बढ़ते कोरोना के बीच PM मोदी ने फिर बुलाई बैठक, सभी मुख्यमंत्रियों से 17 मार्च को करेंगे बात

नई दिल्ली। देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच पीएम मोदी ने एक बार फिर सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक बुलाई है. बताया जा रहा है कि 17 मार्च को होने वाली इस बैठक में पीएम मोदी कोरोना के बढ़ते मामले और वैक्सीनेशन पर जोर देने की बातों को लेकर चर्चा करेंगे. पीएम मोदी इस दौरान मुख्यमंत्रियों से कोरोना से अबतक की लड़ाई और वैक्सीनेशन अभियान पर फीडबैक भी लेंगे. पीएम मोदी यह बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए लेंगे.

पिछले 24 घंटे में नए मामले 26 हजार के पार

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 26,291 नए मामले सामने आए हैं. जिसके बाद देश में कोरोना के कुल मामलों की संख्या1,13,85,339 हो गई है. वहीं कोरोना के चलते 118 नई मौतें भी हुई हैं जिसके बाद कुल मौतों की संख्या 1,58,725 हो गई है. देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 2,19,262 है और डिस्चार्ज हुए मामलों की कुल संख्या 1,10,07,352 है. देश में कुल 2,99,08,038 लोगों को कोरोना वायरस की वैक्सीन लगाई गई है.

पंजाब में बोर्ड परीक्षाएं टलीं

उधर, पंजाब में कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर राज्य सरकार ने फिर से स्कूलों को बंद करने का फैसला लिया है. इसके अलावा राज्य सरकार ने 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं टालने का फैसला लिया है. पंजाब के शिक्षा विभाग के मुताबिक राज्य में 22 मार्च से आरंभ होने वाली 12वीं की परीक्षा अब 20 अप्रैल से 24 मई तक करवाई जाएंगी. वहीं, 9 अप्रैल से शुरू होनी वाली 10वीं की परीक्षाएं अब 4 मई से 24 मई तक करवाई जाएंगी.

सूरत में फिर से खोला गया कोरोना स्पेशल अस्पताल

कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से सूरत में कोरोना स्पेशल अस्पताल फिर से खोले जाने का फैसला लिया गया है. 500 बेड वाले कोरोना के इस अस्पताल को फिर से शुरू किया गया है. कोरोना के मामलों में कमी के बाद इस अस्पताल को बंद कर दिया गया था लेकिन मामले फिर से बढ़ने के बाद प्रशासन ने यह फैसला लिया है.

मोदी का ममता पर तंज- दीदी स्कूटी पर चलीं तो सबने प्रार्थना की, पर जब स्कूटी ने नंदीग्राम में गिरना तय किया तो हम क्या करें

कोलकाता। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोलकाता के ब्रिगेड परेड ग्राउंड में विशाल रैली को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बंगाल ने आपको दीदी के रूप में चुना था, लेकिन आप सिर्फ एक भतीजे की बुआ बनकर रह गईं। बंगाल के लोग आपसे केवल यही एक सवाल पूछ रहे हैं। बंगाल ने परिवर्तन के लिए ममता दीदी पर भरोसा किया था। लेकिन दीदी ने ये भरोसा तोड़ दिया। इन लोगों ने बंगाल का विश्वास तोड़ा। इन लोगों ने बंगाल को अपमानित किया। यहां की बहन-बेटियों पर अत्याचार किया, लेकिन ये लोग बंगाल की उम्मीद कभी नहीं तोड़ पाए।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वामपंथियों के विरुद्ध ममता दीदी ने पोरिवर्तन का नारा दिया था। बंगाल से ‘मां, माटी, मानुष’ के लिए काम करने का वादा किया। लेकिन आप मुझे बताएं, क्या टीएमसी पिछले 10 वर्षों में यहां आम लोगों के जीवन में बदलाव लाने में सफल रही है? ‘मां, मानुष, माटी’ की हालत से आप अच्छी तरह वाकिफ हैं। सड़कों पर और उनके घरों में माताओं पर हमले हो रहे हैं। हाल ही में, एक 80 वर्षीय मां पर क्रूरता ने पूरे देश के सामने अपका क्रूर चेहरा दिखाया।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कुछ दिन पहले, जब आप (ममता बनर्जी) एक स्कूटी पर सवार हुई थीं,तो हर कोई प्रार्थना कर रहा था कि आप चोटिल न हों। अच्छा हुआ कि आप गिरी नहीं। नहीं तो आप उस राज्य को दुश्मन बना लेतीं, जहां स्कूटी बनी है। आपकी (ममता बनर्जी की) स्कूटी ने भवानीपुर जाने के बजाय नंदीग्राम की ओर रुख किया। दीदी, मैं सभी को शुभकामना देता हूं और किसी को चोट नहीं पहुंचाना चाहता। लेकिन अगर नंदीग्राम में स्कूटी का गिरना तय है तो मैं क्या कर सकता हूं?

प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी कहा कि अगले 5 सालों का विकास बंगाल के आने वाले 25 सालों के विकास का आधार बनेगा। 25 साल बाद देश जब आजादी के 100 साल मनाएगा तो बंगाल फिर से पूरे देश को एक बार फिर आगे ले जाने वाला बंगाल बन जाएगा। केंद्र की हमारी सरकार ने कोलकाता की धरोहरों को संवारने के लिए अनेक प्रयास किए हैं, जब कोलकाता में विकास का डबल इंजन लग जाएगा, तो वो रोड़े भी खत्म हो जाएंगे जो अभी कदम-कदम पर हमें अनुभव होते हैं। भाजपा सरकार में यहां परीक्षा से लेकर ट्रेनिंग और भर्ती प्रक्रिया में एक पारदर्शी व्यवस्था फिर से खड़ी होगी। यहां नई शिक्षा नीति पर भी बल दिया जाएगा। इंजीनियरिंग, डॉक्टर और तकनीकी शिक्षा की पढ़ाई बांग्ला भाषा में हो इस पर भी जोर दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री के विदेश दौरों की जल्द होगी शुरुआत, कोरोना काल से कूटनीति के बाहर निकलने के संकेत

नई दिल्ली। कोरोना की वजह से राष्ट्र प्रमुखों के विदेश दौरे पर लगी रोक अब खत्म होने के संकेत हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस महीने 26 तारीख से बांग्लादेश दौरे से विदेश यात्राओं की शुरुआत हो जाएगी। विदेश मंत्रालय में पीएम मोदी की मई, 2021 में यूरोपीय संघ की यात्रा को लेकर भी तैयारी जोरों पर है। यूरोपीय संघ की यात्रा के कुछ ही समय बाद मोदी जून, 2021 में समूह-7 देशों की बैठक में हिस्सा लेने ब्रिटेन भी जा सकते हैं। यूरोपीय संघ और ब्रिटेन की यात्रा के दौरान पीएम कुछ अन्य देशों को भी अपनी यात्रा के रूट में शामिल कर सकते हैं।

विदेशी मेहमानों के भी भारत आने को लेकर विमर्श जारी

इसके साथ ही कुछ विदेशी मेहमानों के भी भारत आने को लेकर विमर्श का गंभीर दौर चल रहा है। इसमें सबसे पहले जापान के पीएम योशीहिदे सुगा और रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन के भारत आने को लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय जापान व रूस के विदेश मंत्रालयों के संपर्क में है। इन दोनों राष्ट्राध्यक्षों को दिसंबर, 2019 में भारत आना था लेकिन कुछ वजहों से तब यह दौरा स्थगित हो गया था। बाद में कोरोना की वजह से यात्रा नहीं हो सकी। वैसे इस साल (2021) में भारत ब्रिक्स संगठन की अध्यक्षता कर रहा है। कोरोना से यदि हालात और न बिगड़े तो 2021 के मध्य के बाद ब्राजील, रूस, दक्षिण अफ्रीका और चीन के राष्ट्राध्यक्ष भारत दौरे पर आ सकते हैं। हाल ही में ब्रिक्स देशों के शेरपाओं (संगठन की तैयारियों पर अंतिम फैसला करने वाले सभी देशों के प्रतिनिधि) की पहली बैठक हुई जिसमें संगठन के तहत होने वाली छह शीर्ष स्तरीय बैठकों के बारे में शुरुआती चर्चा की गई है।

व्यक्तिगत मेल-मिलाप की अपनी अहमियत

सूत्रों का कहना है कि कोरोना की वजह से वर्चुअल बैठक कूटनीति की नई सच्चाई बन गई है। इसके बावजूद द्विपक्षीय रिश्तों को तय करने और उनकी दिशा बनाने में व्यक्तिगत मेल-मिलाप की अपनी अहमियत है और यह आगे भी बनी रहेगी। हाल के दिनों में पीएम मोदी की जिन विदेशी नेताओं से बात हुई है उसमें कई ने उन्हें अपने देश आने के लिए आमंत्रित किया है। मसलन, ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन और आस्ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मॉरीसन ने मोदी के साथ टेलीफोन वार्ता में उन्हें अपने देश की यात्रा पर आने के लिए आमंत्रित किया था।

हमेशा की तरफ प्रधानमंत्री विदेश दौरों की शुरुआत पड़ोसी देशों के साथ कर रहे हैं। 26 और 27 मार्च, 2021 को वह बांग्लादेश की यात्रा के बाद निकट भविष्य में उनके नेपाल जाने की भी संभावना है। वैसे इस बारे में फैसला पड़ोसी देश नेपाल में राजनीतिक माहौल देख कर किया जाएगा।

विदेश मंत्री जयशंकर आज जाएंगे ढाका

पीएम नरेंद्र मोदी की बहुप्रतीक्षित बांग्लादेश यात्रा से ठीक पहले विदेश मंत्री एस जयशंकर गुरुवार चार मार्च को ढाका जा रहे हैं। जयशंकर ढाका में बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना के साथ ही वहां के विदेश मंत्री से भी अलग-अलग मुलाकात करेंगे।

LIVE : देश के सामने मिसाल… प्रधानमंत्री मोदी ने लगवाया… को-वैक्सीन का पहला टीका

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज भारत बायोटेक द्वारा निर्मित को-वैक्सीन का पहला टीका खुद लगवाया। यह देश के लिए मिसाल है कि जनता को भरोसा दिलाने के लिए देश के प्रधानमंत्री ने पहला टीका खुद लगवाया है। जिसे लेकर विपक्ष बार-बार हमला कर रहा था और कहा जा रहा था कि को-वैक्सीन को लेकर भरोसा तब तक नहीं होगा, जब तक प्रधानमंत्री और उनके मंत्रिमंडल के लोग यह टीका प्रयोग नहीं करते हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने को-वैक्सीन का पहला टीका खुद लगवाकर विपक्ष के तमाम लोगों और आलोचकों के बोलती बंद कर दी है। वहीं देश की जनता के सामने मिसाल पेश तो किया ही है, साथ ही इस बात का भरोसा भी दिला दिया है कि देश के वैज्ञानिकों ने देश की जनता के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए कितनी तीव्रता से दिन-रात एक कर कोरोना के खिलाफ जंग के लिए वैक्सीन तैयार किया है।

भाजपा की बंपर जीत पर पीएम मोदी ने कहा, थैंक यू गुजरात, आज की जीत बहुत स्‍पेशल

पीएम मोदी ने गुजरात नगर निकाय चुनाव में भाजपा की बंपर जीत पर ट्वीट किया। भाजपा की जीत के लिए गुजरात की जनता का शुक्रिया अदा किया। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि धन्यवाद गुजरात! राज्यभर में म्युनिसिपल चुनावों के परिणाम साफ दिखाते हैं कि लोगों ने विकास और सुशासन की राजनीति पर अपना भरोसा जताया है। भाजपा पर एक बार फिर विश्वास जताने के लिए राज्य के लोगों का आभारी हूं। गुजरात के लोगों की सेवा करना हमेशा से सम्मान की बात रही है। मैं भाजपा गुजरात के हर एक कार्यकर्ता के प्रयासों की सराहना करता हूं, जिन्होंने पूरे राज्य में जन-जन तक पहुंच कर उन्हें पार्टी के विजन से अवगत कराया। गुजरात सरकार की जनहित की नीतियों ने राज्य में सकारात्मक परिवर्तन लाने का काम किया है। गुजरात के कोने-कोने में मिली यह जीत बहुत ही खास है। दो दशकों से ज्यादा समय तक सत्ता में रहने वाली पार्टी के लिए इस प्रकार की शानदार जीत हासिल करना बेहद उल्लेखनीय है। समाज के सभी वर्गों, खासकर गुजरात के युवाओं का भाजपा को लगातार समर्थन अभिभूत करने वाला है।। ज्ञात हो कि गुजरात में छह महानगर पालिका अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा, राजकोट, जामनगर तथा भावनगर पर भाजपा का फिर कब्‍जा जमाया है। अब तक घोषित 474 सीटों में से भाजपा ने 409 सीटें जीती है।

आज के नतीजे गुजरात में सबसे अच्छे परिणामों में से एक: शाह
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने निकाय चुनावों में बीजेपी के शानदार प्रदर्शन के लिए राज्य की जनता को धन्यवाद दिया। गुजराती में ट्वीट कर आभार जताया। गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि नगर निगम चुनाव परिणाम बताते हैं कि गुजरात ने फिर से खुद को भाजपा के गढ़ के रूप में स्थापित किया है। मोदी जी के नेतृत्व में शुरू की गई ‘विकास यात्रा’ को बीजेपी जारी रखे हुए है। आज के नतीजे गुजरात में सबसे अच्छे परिणामों में से एक हैं। उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस कई सीटों पर जमानत तक नहीं बचा पाई है और कई अन्य पर 3 और 4 वें स्थान पर हैं। केवल 44 सीटें देकर लोगों ने कांग्रेस नेताओं को आत्मनिरीक्षण करने का संदेश दिया है। 85 फीसद से अधिक सीटों पर भाजपा के कामकाज और उसके सिद्धांतों की जीत है।

भाजपा अध्‍यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि भाजपा को गुजरात के 6 नगर निकाय के चुनावों में भारी बहुमत मिला है। मैं 6 नगर निकायों के वोटरों, सीएम विजय रुपाणी और भाजपा प्रमुख सीआर पाटिल और पार्टी कार्यकर्ताओं को बधाई देता हूं।

भाजपा के राष्ट्रीय पदाधिकारियों की अहम बैठक आज, पीएम मोदी करेंगे संबोधित, जानें किन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा?

नयी दिल्ली। पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव और कृषि कानूनों पर जारी घमासान के बीच भारतीय जनता पार्टी की आज एक अहम बैठक होने वाली है। भाजपा के राष्ट्रीय पदाधिकारियों की आज यानी रविवार को होने वाली बैठक में किसान आंदोलन, आगामी पांच विधानसभाओं के चुनाव के साथ अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव पर भी केंद्रीय नेतृत्व की खास नजर रहेगी। साथ ही जिन राज्यों में पार्टी को अपेक्षित चुनावी सफलता नहीं मिल पा रही है, उन पर भी विचार विमर्श किया जाएगा। किसान आंदोलन के जारी रहने का असर भी बैठक पर रहेगा और हर राज्य की तरफ से अपने यहां की अद्यतन जानकारी दी जाएगी।

इसके पहले शनिवार को भाजपा के विभिन्न राज्यों के संगठन मंत्रियों ने केंद्रीय नेतृत्व के साथ बैठक कर अपने-अपने राज्यों की संगठनात्मक और राजनीतिक गतिविधियों का ब्यौरा दिया। हालांकि, अधिकांश समय संगठनात्मक कार्यों एवं अन्य मुद्दों पर चर्चा हुई, लेकिन चुनाव वाले राज्यों ने अपने यहां की राजनीतिक स्थिति की रिपोर्ट भी रखी। इस बैठक के बाद महासचिवों के साथ पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने मंथन किया। इन बैठकों में रविवार की बैठक के लिए पूरी तैयारी कर ली गई है, ताकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में हर राज्य से सारे राजनीतिक और संगठनात्मक गतिविधियों के की जानकारी रखी जा सके।

मोदी-शाह भी रहेंगे मजूद

बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह समेत प्रमुख केंद्रीय नेता भी मौजूद रहेंगे। कई बार प्रधानमंत्री खुद भी सवाल पूछते हैं, इसलिए सभी राज्यों के संगठन मंत्रियों ने अपनी रिपोर्ट को चाक-चौबंद कर लिया है। रविवार की बैठक में प्रदेश अध्यक्ष द्वारा अपने-अपने राज्यों की जानकारी देंगे और उसमें चुनाव वाले राज्यों पर खास जोर रहेगा। सूत्रों के अनुसार बैठक में अगले एक साल के अंदर आने वाले चुनाव को लेकर भी चर्चा की जाएगी। अगले साल की शुरुआत में उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पंजाब के विधानसभा चुनाव होने है।

किसान आंदोलन पर फीडबैक लेंगे

बैठक में किसान आंदोलन को लेकर विभिन्न राज्यों की स्थिति और वहां के फीडबैक को भी लिया जाएगा। खासकर दिल्ली के आसपास के राज्यों उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब व राजस्थान की रिपोर्ट इस मामले में महत्वपूर्ण होगी। इसके अलावा मध्य प्रदेश व महाराष्ट्र से भी किसान आंदोलन को लेकर जानकारी ली जाएगी। जिस तरह से किसान आंदोलनकारी ऐसे लंबा खींच रहे हैं उससे पार्टी सभी राज्यों को लेकर सतर्क है। उसकी कोशिश है कि किसानों तक सरकार की बात पूरी तरह पहुंचे।

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर बोले PM मोदी- पहले की सरकारों के चलते हुआ ऐसा

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार नौवें दिन तेजी के बाद देश में पेट्रोल की कीमत बुधवार को पहली बार 100 रुपये के पार चली गई। इस बीच पेट्रोल की बढ़ती कीमतों पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि मध्यम वर्ग को ऐसी कठिनाई नहीं होती, यदि पहले की सरकारों ने ऊर्जा आयात की निर्भरता पर ध्यान दिया होता।

ईंधन की कीमतों में लगातार हो रही वृद्धि का जिक्र किए बिना ही उन्होंने कहा कि 2019-20 में भारत ने अपनी घरेलू मांगों को पूरा करने के लिए 85 प्रतिशत तेल और 53 प्रतिशत गैस का आयात किया है।

तमिलनाडु में एन्नौर-थिरुवल्लूर-बेंगलुरु-पुदुचेरी-नागापट्टिनम-मदुरै-तूतीकोरिन प्राकृतिक गैस पाइपलाइन के रामनाथपुरम- थूथूकुडी खंड का उद्घाटन करने के बाद अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा, ”क्या हमें आयात पर इतना निर्भर होना चाहिए? मैं किसी की आलोचना नहीं करना चाहता लेकिन यह जरूर कहना चाहता हूं कि यदि हमने इस विषय पर ध्यान दिया होता, तो हमारे मध्यम वर्ग को बोझ नहीं उठाना पड़ता।”

उन्होंने कहा, ”स्वच्छ और हरित ऊर्जा के स्रोतों की दिशा में काम करना और ऊर्जा-निर्भरता को कम करना हमारा सामूहिक कर्तव्य है। देश में पेट्रोल की कीमत आज पहली बार 100 रुपये के पार चली गयी। राजस्थान में पेट्रोल की कीमत ने शतक पूरा कर लिया जबकि मध्यप्रदेश में यह सैकड़ा लगाने के बेहद करीब पहुंच गयी। ज्ञात हो कि देश में ईंधन की कीमतें अंतरराष्ट्रीय दरों पर निर्भर रहती हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार मध्यम वर्ग की कठिनाइयों के प्रति संवेदनशील है और भारत अब किसानों और उपभोक्ताओं की मदद करने के लिए इथेनॉल पर ध्यान केंद्रित कर रहा है।

उन्होंने कहा कि गन्ने से निकाले जाना वाला इथेनॉल आयात को कम करने में मदद करेगा और किसानों को आय का एक विकल्प भी देगा। पीएम ने कहा कि सरकार ऊर्जा के अक्षय स्रोतों पर ध्यान केंद्रित कर रही है और 2030 तक देश में 40 प्रतिशत ऊर्जा का उत्पादन होगा। उन्होंने कहा, ”लगभग 6.52 करोड़ टन पेट्रोलियम उत्पादों का निर्यात किया गया है। यह संख्या और भी बढ़ने की उम्मीद है। हमारी कंपनियों ने गुणवत्ता वाले तेल और गैस परिसंपत्तियों के अधिग्रहण में विदेशों में निवेश किया है।

इसके अलावा उन्होंने कहा कि सरकार ने पांच वर्षों में तेल और गैस इन्फ्रास्ट्रक्चर के निर्माण में 7.5 लाख करोड़ रुपये खर्च करने की योजना बनाई है और 470 जिलों को कवर करते हुए शहर के गैस वितरण नेटवर्क के विस्तार पर जोर दिया गया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार वर्तमान ऊर्जा क्षेत्र में प्राकृतिक गैस की हिस्सेदारी को 6.3 प्रतिशत से बढ़ाकर 15 प्रतिशत करने की दिशा में काम कर रही है। इस अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से जुड़ते हुए प्रधानमंत्री ने मनाली स्थित चेन्नई पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड की सल्फर रहित (डिसल्फाराइजनेशन) गैसोलीन इकाई भी राष्ट्र को समर्पित की और नागापट्टिनम में कावेरी बेसिन तेलशोधक केन्‍द्र की आधारशिला भी रखी।

रामनाथपुरम-थूथुकुडी खंड 143 किलोमीटर लंबा होगा। इस पर करीब 700 करोड़ रुपये की लागत आई है। इस परियोजना से तेल और प्राकृतिक गैस आयोग (ओएनजीसी) के गैस क्षेत्रों से गैस का उपयोग करने तथा प्राकृतिक गैस को उद्योगों और अन्य व्यापारिक उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराने में मदद मिलेगी।

सल्‍फर रहित गैसोलीन इकाई के निर्माण पर करीब 500 करोड़ रुपये की लागत आई है। यह 8 पीपीएम वाली इकाई है और इसे पर्यावरण के अनुकूल गैसोलीन से कम सल्फर का उत्पादन करने वाला बनाया गया है। साथ ही यह उत्सर्जन को कम करने में भी मदद करेगा और स्वच्छ पर्यावरण की दिशा में भी एक योगदान होगा।

नागापट्टिनम में स्थापित की जाने वाली कावेरी बेसिन रिफाइनरी की क्षमता 90 लाख मीट्रिक टन प्रति वर्ष होगी। इसे इंडियन ऑयल कॉपोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल) और चेन्नई पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (सीपीसीएल) के संयुक्त उद्यम के माध्यम से 31,500 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से स्थापित किया जाएगा।

यह बीएस-VI विनिर्देशों को पूरा करने वाली मोटर स्पिरिट, डीजल और मूल्य वर्धित उत्‍पाद के रूप में पॉलीप्रोपाइलीन का उत्पादन करेगा। प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के मुताबिक इन परियोजनाओं के शुरू होने से राज्‍य को सामाजिक और आर्थिक लाभ होंगे। इसके अलावा देश ऊर्जा की आत्‍मनिर्भरता की दिशा में भी आगे बढ़ेगा। इस मौके पर तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित, राज्‍य के मुख्यमंत्री ई.के. पलानीसामी और पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी मौजूद थे।

LIVE : पीएम मोदी ने कहा… प्रथम प्रधानमंत्री नेताजी थे… हम जो इतिहास जानते हैं… अधूरा है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि आज बसंत पंचमी का शुभ दिन है, ऐसे में मेरी प्रार्थना है कि हर देशवासी को मां सरस्वती का आशीर्वाद मिले। पीएम मोदी ने यहां कहा कि महाराजा सुहेलदेव के नाम पर जो मेडिकल कॉलेज बना है, उससे लोगों को लाभ मिलेगा।
पीएम मोदी ने कहा कि भारत का इतिहास वो नहीं है जो देश को गुलाम बनाने वालों और गुलामी की मानसिकता के साथ लिखने वालों ने लिखा, भारत का इतिहास वो भी है जो देश के सामान्य जन ने लिखा है। पीएम मोदी ने कहा कि भारत के कई अनेक नायक-नायिकाओं को कभी इतिहास में जगह नहीं दी गई, जिन्हें कभी उनका सम्मान नहीं दिया गया उसे आज का भारत सुधार रहा है।

पीएम मोदी ने कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस आजाद हिंद भारत के पहले प्रधानमंत्री थे, आजाद हिंद फौज को कभी भी वैसा सम्मान नहीं दिया गया। देश की 500 से अधिक रियासतों को एक करने वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल के साथ क्या हुआ, वो हर कोई जानता है। हमारी सरकार ने सरदार पटेल की सबसे ऊंची मूर्ति बनाई।

पीएम मोदी ने सेना को दी स्वदेशी ‘अर्जुन टैंक’ की चाबी, जानें इसकी खासियत

नयी दिल्ली। चीन और पाकिस्तान के साथ दोनों मोर्चों पर तनाव के बीच भारतीय सेना की ताकत बढ़ेगी। रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के मुख्य युद्धक टैंक अर्जुन मार्क 1 ए को राष्ट्र को समर्पित किया। तमिलनाडु और केरल के दौरे पर पीएम मोदी ने स्वदेशी अर्जुन मेन बैटल टैंक (एमके-1ए) चेन्नई में सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे को सौंपा। माना जा रहा है कि अर्जुन टैंक के सेना में शामिल होने से रक्षा क्षेत्र में मेक इन इंडिया के प्रयासों को भी बढ़ावा मिलेगा।
8 हजार 400 करोड़ रुपये की कीमत वाले इस टैंक को पूरी तरह भारत में बनाया गया है। ये 118 टैंक सेना के पहले बैच में शामिल होंगे। अर्जुन श्रेणी के काफी टैंक पहले ही पश्चिम रेगिस्तान में पाकिस्तान बॉर्डर पर तैनात हैं। इन 118 अर्जुन टैंक से सेना में बख्तरबंद कोर में दो रेजिमेंट बनाई जाएगी।

डीआरडीओ पिछले कुछ समय से अर्जुन मार्क 1 ए युद्धक टैंक का विकास कर रहा है। इस टैंक का डिजाइन डीआरडीओ के लड़ाकू वाहन अनुसंधान और विकास प्रतिष्ठान (सीवीआरडीई) ने तैयार किया है। करीब ढाई साल पहले अर्जुन टैंक ने नए संस्करणों की सप्लाई के लिए कांट्रेक्ट साइन किया गया था। इन्हीं में से 5 टैंक रविवार को पीएम के हाथों सेना के सुपुर्द किए जाने थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 14 फरवरी को तमिलनाडु और केरल के दौरे पर

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 14 फरवरी को तमिलनाडु और केरल के दौरे पर जाएंगे। यहां वह कई परियजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन करेंगे। इसके अलावा प्रधानमंत्री अर्जुट टैंक (MK-1A) को भारतीय सेना को सौपेंगे। पीएम मोदी कोच्चि में भी कई परियोजनाओं की आधारशिला रखेंगे।

गौरतलब है कि इस साल मई-जून में तमिलनाडु और केरल में विधानसभा चुनाव होने हैं और भाजपा इन राज्यों में अपने पैर जमाने की तैयारी कर रही है। तमिलनाडु में भाजपा एआईएडीएमके के साथ मिलकर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। तो वहीं, केरल में अपने दम पर विधानसभा चुनाव में ताल ठोकेगी।

अफगानिस्तान के पेंटर ने बनाई पीएम मोदी की खूबसूरत तस्वीर… मोदी ने कहा…’अफ़ग़ान-हिंद दोस्ती जिंदाबाद’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अक्सर अपने लुक को सुर्खियों में छाए रहते हैं. इन दिनों पीएम का लुक पहले से काफी अलग है और वह बढ़ी हुई दाढ़ी और बालों में नजर आ रहे हैं. कई लोगों को उनका यह नया लुक काफी पसंद आ रहा है. इसी बीच पीएम मोदी की एक फोटो सोशल मीडिया पर छाई हुई है और यह फोटो लोगों को काफी पसंद आ रही है. जिसे अफगानिस्तान के एक पोट्रेट आर्टिस्ट ने बनाया है. वहीं, अब इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर पीएम मोदी ने खुद भी शेयर किया है.

पीएम नरेंद्र मोदी के इस खूबसूरत स्कैच को अफगानिस्तान के पोट्रेट आर्टिस्ट हमदुल्लाह अरबाब ने बनाया है. इस स्कैच को अपने ट्विटर पर शेयर करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने लिखा,” शुक्रिया, ब्रदर, अरबाब, यह एक अद्भुत तस्वीर है. मैं सम्मानित महसूस कर रहा हूं. अफ़ग़ान-हिन्द दोस्ती जिंदाबाद.” इस फोटो को सोशल मीडिया पर जैसे ही पीएम ने शेयर किया वैसे ही लोगों ने भी अपनी प्रतिक्रियाएं देनी शुरू कर दीं. एक यूजर ने लिखा, कि यकीनन यह बहुत उम्दा कलाकारी है.

वहीं, दूसरे ने लिखा, ‘सच में पीएम की पेंटिंग बेहद ही सुंदर लग रही है. इसके अलावा और भी कई यूजर्स ने अलग-अलग अंदाज में कलाकार की जमकर तारीफ की. बता दें कि हमदुल्लाह अरबाब अफगानिस्तान के एक मशहूर पोट्रेट आर्टिस्ट हैं. उन्होंने ट्विटर पर पीएम मोदी की यह तस्वीर 9 फरवरी को शेयर की थी.

कोरोना वैक्सीन की खेप प्राप्त होने पर भावुक हुए डोमिनिका के प्रधानमंत्री… ट्वीट कर कहा…

नई दिल्ली। डोमिनिका के प्रधानमंत्री रूटवेल्ट स्केरिट ने कोरोना वैक्सीन के लिए भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया है। उन्होंने कोरोना वैक्सीन की खेप प्राप्त होने के बाद ट्वीट पर भारत और पीएम मोदी को धन्यवाद कहा है। उन्होंने एक बेहद भावुक ट्वीट में कहा कि भले ही मुझे बाइबल के हर शब्द भरोसा है, लेकिन मैं ये मानता हूं कि मैंने कभी यह कल्पना नहीं की थी कि महामारी के ऐसे हालात में मेरे देश की ओर से की गई प्रार्थनाओं का उत्तर इतनी तेजी से दिया जाएगा। थैंक यू इंडिया।

डोमिनिका के प्रधानमंत्री रूटवेल्ट उस विमान की लैंडिंग और कोरोना वैक्सीन विमान से उतारे जाने का वीडियो शेयर करते हुए पीएम मोदी और भारत का आभार जताया है। उन्होंने इस वीडियो में अपने संबोधन में कोरोना वायरस से मुक्ति के लिए भारत और पीएम मोदी प्रयासों की सराहना की है। आपको बता दें कि भारत ने कोरोना से बचाव के लिए देश में टीकाकरण अभियान शुरू करने के साथ ही सबसे पहले पड़ोसी देशों में टीके की खेप भेजी। इसके बाद अन्य देशों में आपात स्थिति में इस्तेमाल के लिए टीके उपलब्ध कराना शुरू किया। भारत की इस वैश्विक पहल की पूरी दुनिया में तारीफ हो रही है। इसी अभियान के तहत भारत ने डोमिनिका के टीके उपलब्ध कराने के आग्रह को तुरंत स्वीकार किया और बहुत जल्द टीके की खेप वहां भेजी। भारत की इस पहल से डोमिनिका के प्रधानमंत्री भी अभिभूत हो गए और उन्होंने भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को थैंक यू कहा।

LIVE : पीएम मोदी के इस संबोधन ने… पूरे सदन को कर दिया भावुक… खुद भी रो पडे़े नरेन्द्र मोदी

बजट सत्र के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संबोधन आज दूसरे दिन भी राज्यसभा में हुआ। इस दौरान उन्होंने सदन से सेवानिवृत्त होने वाले चार सदस्यों के प्रति अपनी शुभकामनाएं प्रस्तुत की। इसमें कांग्रेस के दिग्गज सदस्य गुलामनबी आजाद का नाम भी शुमार था।
पीएम मोदी ने उनके तारीफ में एक नहीं कई बातों का जिक्र किया। उनके मुख्यमंत्रित्व काल से लेकर सदन के सदस्य के तौर पर उनकी मौजूदगी, सजगता और एक बेहतर इंसान के तौर पर उनके पल प्रतिपल को जीवंत किया।
वहीं पीएम मोदी ने उस वक्त को याद किया, जब वे खुद भी गुजरात के मुख्यमंत्री थे और गुजरात में दंगा भड़का हुआ था। आतंकी घटना के बाद गुलाम नबी आजाद के साथ फोन पर हुई बात का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सदन में भावुक हो गए, पीएम मोदी ने कहा कि गुजरात के यात्रियों पर जब आतंकवादियों ने हमला किया, सबसे पहले गुलाम नबी आजाद जी का उनके पास फोन आया। वो फोन सिर्फ सूचना देने का नहीं था, फोन पर गुलाम नबी आजाद के आंसू रुक नहीं रहे थे। उन्होंने मुझे फोन किया और अपने परिवार के सदस्य की तरह चिंता की। मेरे लिए वो बड़ा भावुक पल था। एक मित्र के रूप में गुलाम नबी जी का मैं घटनाओं और अनुभव के आधार पर आदर करता हूं ।

Parakram Diwas 2021:नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर आज बंगाल में PM मोदी, समारोह को करेंगे संबोधित…

कोलकाता। नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती वर्ष के मौके पर आयोजित कई कार्यक्रमों उद्घाटन करने व इसमें हिस्सा लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज, शनिवार को कोलकाता पहुंच रहे हैं। प्रधानमंत्री विक्टोरिया मेमोरियल हॉल में शाम करीब 5:00 बजे से ‘पराक्रम दिवस’ समारोह के उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता करेंगे। इस कार्यक्रम में बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी आमंत्रित हैं। इस दिन सिर्फ कार्यक्रम ही नहीं बल्कि विक्टोरिया मेमोरियल में दो नए गैलरी का भी पीएम उद्घाटन करेंगे। एक गैलरी नेताजी को लेकर तैयार किया गया है, जिसका नाम निर्भीक सुभाष रखा गया है। दूसरी गैलरी देश के अन्य स्वतंत्रता आंदोलनकारियों को लेकर तैयार की गई है जिसका नाम विप्लवी भारत रखा गया है।

इस अवसर पर पीएम मोदी एक स्थायी प्रदर्शनी और नेताजी पर एक प्रोजेक्शन मैपिंग शो का भी उद्घाटन पीएम करेंगे। प्रधानमंत्री नेताजी की चिट्ठियों से जुड़ी एक किताब का भी विमोचन भी करेंगे। पीएम द्वारा एक स्मारक सिक्का और डाक टिकट भी जारी किया जाएगा। नेताजी की थीम पर आधारित एक सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘आमरा नूतन जिबनेरी’ भी आयोजित किया जाएगा। इस कार्यक्रम से पहले प्रधानमंत्री मोदी कोलकाता में ही नेशनल लाइब्रेरी (राष्ट्रीय पुस्तकालय) का भी दौरा करेंगे। यहां एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन ’21वीं सदी में नेताजी सुभाष की विरासत का फिर से दौरा’ सहित कई कार्यक्रमों और एक आर्ट गैलरी व चित्र प्रदर्शनी का पीएम उद्घाटन करेंगे। इस अवसर पर प्रधानमंत्री कलाकारों और सम्मेलन के प्रतिभागियों के साथ बातचीत करेंगे।

गौरतलब है कि राष्ट्र के प्रति नेताजी की अदम्य भावना और निस्वार्थ सेवा को सम्मान देने और याद रखने के लिए, भारत सरकार ने हर साल 23 जनवरी को ‘पराक्रम दिवस’ के रूप में मनाने का फैसला किया है।पीएम मोदी ने बोस की 125वीं सालगिरह मनाने के लिए सालभर कार्यक्रमों के आयोजन करने एक 85 सदस्यीय हाईलेवल कमेटी भी पहले ही गठित की है।खास बात है कि इस साल अप्रैल-मई में बंगाल में विधानसभा चुनाव होने हैं। इसके लिए भारतीय जनता पार्टी महीनों पहले से ही राज्य में काफी सक्रिय नजर आ रही है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह कई बार बंगाल का दौरा कर चुके हैं। ऐसे में पीएम मोदी के बंगाल पहुंचने से राज्य में सियासी हलचल तेज होगी।

नेताजी के विचारों से होगा आत्मनिर्भर भारत का निर्माण- पीएम मोदी

नई दिल्ली। शनिवार को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें याद करते हुए ट्वीट किया है। उन्होंने कहा कि नेताजी के विचारों और आदर्शों से आत्मनिर्भर और मजबूत भारत का निर्माण होगा।
प्रधानमंत्री मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘नेताजी सुभाष चंद्र बोस के विचारों और आदर्शों से हमें एक ऐसे भारत के निर्माण की दिशा में काम करने की प्रेरणा मिलती है, जिस पर उन्हें गर्व होगा। एक मजबूत, आत्मविश्वासी और आत्मनिर्भर भारत, जिसका मानव-केंद्रित दृष्टिकोण आने वाले वर्षों में एक बेहतर ग्रह के निर्माण में योगदान देगा।’

बता दें कि नेताजी के 125वीं जयंती पर पीएम मोदी कोलकाता दौरे पर रहेंगे। इस दौरान वो विक्टोरिया मेमोरियल में ‘पराक्रम दिवस’ समारोह के उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता करेंगे। इस अवसर पर एक स्थायी प्रदर्शनी और नेताजी पर एक प्रोजेक्शन मैपिंग शो का उद्घाटन भी पीएम करेंगे।

SURVEY : पीएम मोदी “ऑल एवर बेस्ट”… 74 फीसदी लोग संतुष्ट… बोले, मोदी सही प्रधानमंत्री

कोरोना काल, किसान आंदोलन और चीनी संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता पर कोई असर नहीं पड़ा है। देश में व्यापत कोरोना महामारी और कृषि कानूनों पर घमासान के बीच आए एक ताजा सर्वे में यह बात सामने आई है कि देश के करीब 74 फीसदी लोग पीएम मोदी के कामकाज को अच्छा या बहुत अच्छा मानते हैं। 3-13 जनवरी के बीच इंडिया टुडे की ओर से किए गए सर्वे के मुताबिक, पीएम मोदी का अब भी जलवा बरकरार है और वे अब तक के सबसे बेस्ट प्रधानमंत्री हैं।

इंडिया टुडे के सर्वे में पीएम मोदी के कामकाज से 74 फीसदी लोग संतुष्ट हैं, जिनमें 30 फीसदी लोगों ने बहुत अच्छा और 44 फीसदी लोगों ने अच्छा माना है। वहीं, सर्वे के हिसाब से 66 फीसदी लोग एनडीए की सरकार के संतुष्ट हैं। इतना ही नहीं, अगर देश में आज चुनाव हो तो 43 फीसदी वोट और 321 सीटें एनडीए को मिल सकती हैं। वहीं यूपीए को 27 फीसदी वोट और 93 सीटों से संतोष करना पड़ सकता है।

इसके अलावा, 17 फीसदी लोग पीएम के कामकाज को औसत मानते हैं तो 8 फीसदी ने खराब बताया है। मोदी सरकार में बेहतर मंत्री कौन? इसके जवाब में 39 फीसदी लोगों ने अमित शाह को वोट दिया तो 14 फीसदी लोग राजनाथ सिंह को सबसे बेहतर मानते हैं तो 10 फीसदी की नजर में मोदी सरकार के सबसे अच्छे मंत्री नितिन गडकरी हैं।

इसके अलावा, 73 फीसदी लोग कोरोना वायरस संकट को हैंडल करने में मोदी सरकार के काम से संतुष्ट हैं। इनमें से 23 फीसदी लोगों ने कहा कि कोरोना को हैंडल करने में सरकार ने बहुत बढ़िया काम किया, वहीं 50 फीसदी ने कहा कि अच्छा काम किया। वैक्सीन को लेकर सर्वे में किए गए सवाल में यह बात सामने आई कि 76 फीसदी लोग वैक्सीन लेना चाहते हैं, जबकि 21 फीसदी लोग इसके खिलाफ हैं। साथ ही 92 फीसदी लोग मुफ्त में वैक्सीन चाहते हैं।

इसी सर्वे में सवाल किया गया कि अब तक का सबसे बेहतर प्रधानमंत्री कौन है, तो इसके जवाब में 38 फीसदी लोग पीएम मोदी के साथ गए। सर्वे में शामिल करीब 38 फीसदी लोगों ने कहा कि वे नरेंद्र मोदी को सबसे बेहतर पीएम मानते हैं। वहीं, 18 फीसदी लोगों ने अटल बिहार वाजपेयी को माना। इसके अलावा, 11 फीसदी लोगों ने इंदिरा गांधी और 8 फीसदी ने जवाहर लाल नेहरू को सर्वश्रेष्ठ पीएम बताया। 7 फीसदी लोगों ने मनमोहन सिंह को सबसे बेहतर पीएम चुना।

पीएम मोदी का गुजरात को बड़ा तोहफा…मेट्रो परियोजना का किया शिलान्यास

नई दिल्ली/अहमदाबादप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज गुजरात को बड़ी सौगात देते हुए सूरत और अहमदाबाद मेट्रो परियोजना का शिलान्यास कर दिया। पीएम मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सूरत मेट्रो रेल परियोजना (Surat Metro) और अहमदाबाद मेट्रो परियोजना के दूसरे चरण के लिए शिलान्यास किया। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, राज्यपाल आचार्य देवव्रत और केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप पुरी भी उपस्थित थे। इस अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि इन दोनों मेट्रो परियोजना के पूरा होने पर लाखों लोगों को इसका फायदा होगा। ये मेट्रो लाइन आने वाले वक्त की जरूरत के हिसाब के तैयार की जा रही है। प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले की सरकारों के पास मेट्रो रेल प्रोजेक्ट के लिए सही नीति नहीं है, हमारी सरकार देश में मेट्रो के विस्तार के लिए राष्ट्रव्यापी नीति तैयार की है। इस अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उत्तरायण की शुरुआत में आज अहमदाबाद और सूरत को बहुत ही अहम उपहार मिल रहा है। कल ही केवडिया के नए रेल मार्ग और नई ट्रेनों की शुरुआत हुई है। अहमदाबाद से भी आधुनिक जन शताब्दी एक्सप्रेस अब केवडिया तक जाएगी।आज अहमदाबाद में 17 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के इंफ्रास्ट्रक्चर का काम शुरू हो रहा है। ये दिखाता है कि कोरोना के इस काल में भी नए इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण को लेकर देश के प्रयास लगातार बढ़ रहे हैं।
12 हजार करोड़ की लागत है सूरत मेट्रो प्रोजेक्ट की
– सूरत मेट्रो रेल परियोजना में कुल 40.35 किलोमीटर लंबाई है।
मेट्रो प्रोजेक्ट में 2 कॉरिडोर होंगे, जिसकी अनुमानित लागत 12020 करोड़ रुपए है।
– पहला कॉरिडोर सरथना से ड्रीम सिटी के बीच होगा, जिसकी लंबाई 21.61 किलोमीटर है।
– 15.14 किलोमीटर हिस्सा एलिवेटिड और 6.47 किलोमीटर हिस्सा भूमिगत होगा।
– दूसरा कॉरिडोर भेसन से सरोली के बीच बनेगा, जिसकी लंबाई 18.74 किलोमीटर है।
अहमदाबाद मेट्रो की लागत 5384 करोड़ रुपए
– अहमदाबाद मेट्रो के दूसरे फेज में भी दो कॉरिडोर होंगे।
– इस मेट्रो की कुल लंबाई 28.25 किलोमीटर होगी।
– 22.83 किलोमीटर लंबा पहला कॉरिडोर मोटेरा स्टेडियम से महात्मा मंदिर तक बनेगा।
– 5.41 किलोमीटर लंबा दूसरा कॉरिडोर जीएनएलयू से गिफ्ट सिटी तक बनेगा।
– अहमदाबाद मेट्रो के दूसरे फेज में कुल 5384.17 करोड़ रुपए का खर्च आएगा।

केवल टीकाकरण शुरू होने से कोरोना खत्म नहीं होगा; जानें- क्यों अभी भी सावधानी बरतने की जरूरत

नई दिल्ली । देश में कोरोना महामारी पर लगाम लगाने के लिए टीकाकरण अभियान की शुरुआत हो गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन समेत हर किसी को उम्मीद है कि वैक्सीन से महामारी को रोकन में मदद मिलेगी। हालांकि, विशेषज्ञों का कहना है कि वैक्सीन के आने मात्र से महामारी का अंत नहीं होगा। ऐसे में अभी भी कोरोना को लेकर सावधानी बरतने की जरूरत है। फिलहाल हमें शारीरिक दूरी का पालन करने और मास्क पहनने जरूरत है।

प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण

सरकार ने फिलहाल 30 करोड़ लोगों के टीकाकरण की योजना बनाई है। पहले चरण में तीन करोड़ लोगों को टीका मुहैया कराने की योजना है। इनमें स्वास्थ्य कर्मचारी और फ्रंटलाइन वर्कर्स शामिल हैं। इसके बाद 27 करोड़ लोगों का टीकाकरण होगा। इनमें 50 साल से ऊपर और जिनको कोरोना से सबसे ज्यादा खतरा है वे लोग शामिल होंगे। इन लोगों को टीकाकरण के लिए पहले चुनने का कारण यह है कि इनमें वायरस से संक्रमित होने और मरने का डर ज्यादा है। तीस करोड़ लोग यानी तकरीबन 20 फीसद आबादी कोरोना से सुरक्षित हो जाएगी।

कोरोना जब से आया है हर्ड इम्युनिटी की काफी चर्चा हुई है। हर्ड इम्युनिटी का मतलब ज्यादा से ज्यादा लोगों में कोरोना की एंटीबॉडी की मौजूदगी से है। हर्ड इम्युनिटी दो तरह से विकसित हो सकता है। पहला है प्राकृतिक तरिका। यानी संक्रमण को फैलने दें और ज्यादे से ज्यादे लोगों को इसके चपेट में आने दें। इसमें काफी लंबा समय लगता है। ऐसे में बहुत लोगों की मौत हो जाएगी। इसके अलावा दूसरा तरीका है वैक्सीन। वैक्सीन एक और तरीका है। इससे कम समय में हर्ड इम्युनिटी विकसित की जा सकती है और जोखिम भी कम होता है। विशेषज्ञों के अनुसार इससे बेहतर तरीका और कोई और नहीं है।

सबको कब-तक वैक्सीन लग जाएगी और तब तक क्या करना होगा?

फिलहाल कोरोना की वैक्सीन बननी शुरू हुई है। कई देशों ने फिलहाल इनके इमरजेंसी इस्तेमाल की ही मंजूरी दी है औक कई में इसकी शुरुआत भी नहीं हुई है। भारत जैसे बड़े आबादी वाले देश में सभी लोगों तक वैक्सीन पहुंचने में काफी समय लगेगा। फिलहाल देश के पास दो वैक्सीन उपलब्ध हैं। जब तक हर्ड इम्युनिटी विकसित नहीं होती, तब तक हमें शारीरिक दूरी और मास्क लगाने जैसे नियमों का पालन करना होगा।

बड़ा खुलासा: चुनौती स्वीकार कर पीएम ने…. काशी मंदिर को लेकर किया बड़ा खुलासा… बताया सही नाम…

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को इंटरनेट मीडिया के प्लेटफार्म ट्विटर पर मिली एक चुनौती न केवल स्वीकार किया बल्कि सही जबाव देकर सब को चकित कर दिया। पीएम का यह ट्वीट अब जमकर वायरल हो रहा है।

ट्विटर पर दुनिया के सबसे मशहूर नेताओं में से एक मोदी के इस प्लेटफार्म पर 6.48 करोड़ फालोअर हैं। हर दिन वे एक-दो ट्वीट पर प्रतिक्रिया भी देते हैं। शुक्रवार को लॉस्ट टेंपल अकाउंट पर एक फोटो पोस्ट की गई। फोटो में एक घाट के साथ मंदिर और गंगा आरती दृश्य दिख रहा है। इसके साथ मार्क ट्वेन के भारत के बारे में व्यक्त किए गए मशहूर उद्गार को भी लिखा गया है। ट्वेन ने भारत के लिए कभी कहा था कि इतिहास से भी पुराना, परंपराओं से भी पुराना, किंवदंतियों से भी पुराना और उन सबको साथ रखकर उसके दोगुने से भी पुराना है भारत। इसके बाद पूछा गया कि क्या आप इसे पहचान सकते हैं।

इस पर प्रधानमंत्री ने जवाब दिया मैं इसे अवश्य पहचान सकता हूं। कुछ साल पहले मैंने यह फोटो शेयर की थी। यह काशी का गौरवशाली रत्नेश्वर महादेव मंदिर है। इसके साथ प्रधानमंत्री ने अपने 4 नवंबर 2017 के ट्वीट को शेयर किया जिसमें देव दीपावली पर काशी का यही घाट जगमगाता नजर आ रहा है।