पीरियड के दौरान एक्सरसाइज करना सही या गलत …पढ़िए पूरी खबर

नई दिल्ली। महिलाओं के लिए पीरियड के पहले तीन दिन काफी परेशानी से गुजरते हैं। पीरियड के दौरान महिलाओं को थकान, पेट दर्द, मूड स्विंग जैसी कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इन दिनों बॉडी में इतनी कमजोरी रहती है कि कई बार तो बिस्तर से उठना भी मुश्किल लगता है। इन दिनों महिलाओं के दिमाग में एक ही सवाल रहता है कि पीरियड के दौरान एक्सरसाइज करना ठीक रहेगा या नहीं। फिटनेस फ्रीक लेडीज़ अपनी फिटनेस को लेकर ज्यादा चिंतित रहती है वो एक दिन भी बिना वर्कआउट किए रहना पसंद नहीं करती। ऐसी महिलाएं पीरियड के दौरान वर्कआउट करने को लेकर असमंजस में रहती हैं। अगर आप भी इसी कश्मकश से जूझ रही हैं तो हम आपको बताते हैं कि पीरियड के दौरान एक्सरसाइज करना कितना सही है।

पीरियड्स में एक्सरसाइज करना कितना सुरक्षित?

पीरियड्स के दौरान अक्सर महिलाएं आराम ही करती हैं। जितना आराम करेंगी उतनी ही बॉडी ठीक रहेगी। एक्सरसाइज करना या न करना पूरी तरह से आपके शरीर और आपकी विल पॉवर पर निर्भर करता है। लेकिन एक्सपर्ट के मुताबिक पीरियड्स के दौरान थोड़ी बहुत एक्सरसाइज करना न सिर्फ सुरक्षित है बल्कि ऐसा देखा गया है कि इसके कारण प्री मेंस्टुएशन सिंड्रोम के लक्षण कम हो जाते हैं। इतना ही नहीं पीरियड के दौरान एक्सरसाइज करने से महिलाओं को पेट दर्द से भी राहत मिलती है।

एक्सरसाइज के दौरान इन बातों का ध्यान रखें:

पीरियड्स के दौरान लाइट एक्सरसाइज करने से बॉडी में किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होती। एक्सरसाइज के दौरान महिलाएं ध्यान रखें कि हैवी वेट वाली चीजें नहीं उठाएं। जब आप एक्सरसाइज करते हैं तो आपका शरीर एंड्रोफिन नामक हार्मोन स्त्रावित करता है जो तनाव, मरोड़, सिरदर्द और मासिक धर्म के कारण होने वाले दर्द से राहत पहुंचाने में मददगार साबित होता है।

महिलाए इस दौरान कौन सी एक्सरसाइज कर सकती है?

डांस करना पूरी तरह से सुरक्षित है। कई अध्ययनों में ये बात सामने आ चुकी है कि पीरियड्स के दौरान टहलने से महिलाओं की बॉडी को काफी फायदा मिलता है। इस दौरान एक्सरसाइज करने से मसल्स रिलेक्स होते हैं और दर्द से आराम मिलता है। डांस करना अच्छी एक्सरसाइज है इसके अलावा डांस करने से मन खुश होता है और लाइट एक्सरसाइज के अंतर्गत स्ट्रेचिंग, टहलना, एरोबिक्स करना, योग करना और तनाव दूर होता है। वहीं स्ट्रेचिंग करने से बॉडी रिलैक्स होती है। याद रखें कि आप इस दौरान एक्सरसाइज तभी करें जब आपका मन और बॉडी एक्सरसाइज करने में सक्षम हो।