजार से ज्यादा कोरोना के नए केस आए हैं। पिछले 24 घंटों में 16,488 हजार नए कोरोना केस आए और 113 लोगों की जान चली गई है। हालांकि 12,771 लोग कोरोना से ठीक भी हुए हैं। इससे पहले शुक्रवार को 16,577 नए कोरोना केस दर्ज किए थे।

स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, अब देश में कोरोना के कुल मामले बढ़कर एक करोड़ 10 लाख 79 हजार 979 हो गए हैं. कुल एक लाख 56 हजार 938 लोगों की जान जा चुकी है। एक करोड़ सात लाख 63 हजार 451 लोग कोरोना को मात देकर ठीक भी हो चुके हैं। देश में अब एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 1 लाख 59 हजार 590 हो गई है यानी कि इतने लोग अभी कोरोना संक्रमित हैं।

पोर्न इंडस्ट्री में कदम रखेंगी ये एक्ट्रेस… कोरोना के चलते रोका था शूट

टीवी शो पड़ोसी और राइन की मदद से लोकप्रियता हासिल करने वाली अभिनेत्री केटलीन स्टेसी ने कहा है कि वह जल्द ही पोर्न इंडस्ट्री में प्रवेश कर सकती हैं। कैटलिन का कहना है कि वह अश्लील फिल्मों का निर्देशन करने जा रही हैं। हालांकि उन्होंने अपना निर्देशन करियर वर्ष 2020 में शुरू करने का इरादा किया था, लेकिन कोरोना अवधि के कारण ऐसा नहीं हो सका।

स्टेसी ने 2005 से 2009 तक नेबर्स शो के साथ बहुत लोकप्रियता हासिल की। स्टेसी ने इस ऑस्ट्रेलियाई शो में रेचल किंस्की की भूमिका निभाई। स्टेसी ने, जिन्होंने वर्ष 2020 में अपने पोर्नोग्राफी करियर की शुरुआत की, ने कहा कि कोरोना के दौर में फिल्मों की शूटिंग करना असंभव था, हालांकि हम फरवरी में शूटिंग करने जा रहे थे, लेकिन तब चीजें बहुत खराब होने लगीं।

वुमन वेयर डेली के साथ बातचीत में, ऑस्ट्रेलियाई अभिनेत्री ने कहा कि वह अपनी पहली पोर्न फिल्म की शूटिंग एक कंपनी के साथ करने जा रही है जिसका नाम आफ्टरग्लो है। स्टेसी ने कहा कि इस कंपनी में केवल महिलाएं काम करती हैं और वे बहुत ही शांत लोग हैं। उसने कहा कि ये महिलाएं शानदार काम कर रही हैं और मैं अपने निर्देशन करियर को लेकर उत्साहित हूं।स्टेसी ने लुकास नेफ से शादी की, हालांकि दोनों ने कुछ समय बाद अलग होने का फैसला किया।

उन्होंने एक साक्षात्कार में कहा था कि भले ही मैंने एक पुरुष से शादी की हो, लेकिन मुझे हमेशा लगता है कि मैं महिलाओं के प्रति बहुत आकर्षित रहा हूं। हालांकि मैं किसी भी तरह के लेबल से दूर रहना पसंद करता हूं और सिर्फ ईमानदारी से अपना जीवन जीना चाहता हूं।स्टेसी ने हाल ही में शो ब्रिज और टनल की शूटिंग पूरी की। इस शो का 1980 का दौर है। यह कुछ युवा दोस्तों की कहानी है, जो गर्मियों के दौरान श्रमिक वर्ग के लोगों के साथ द्वीप पर रह रहे हैं। इस शो के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि इस शो की सिनेमैटोग्राफी शानदार है। इस शो में खूबसूरत कारों और विटेंज फैशन को देखा जाएगा।

बिग ब्रेकिंग : CM भूपेश ने कोरोना को लेकर मंत्रियों-अफसरों के साथ उच्च स्तरीय बैठक…. कलेक्टरों को दिए ये निर्देश… मास्क नहीं लगाने वालो को…

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश में कोरोना संक्रमण की रोकथाम और बचाव के सभी सतर्कतामूलक उपायों का कड़ाई से पालन करने के निर्देश दिए हैं। बघेल ने आज यहां विधानसभा परिसर स्थित अपने कार्यालय कक्ष में आयोजित एक उच्च स्तरीय बैठक में कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव की गाइड लाइन का कड़ाई से पालन किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली, मुम्बई सहित महाराष्ट्र के विभिन्न शहरों में कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है, इसलिए सभी जिलों के कलेक्टरों को सतर्क किया जाए। एयरपोर्ट और राज्य की अंतर्राज्यीय सीमाओं पर विशेष रूप से महाराष्ट्र से लगी राज्य की सीमा पर टेस्टिंग की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। अस्पतालों में भी कोरोना संक्रमण टेस्टिंग की सुचारू व्यवस्थाएं की जाए। साथ ही जो लोग मास्क नहीं लगाते हैं उनसे जुर्माने की राशि की वसूली कड़ाई से की जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि चौक-चौराहों में एनाउंसमेंट करा कर लोगों को मास्क पहनने, फिजिकल डिस्टेंस का पालन करने और समय-समय पर हाथों को धोने के लिए जागरूक किया जाए। सार्वजनिक स्थानों पर टेम्प्रेचर जांच की व्यवस्था भी जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि इन उपायों के पालन से हम अब तक कोरोना को रोकने में काफी हद तक सफल हुए हैं और आगे भी इन उपायों का पालन कर कोरोना संक्रमण की रोकथाम करने में सफल होंगे।

बैठक में स्वास्थ्य मंत्री, गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव सुब्रत साहू, स्वास्थ्य विभाग की प्रमुख सचिव रेणु जी. पिल्ले, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला, संचालक स्वास्थ्य नीरज बंसोड और मुख्यमंत्री सचिवालय में उप सचिव सौम्या चौरसिया भी उपस्थित थीं। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव ने बताया कि एयरपोर्ट पर आने वाले यात्रियों की टेस्टिंग शुरू कर दी गई है। उन्होंने बताया कि दुर्ग, राजनांदगांव और रायपुर में कोरोना संक्रमण के ज्यादा केस सामने आ रहे हैं।

बड़ी खबर : छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र समेत 5 राज्यों के लोगों को दिल्ली में एंट्री तभी… जब कोरोना रिपोर्ट निगेटिव होगी

नई दिल्ली। देश में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली सरकार अलर्ट हो गई है। अब 5 राज्यों से दिल्ली जाने वाले लोगों को कोरोना निगेटिव रिपोर्ट दिखाना जरूरी होगा। मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, केरल और पंजाब से दिल्ली आने वाले लोगों को निगेटिव RT-PCR दिखाने पर ही दिल्ली में एंट्री मिलेगी। नियम 27 फरवरी से 15 मार्च तक लागू रहेगा।

देश में कोरोना मरीजों की रफ्तार तेजी से बढ़ रही है। मंगलवार को 11 राज्यों में रिकवरी से ज्यादा कोरोना के नए मरीजों की संख्या बढ़ी। इनमें सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में 6,218 संक्रमित पाए गए। महाराष्ट्र के अब सभी 36 जिलों में कोरोना ने फिर से रफ्तार पकड़ ली है। यहां हर दिन मिलने वाले केसों में जबर्दस्त बढ़ोतरी दर्ज की गई है। सबसे ज्यादा पुणे, मुंबई, ठाणे, नागपुर, अमरावती जैसे जिलों में केस मिल रहे हैं।

महाराष्ट्र के अलावा गुजरात के 4 जिलों में केस बढ़ने की रफ्तार तेज हुई है। इनमें अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा और राजकोट शामिल है। मध्य प्रदेश के 3 जिलों में हालात बिगड़ रही हैं। इनमें इंदौर, भोपाल और बैतूल शामिल हैं। इस तरह अब देश के 122 जिले हैं, जहां कोरोना के केस बढ़ते जा रहे हैं।

24 घंटे में 100 लोगों ने जान गंवाई
देश में मंगलवार को 13 हजार 462 नए मरीज मिले। 13 हजार 659 लोग रिकवर हुए और 100 की मौत हो गई। अब तक 1 करोड़ 10 लाख से ज्यादा लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 1 करोड़ 7 लाख लोग ठीक हो चुके हैं, जबकि 1 लाख 56 हजार 598 मरीजों की मौत हो गई। 1 लाख 44 हजार 27 मरीज ऐसे हैं, जिनका इलाज चल रहा है।

BIG BREAKING : अन्य राज्यों से छत्तीसगढ़ आ रहे यात्रियों की होगी कोविड स्क्रीनिंग और कान्टेक्ट ट्रेसिंग, सभी कलेक्टरों को आदेश जारी

रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए ऐहतियाती कदम उठाते हुए अन्य राज्यों से विभिन्न माध्यमों से छत्तीसगढ़ आ रहे यात्रियों की कोविड स्क्रीनिंग एवं कान्टेक्ट ट्रेसिंग की व्यवस्था करने के निर्देश सभी कमिश्नरों और जिला कलेक्टरों को जारी किए गए हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा इस संबंध में सभी कमिश्नरों और जिला कलेक्टरों को जारी निर्देशों में कहा गया है कि देश में कोरोना संक्रमण प्रभावित व्यक्तियों की संभावित वृद्धि को देखते हुए विभिन्न माध्यमों से अन्य राज्यों से छत्तीसगढ़ आ रहे यात्रियों की कोविड स्क्रीनिंग एवं कान्टेक्ट ट्रेसिंग की व्यवस्था की जाए।
रायपुर एवं जगदलपुर (बस्तर) एयरपोर्ट पर विशेष रूप से मुबंई एवं दिल्ली से आने वाले यात्रियों सहित सभी यात्रियों की निर्धारित एस.ओ.पी. अनुसार कोविड स्क्रीनिंग एवं कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग संबंधी निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित किया जाए।
जारी निर्देशों में कहा गया है कि विशेषकर महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश एवं दिल्ली से सड़क एवं रेल मार्ग से आने वाले यात्रियों की भी कोविड स्क्रीनिंग एवं कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग हेतु आवश्यक व्यवस्था रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन एवं अन्तर्राज्यीय एंट्री पॉइन्ट पर की जाए। सभी कमिश्नरों और जिला कलेक्टरों को इन निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करते हुए उससे संबंधित अन्य समस्त कार्यवाईयों के लिए भी व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा गया है।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोरोना के बढ़ते प्रकरण को देखते हुए प्रदेशवासियों से कोरोना संक्रमण से बचने हेतु पूर्व में जारी गाइडलाइन का पालन करने की अपील की है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि जब तक हम कोरोना पर विजय प्राप्त नही कर लेते तब तक इससे बचने के लिए मास्क पहने, सोशल और फिजिकल डिस्टेंस का पालन करें, थोड़ी-थोड़ी देर में हाथों को धोते रहें। इन उपायों का पालन करने से ही हम अपने प्रदेश में कोरोना को रोकने में काफी हद तक सफल हुए हैं और आगे भी इनका कड़ाई से पालन करते हुए कोरोना संक्रमण की रोकथाम कर सकेंगे।

बड़ी खबर : जिले में रात 10 से सुबह 6 बजे तक लगा नाईट कर्फ्यू… कलेक्टर ने जारी किया आदेश 

बालाघाट। मध्यप्रदेश में कोरोना के केस तेजी से बढ़ने से सरकार और प्रशासन ने एक बार फिर अलर्ट जारी कर दिया है। कोरोना के संक्रमण से बचाव के उपाय अपनाने के साथ ही एहतियातन प्रशासन ने बालाघाट जिले में धारा 144 लागू कर दिया है।
कलेक्टर दीपक आर्य ने कोविड 19 से सुरक्षा के उपाय अपनाने के साथ कर्फ्यू का सख्ती से पालन कराने के निर्देश जारी कर दिए हैं। जिले में रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू रहेगा। सीमाओं में भी चौकसी बढ़ाने की तैयारी की जा रही है। बाहरी व्यक्ति के प्रवेश को लेकर भी पूर्व की तरह सतर्कता बरतने की कार्रवाई जा रही है।

भारत के कुछ राज्‍यों में कोरोना वायरस के मामलों में फिर उछाल देखा जा रहा है। ऐसी संभावना है कि इसके पीछे वायरस का नया स्‍वरूप जिम्‍मेदार हो सकता है। इस आशंका में कितनी सच्‍चाई है, इसका पता लगाने को सैम्‍पल्‍स की जीनोम सीक्‍वेंसिंग की जा रही है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के हवाले से मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि पिछले एक महीने में महाराष्‍ट्र और केरल से करीब 900 सैम्‍पल भेजे गए हैं। दिल्‍ली में भी उपराज्‍यपाल अनिल बैजल ने अधिकाारियों को क्‍लस्‍टर-बेस्‍ड जीनोम सीक्‍वेंसिंग शुरू करने के निर्देश दिए हैं। क्‍लस्‍टर-बेस्‍ड जीनोम सीक्‍वेंस टेस्टिंग और सर्विलांस से वायरस के किसी म्‍यूटेशन की पहचान होती है।

खबर के मुताबिक, पंजाब और बेंगलुरु से भी जीनोम सीक्‍वेंसिंग के लिए सैम्‍पल्‍स मांगे गए हैं। तीन से चार दिन में यह साफ हो जाएगा कि इन राज्‍यों में कोविड केसेज बढ़ने के पीछे कोरोना वायरस का कोई नया वैरियंट है या नहीं। अबतक देशभर में करीब 6,000 सैम्‍पल्‍स की जीनोम सीक्‍वेंसिंग की जा चुकी है।

केरल और मुंबई में ‘माइक्रो लेवल मॉनिटरिंग’ की जा रही है। स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के अधिकारी यह भी पता करने की कोशिश कर रहे हैं कि क्‍या नए इलाकों में कोविड क्‍लस्‍टर्स बन रहे हैं। भारत में अबतक जीनोम सीक्‍वेंसिंग के लिए 10 सर्विलांस साइट्स बनाई गई हैं। यूरोप की तरह भारत में बेहद संक्रामक यूके वैरियंट के उतने ज्‍यादा फैलने के सबूत नहीं मिले हैं। यूके वैरियंट के अबतक 187 केस सामने आए हैं। ब्राजील और साउथ अफ्रीका से भी नए वैरियंट मिले हैं। साउथ अफ्रीकन स्‍ट्रेन के अबतक चार केस और ब्राजील वैरियंट का एक केस ही सामने आया है।

केंद्र सरकार ने महाराष्‍ट्र, केरल, गोवा, आंध्र प्रदेश और चंडीगढ़ को नया ऐक्‍शन प्‍लान सौंपा है। यहां पर कोविड केसेज में खासा उछाल देखने को मिला है। केंद्र ने कहा है कि टेस्टिंग के बाद जीनोम सीक्‍वेंसिंग के जरिए म्‍यूटंट स्‍ट्रेन्‍स की लगातार मॉनिटरिंग की जाए। साथ ही केसेज के क्‍लस्‍टर की निगरानी को भी कहा गया है।

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के शीर्ष अधिकारियों के हवाले से न्‍यूज एजेंसी IANS ने कहा है कि देशभर में पिछले एक साल में SARS-COV-2 के 24,000 से अधिक म्यूटेशन का पता लगाया गया है। अधिकारियों ने कहा कि कोरोनोवायरस के लगभग 7,000 वैरियंट में म्यूटेशन का पता चला है जो देश में सर्कुलेशन में हैं। कोविड-19 के नेशनल टास्क फोर्स के एक प्रमुख सदस्य ने कहा, “हमने वायरस के 7,000 वैरियंट में 24,300 म्यूटेशन का पता लगाया है।” दिल्ली स्थित एनसीडीसी लैब के निदेशक सुजीत कुमार सिंह ने भी आईएएनएस से पुष्टि की है कि वायरस में 24,000 से अधिक म्यूटेशन भारत में दर्ज किए गए हैं।

LOCK DOWN : राजधानी सहित जिलों में… फिर बढ़ा कोरोना का ग्राफ… स्वास्थ्य मंत्री चिंतित… सीएम करेंगे समीक्षा… लाॅक डाउन पर भी निर्णय

देश में कोरोना का ग्राफ कम होने के बाद अब कुछ राज्यों में अचानक संक्रमण ने एक बार फिर रफ्तार पकड़नी शुरू कर दी है। जाहिर है, यह सरकार को नाकारा साबित करने के लिए पर्याप्त है। कोरोना की वजह से अब तक लाखों की संख्या में जान गंवाने के बाद थोड़ी राहत महसूस होने लगी थी, लेकिन मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश और छत्तीसगढ़ में बढ़ते संक्रमण ने सरकार के माथे पर बल ला दिया है।

मध्यप्रदेश में कोरोना बढ़ते मामलों को लेकर स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चैधरी का बयान सामने आया है। मंत्री प्रभुराम चैधरी ने कहा कि कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ना निश्चित तौर पर चिंता का विषय है। आज सीएम शिवराज सिंह चैहान कोरोना के खिलाफ समीक्षा बैठक करेंगे । मंत्री प्रभुराम चैधरी ने कहा कि समीक्षा बैठक के बाद हालातों को लेकर निर्णय लिया जाएगा । मंत्री प्रभुराम चैधरी ने आम जनता से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील की है। स्वास्थ्य मंत्री ने मास्क लगाने की अपील की है। बता दें कि इंदौर, भोपाल में तेजी से मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है। पिछले 2-3 दिनों से यहां लगातार मरीज बढ़ रहे हैं। लॉकडाउन और कंटेनमेंट जोन को लेकर आज फैसला होगा।

छत्तीसगढ़ : जिले में बाहर से आने वालों को कोरोना टेस्ट कराना अनिवार्य… कलेक्टर ने जारी किया आदेश… 

अंबिकापुर। प्रदेश के अंबिकापुर जिले में अब बाहर से आने वाले व्यक्तियों को कोरोना टेस्ट कराना होगा। कलेक्टर संजीव कुमार झा ने इस संबंध में निर्देश दिए हैं। सीएमएचओ डॉ. पीएस सिसोदिया ने बताया है कि बाहर से आने वाले लोगों को अपनी यात्रा का विवरण देते हुए एसडीएम कार्यालय अंबिकापुर में पंजीयन कराना होगा। पंजीयन उपरांत गांधी स्टेडियम स्थित स्पोर्ट्स हॉस्टल में उपस्थित होकर आवश्यक रूप से कोविड-19 जांच करानी होगी। इस संबंध में अधिक जानकारी या किसी प्रकार की समस्या होने पर मोबाइल नंबर 8819931969 और 9826209818 पर संपर्क कर सकते हैं।

बड़ी खबर : पूर्व केंद्रीय मंत्री व दिग्गज कांग्रेस नेता का निधन…

नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री व दिग्गज कांग्रेस नेता कैप्टन सतीश शर्मा का बुधवार को निधन हो गया. कैप्टन सतीश शर्मा लंबे समय तक अमेठी लोकसभा क्षेत्र में गांधी परिवार के प्रतिनिधि थे. वो पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के करीबी माने जाते थे. उनके निधन पर कई राजनीतिक दलों के नेताओं ने दुख जताया है.