LIVE : बजट सहित नए साल का… प्रारूप कैसा होगा… सुनिए पीएम मोदी… की ’’मन की बात’’

आज नए कलेंडर के पहले महीने का आखरी दिन है। संसद का बजट सत्र शुरू हो चुका है। कल 1 फरवरी को देश का आम बजट सामने आने वाला है। इन तमाम पहलुओं पर सुनिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मन की बात –

तिरंगे के अपमान से दुखी हूं
मोदी ने कहा कि 26 जनवरी को तिरंगे का अपमान देख देश बहुत दुखी हुआ। हमें आने वाले वक्त को नई आशा और उम्मीदों से भरना है। हमने असाधारण क्षमता का परिचय दिया है और आगे भी हमें ऐसा करना है। साल की शुरुआत के साथ ही कोरोना के खिलाफ लड़ाई को भी एक साल पूरा हो गया है। वैक्सीनेशन प्रोग्राम दुनिया में मिसाल बन रहा है।
भारत दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन प्रोग्राम चला रहा है। हम दुनिया में सबसे तेज गति से अपने नागरिकों का वैक्सीनेशन कर रहे हैं। 15 दिन में ही 30 लाख से ज्यादा कोरोना वॉरियर्स का टीकाकरण हो गया है। अमेरिका को इसी काम में 18 और ब्रिटेन को 36 दिन लगे थे।
नमो ऐप पर यूपी से हिमांशु यादव ने लिखा है कि मेड इन इंडिया वैक्सीन से मन में आत्मविश्वास आ गया। मदुरै से कीर्ति जी ने लिखा कि कई विदेशी दोस्तों ने लिखा कि भारत ने जिस तरह कोरोना से लड़ाई में दुनिया की मदद की, उससे उनके मन में भारत की इज्जत और भी बढ़ गई है।
जितने आत्मनिर्भर होंगे, उतना ही मानवता की सेवा कर पाएंगे
मोदी ने कहा कि अभी ब्राजील के राष्ट्रपति ने जिस तरह से भारत को धन्यवाद दिया, उससे हर भारतीय को कितना अच्छा लगा है। भारतीयों को रामायण के उस प्रसंग की गहरी जानकारी है, उसका प्रभाव है और ये हमारी संस्कृति की विशेषता है। संकट में भारत दुनिया की सेवा इसलिए कर पा रहा है, क्योंकि हम दवाओं और वैक्सीन को लेकर आत्मनिर्भर है। जितना हम आत्मनिर्भर होंगे, उतना ही दुनिया की और मानवता की सेवा कर पाएंगे।
आजादी की 75वीं सालगिरह पर अमृत महोत्सव शुरू होगा
च्ड ने कहा कि 23 साल की प्रियंका बिहार के सिवान में रहती हैं और हिंदी साहित्य की विद्यार्थी हैं। वे देश के 15 पर्यटन स्थलों पर जाने के मेरे सुझाव से प्रेरित थीं। एक जनवरी को वे देश के पहले राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद के पैतृक निवास पर गईं। उन्होंने लिखा कि देश की महान विभूतियों को जानने में उनका ये पहला कदम था। आपका ये अनुभव दूसरों को प्रेरित करेगा।श्
भारत आजादी के 75वीं सालगिरह पर अमृत महोत्सव शुरू करने जा रहा है। आजादी और बिहार की बात हो रही है तो एक और टिप्पणी करना चाहूंगा। मुंगेर के जयराम जी ने मुझे शहीद दिवस के बारे में लिखा। 15 फरवरी 1932 को अंग्रेजों ने वीरों की टोली ही हत्या कर दी थी। उनका अपराध था कि वो वंदेमातरम और भारत माता की जय के नारे लगा रहे थे। मैं जयरामजी को धन्यवाद देना चाहता हूं कि वो ऐसी घटना को देश के सामने लाए, जिस पर उतनी चर्चा नहीं हुई, जितनी होनी चाहिए थी।
युवा स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में लिखें
मोदी ने कहा कि मैं सभी देशवासियों और युवाओं का आह्वान करता हूं कि देश के स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में लिखें। आपका लेखन आजादी के नायकों के प्रति उत्तम श्रद्धांजलि होगी। यंग राइटर्स के लिए इंडिया-75 के तहत एक पहल हो रही है। इससे सभी राज्यों और भाषाओं के युवा लेखकों को बढ़ावा मिलेगा। देश को नए लेखक मिलेंगे। इससे भविष्य की दिशा निर्धारित करने वाले थॉट लीडर्स का ग्रुप भी बनेगा।