OMG : महिला ने बच्ची को दिया जन्म… कुछ देर बाद बच्ची को गोद में लेकर पहुंची सेंटर… देख लोगों के उड़े होश

छपरा। बिहार के छपरा जिले के गांधी हाई स्कूल स्थित परीक्षा सेंटर पर बुधवार को उस वक़्त सब चकित रह गए जब इंटर की छात्रा कुसुम कुमारी अपने नवजात बच्ची के साथ इंटरमीडिट का एग्जाम देने पहुंची। प्रसव के कुछ ही घंटों के बाद एग्जाम देने पहुंची युवती क्षेत्र में चर्चा का विषय बन गयी है। लोग पढ़ाई के प्रति उनकी निष्ठा की तारीफ कर रहे हैं। दरअसल, जिले के पानापुर प्रखंड के टोटहां जगतपुर निवासी राजदेव राय की बेटी कुसुम कुमारी की शादी पिछले साल ही तरैया प्रखंड के नारायणपुर निवासी मालिक राय से हुई थी।
शादी के बाद भी नहीं छोड़ी थी पढ़ाई
शादी के वक़्त कुसुम इंटर में पढ़ाई कर रही थी और ससुराल जाने के बाद भी उसने पढ़ाई जारी रखी। इसी क्रम में जब इंटर का फॉर्म आया तो उनसे मायके आकर डुमरसन स्थित हाई स्कूल से परीक्षा का फॉर्म भरा था। वैसे परीक्षा 1 फरवरी से ही शुरू है, लेकिन आर्ट्स की छात्रा कुसुम का पहला पेपर 2 फरवरी को होना था। इसी बीच 1 फरवरी की रात ही उसे प्रसव पीड़ा शुरू हो गयी।

कुसुम ने बेटी को दिया जन्म
ऐसे में परिजनों ने आनन-फानन मंगलवार की सुबह उसे रेफरल अस्पताल, तरैया में भर्ती कराया। अस्पताल पहुंचने के तुरंत बाद ही कुसुम ने एक बच्ची को जन्म दिया। साधारण डिलीवरी होने की वजह से जच्चा-बच्चा दोनों का स्वास्थ्य सामान्य देखते हुए पढ़ाई के प्रति जागरूक परिजनों को परीक्षा के प्रति चिंता जताई।
बच्ची को गोद में लेकर पहुंची सेंटर
ऐसे में खुद कुसुम ने भी किसी भी तरह परीक्षा में शामिल होने की इच्छा जताई। इसके बाद परिजनों ने तुरंत ही छपरा स्थित गांधी हाई स्कूल के सेंटर पर पहुंचने के लिए वाहन की व्यवस्था की। विशेष परिस्थिति को देखते हुए आवश्यक दवाओं के साथ तुरंत ही अस्पताल प्रशासन द्वारा प्रसूता को डिस्चार्ज कर दिया गया। इधर, कड़ाके की ठंड के बावजूद कुसुम अपनी नवजात बच्ची के साथ परीक्षा में शामिल होने के लिए सेंटर पहुंची। ऐसे में शिक्षा के प्रति परीक्षार्थी और उसके परिजनों की लगन और निष्ठा की लोगों ने खूब सराहना की।

लड़के ने दूसरी जाति की लड़की से शादी की तो समाज ने परिवार का बहिष्कार किया, फिर 5 हजार लेकर पिता को समाज में शामिल किया

अंतरजातीय विवाह आज भी कुछ समाज में एक दंडनीय अपराध है। फरसाबहार ब्लॉक के पंडरीपानी में एक परिवार इसी कुरीति का दंश झेल रहा है। बंजारा समाज के एक लड़के ने पिछले साल 2020 में दूसरी जाति की लड़की से विवाह कर ली थी, जिसके कारण लड़के के परिवार से समाज में रहने के एवज में जुर्माना भरवाया गया और पिता को समाज प्रमुखों के सामने पुत्र का परित्याग करना पड़ा। इसके लिए उससे लिखित में लेटर भी ले लिया गया। बहिष्कार का दंश झेल रहे इस लड़के ने अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति से न्याय की गुहार लगाई है।

पंडरीपानी निवासी प्रवीण बंजारा पिता अशोक बंजारा ने बताया कि उसने 2020 में अंतरजातीय विवाह कर लिया था, जिसके कारण समाज प्रमुख अध्यक्ष लालजीत नायक और समाज के अन्य प्रतिनिधियों द्वारा उनका समाज से बहिष्कार कर दिया था। प्रवीण ने बताया कि उसके माता-पिता से समाज प्रमुख व अन्य प्रतिनिधियों ने 5 हजार रुपए का दंड भराने के बाद एक पत्र भी लिखवाया, जिसमें उसे पुत्र से कोई नाता नहीं रखने की बात कही गई है।

बैठक में समाज के पदाधिारियों ने प्रवीण के परिवार को हिदायत दी कि वे प्रवीण से किसी भी तरह का संबंध व संपर्क ना रखें। ना तो त्योहार व शादी ब्याह की खुशियों में उसे शामिल करें और ना ही िकसी की मृत्यु में उसे बुलाए। प्रवीण ने कहा है कि जब सरकार खुद अंतरजातीय विवाह को प्रोत्साहन दे रही है तो समाज के लोग इस तरह का रीति आज भी क्यों चला रहे हैं। पीड़ित पुत्र ने अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति व प्रशासन से मामले की जांचकर उसे न्याय दिलाने की मांग की है।

अंतरजातीय विवाह योजना: बीस साल में जशपुर जिले में सिर्फ दो को मिल पाई प्रोत्साहन राशि
आदिवासी बाहुल्य जशपुर जिले में अंतरजातीय विवाह पर समाज का पहरा इस कदर है कि बीते 20 साल में सिर्फ दो लोग अंतरजातीय विवाह की प्रोत्साहन राशि प्राप्त कर सके हैं। आदिम जाति कल्याण विभाग द्वारा अंतरजातीय विवाह को प्रोत्साहन देने यह योजना चलाई जाती है। 2020 में पहली बार इस याेजना के तहत दो हितग्राहियों को चेक दिए गए हैं। इससे पहले अंतरजातीय विवाह कर इस राशि के लिए एक भी आवेदन विभाग के पास नहीं आए थे।

BIG NEWS : सिनेमाघर और स्विमिंग पूल ज्यादा क्षमता के साथ खुलेंगे, गृह मंत्रालय के नए दिशा-निर्देश जारी…

नयी दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने विभिन्न गतिविधियों को बहाल करने के लिए नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इनके अनुसार अब सिनेमाघर ज्यादा क्षमता के साथ खुल सकते हैं। इसके साथ ही स्विमिंग पूल को सभी के लिए खोलने की अनुमति दी गई है।
गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को निर्देश दिया है कि निगरानी, कंटेनमेंट और सावधानी के लिए जारी दिशा-निर्देशों का पालन सुनिश्चित कराया जाए। ये दिशा-निर्देश एक फरवरी से 28 फरवरी तक जारी रहेंगे।

साथ ही, सभी राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में कंटेनमेंट जोन के बाहर सभी गतिविधियों की अनुमति रहेगी। सामाजिक, धार्मिक, खेल, मनोरंजन, शैक्षणिक व सांस्कृतिक कार्यक्रमों को राज्यों की एसओपी के तहत अनुमति दी जाएगी।
राज्य के अंदर और राज्य से दूसरे राज्य तक यात्रा या सामान ढुलाई पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा। इसके लिए किसी अलग अनुमति की आवश्यकता नहीं होगी। दिशा-निर्देशों में आरोग्य सेतु एप के इस्तेमाल पर जोर दिया गया है।
23 लाख से अधिक लोगों को लग चुका टीका
उधर, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि मंगलवार की शाम छह बजे तक देश में 23 लाख 28 हजार 779 लाभार्थियों का कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण किया जा चुका है। आज दो लाख 99 हजार 999 लोगों को टीका लगा।
मंत्रालय ने टीके के दुष्प्रभावों के मामलों की जानकारी देते हुए बताया कि अभी तक 16 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराने की नौबत आई है और नौ लोगों की मौत हुई है। इनमें से किसी की भी मौत का संबंध कोविड-19 टीकाकरण से नहीं है।

BREAKING : शनिवार को बंद रहेंगी शराब दुकानें… आदेश जारी


महात्मा गांधी निर्वाण दिवस के अवसर पर 30 जनवरी 2021 दिन शनिवार को गरियाबंद जिले में शुष्क दिवस घोषित किया गया है। उक्त दिवस को जिले की समस्त देशी एवं विदेशी मदिरा दुकानें तथा मद्य भाण्डागार पूर्णतः बंद रहेगी। कलेक्टर श्री निलेशकुमार क्षीरसागर ने आबकारी अमले को उक्त शुष्क दिवस में किसी भी अधिकृत एवं अनाधिकृत स्थानों से मदिरा का अवैध निर्माण, आधिपत्य, परिवहन, क्रय-विक्रय, भण्डारन तथा तस्करी न हो इस पर पूर्ण नियंत्रण रखने कहा है। शिकायत प्राप्त होने पर सख्ती से रोक लगाई जाये और उन्हें जप्त करने की कार्यवाही किया जायेगा।

ब्रेकिंग न्यूज़ : फिर बिगड़ी ‘दादा’ की तबीयत, अस्पताल में किया गया एडमिट

कोलकाता: BCCI के अध्यक्ष और पूर्व क्रिकेट कप्तान सौरव गांगुली की तबीयत एक बार फिर से बिगड़ गई है. जैसे ही दादा की तबीयत खराब हुई उन्हें कोलकाता के अपोलो हॉस्पीटल (Apolo Hospital) ले जाया गया है.

खबरों की मानें तो गांगुली को अचानक से सीने में दर्द होने लगा जिसके बाद उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया. BCCI के मौजूदा अध्यक्ष सौरव गांगुली को 2 जनवरी, 2021 के दिन भी हार्ट अटैक आया था. अटैक के बाद उन्हें कोलकाता के वुडलैंड्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया जहां करीब 3-4 दिन तक दादा एडमिट रहें. पिछली बार जिम के दौरान दादा को चक्कर आ गया था जिसके बाद उन्हें हॉस्पीटल में भर्ती करवाना पड़ा. एक बार फिर सीने में उठी दर्द की वजह से उन्हें भर्ती करवाया गया है. जहां वह हॉस्पीटल में तीन सदस्यीय बोर्ड की निगरानी में थे.

दिल्ली के राजपथ पर छाया छत्तीसगढ़ के वाद्य यंत्रों का जादू, देश भर के लोगों ने अनूठे और परंपरागत राज्य की झांकी को सराहा

रायपुर। देश के लोगों ने आज नई दिल्ली के राजपथ पर छत्तीसगढ़ के पारंपरिक वाद्य यंत्रों पर आधारित निकली झांकी को न केवल बड़ी उत्सुकता के साथ देखा बल्कि इसकी उन्मुक्त कंठो से सराहना भी की। यह झांकी नेशनल मीडिया के साथ ही लोगों के दिलो-दिमाग में छा गई। गणतंत्र दिवस पर नई दिल्ली में छत्तीसगढ़ के पारंपरिक वाद्य यंत्रों पर आधारित राज्य की झांकी देश भर के लोगों का आकर्षण का केन्द्र बनी वहीं यह सोशल मीडिया पर भी छायी रही। देश के विभिन्न हिस्सों से लगातार इसको सराहना मिल रही है।

नेशनल मीडिया में इसकी सराहना करते हुए लिखा है कि भारत की सांस्कृतिक विविधता आज पूरे वैभव के साथ राजपथ पर दिखी। झांकी में छत्तीसगढ़ की समृद्ध आदिवासी नृत्य और संगीत परम्परा को प्रदर्शित किया गया। फाइनेंशियल एक्सप्रेस ने अपने ट्विटर हेण्डल में लिखा कि छत्तीसगढ़ राज्य की झांकी में संगीत के विविध वाद्य यंत्रों को बहुत खूबसूरती से प्रदर्शित किया गया है।

गौरतलब है कि यह झांकी छत्तीसगढ़ जनसम्पर्क विभाग के द्वारा तैयार की गई है। इस झांकी के निर्माण के लिए पिछले दो माह से तैयारी की जा रही थी। कई प्रस्तावों पर विचार करने के बार इस झांकी का निर्णय लिया गया है। छत्तीसगढ़ की झांकी में छत्तीसगढ़ के लोक संगीत का वाद्य वैभव को प्रदर्शित किया गया है।

छत्तीसगढ़ के जनजातीय क्षेत्रों में प्रयुक्त होने वाले लोक वाद्यों को उनके सांस्कृतिक परिवेश के साथ बड़े ही खूबसूरत ढंग से इसे दिखाया गया है। प्रस्तुत झांकी में छत्तीसगढ़ के दक्षिण में स्थित बस्तर से लेकर उत्तर में स्थित सरगुजा तक विभिन्न अवसरों पर प्रयुक्त होने वाले लोक वाद्य शामिल किए गए हैं। इनके माध्यम से छत्तीसगढ़ के स्थानीय तीज त्योहारों तथा रीति रिवाजों में निहित सांस्कृतिक मूल्यों को भी रेखांकित किया गया है।

झांकी के ठीक सामने वाले हिस्से में एक जनजाति महिला बैठी है जो बस्तर का प्रसिद्ध लोक वाद्य धनकुल बजा रही है। धनकुल वाद्य यंत्र, धनुष, सूप और मटके से बना होता है। जगार गीतों में इसे बजाया जाता है। झांकी के मध्य भाग में तुरही है। ये फूँक कर बजाया जाने वाला वाद्य यंत्र है, इसे मांगलिक कार्यों के दौरान बजाया जाता है। तुरही के ऊपर गौर नृत्य प्रस्तुत करते जनजाति हैं। झांकी के अंत में माँदर बजाता हुआ युवक है। झांकी में इनके अलावा अलगोजा, खंजेरी, नगाड़ा, टासक, बांस बाजा, नकदेवन, बाना, चिकारा, टुड़बुड़ी, डांहक, मिरदिन, मांडिया ढोल, गुजरी, सिंहबाजा या लोहाटी, टमरिया, घसिया ढोल, तम्बुरा को शामिल किया गया है।

चीनी सैनिकों की घुसपैठ नाकाम, भारतीय सेना ने कहा- 20 जनवरी को हुई मामूली झड़प, स्थानीय कमांडरों ने सुलझाया

नई दिल्ली। भारत ने पिछले सप्ताह उत्तरी सिक्किम के नाकू ला (Naku La) एरिया में वास्तविक नियंत्रण रेखा ( Line of Actual control, LAC) के जरिए चीनी सैनिकों द्वारा घुसपैठ के प्रयास को नाकाम कर दिया। इसमें दोनों देशों के सैनिक जख्मी हो गए। इसे लेकर भारतीय सेना की ओर से बयान जारी कर बताया गया कि 20 जनवरी को दोनों सेनाओं के बीच मामूली झड़प हुई थी, जिसे वहां लागू प्रोटोकॉल के तहत स्थानीय कमांडरों ने सुलझा लिया था। बता दें कि रविवार को दोनों देशों के बीच 9वें राउंड की सैन्य वार्ता संपन्न होने के बाद यह मामला सोमवार को सामने आया है।
उल्लेखनीय है कि पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में सीमा पर दोनों देशों के बीच जारी तनाव को कम करने के लिए भारत और चीन के बीच रविवार को नौवें दौर की सैन्य वार्ता संपन्न हुई। चुशूल (Chushul) इलाके के दूसरी ओर स्थित मोल्दो (Moldo) में आयोजित यह वार्ता 15 घंटे से भी अधिक चली। रविवार सुबह 11 बजे से शुरू हुई वार्ता सोमवार को 2:30 am बजे संपन्न हुई। सीमा पर तनाव को सुलझाने के क्रम में कई दौर की वार्ता हुई लेकिन अब तक कोई समाधान नहीं निकला है। इससे पहले 6 नवंबर 2020 को सैन्य वार्ता हुई थी।

दरअसल चीन की सेना भारतीय सीमा में घुसने का प्रयास कर रही थी, जिसे रोकने के लिए वहां तैनात भारतीय सैनिकों ने हमला किया। जवाबी संघर्ष में 20 चीनी सैनिक व चार भारतीय जवान जख्मी हो गए। इससे पहले पिछले साल 15 जून को दोनों देशों की सेना के बीच पूर्वी लद्दाख स्थित गलवन घाटी के प्वाइंट 14 में हिंसक झड़प हुई थी। इसमें एक कर्नल समेत 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। दोनों देशों के बीच विवादों में पिछले साल लद्दाख का नाकू ला एरिया भी शामिल हो गया। पिछले साल अप्रैल-मई से सीमा LAC पर दोनों देशों के सैनिक तैनात हैं। 2017 में भारत और चीन के सेना डोकलाम (Doklam) में आमने-सामने थे।

झीरम कांड एक सुपारी किलिंग है… नक्सली से ज्यादा खतरनाक है आरएसएस… जाने किसके है ये बोल

बीजापुर। भाजपा आरएसएस और झीरम नक्सल घटना पर सांसद दीपक बैज ने बड़ा बयान दिया है। सांसद ने कहा कि आरएसएस नक्सली से ज्यादा खतरनाक है। झीरम की घटना एक सुपारी किलिंग थी। पुल और सड़क निर्माण के विरोध पर कहा कि भाजपा ग्रामीणों को बरगलाकर विरोध प्रदर्शन करवा रही है।

गौरतलब है कि सांसद दीपक बैज ने भाजपा के 37 कार्यकर्ताओं का कांग्रेस प्रवेश कराया। इस दौरान सवाल किया गया कि दक्षिण बस्तर में आदिवासी ग्रामीण सड़कों पर आकर पुल, सड़क और कैंप खोले जाने का विरोध कर रहे हैं, आप क्या सोचते हैं। इस पर सांसद बोले कि इस सबके पीछे भाजपा और आरएसएस का हाथ है। बीजेपी की कई ऐसी शाखाएं हैं, जिसमें आरएसएस एक ऐसी शाखा है, जो नक्सलियों से ज्यादा खतरनाक है।

झीरम में कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा निकली थी। यहां कांग्रेस के बड़े नेताओं की निर्मम हत्या कर दी गई थी, जिसके बाद कांग्रेस की सत्ता परिवर्तन की लहर थम सी गई थी। बैज ने कहा कि झीरम कांड एक सुपारी किलिंग है। जिसके लिए सीधा सीधा तत्कालीन मुख्यमंत्री रमन सिंह और उसके मंत्री जिम्मेदार है।

अभी झीरम मामले की जांच चल रही है। पांच के अंदर में इसका परिणाम भी सामने आएगा। लेकिन इस मामले में लगातार केंद्र सरकार प्रभावित करने की कोशिश कर रही है। प्रदेश सरकार एनआईए की जांच रिपोर्ट केंद्र सरकार से मांग रही है. जिसे केंद्र देना नहीं चाह रही है। कहीं न कहीं केंद्र जांच रिपोर्ट को प्रभावित करना चाह रही है। आरोपियों को कितना भी बचाने की कोशिश करे, आने वाले समय लोग बेनकाब होंगे।

New WhatsApp Privacy Policy: दिल्ली HC की अहम टिप्पणी ‘यह अपनी इच्छा है, ऐप डाउनलोड करना अनिवार्य नहीं’

दिल्ली हाई कोर्ट सोमवार को अहम सुनवाई के दौरान कहा कि कंपनी की नई गोपनीयता नीति पर चिंताओं के बीच व्हाट्सएप को डाउनलोड करना अनिवार्य नहीं है। कोर्ट ने याचिकाकर्ता से कहा कि मोबाइल फोन पर व्हाट्सएप डाउनलोड करना आपके लिए अनिवार्य नहीं है और यह स्वैच्छिक है। यदि आप व्हाट्सएप डाउनलोड नहीं करने का विकल्प चुनना चाहते हैं, तो आप कर सकते हैं। इसकी बाध्यता नहीं है।

इससे पहले पिछली सुनवाई के दौरान टिप्पणी करते हुए हाई कोर्ट ने कहा था कि अगर व्हाट्सऐप व्हाट्सऐप की नई पॉलिसी से किसी की निजता का हनन हो रहा है, तो सबसे आसान तरीका ये है कि व्हाट्सऐप को डिलीट किया जा सकता है। कोर्ट ने यह भी कहा था कि इसके विकल्प के के तौर पर ऐसे किसी दूसरे ऐप को इस्तेमाल किया जा सकता है।

बता दें पिछले दिनों वाट्सऐप की नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर मचे बवाल के बीच फेसबुक कंपनी ने सफाई भी दी थी। यहां तककि तमाम समाचार पत्रकारों में विज्ञापन देकर लोगों का भ्रम दूर करने का प्रयास किया था। वहीं, बाद में फेसबुक ने कहा था कि वाट्सऐप के बारे में नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर उपभोक्ताओं में गफलत है। इसके चलते इसे स्थगित किया जा रहा है। साथ ही फेसबुक की ओर से कहा गया था कि उपभोक्ता को नई प्राइवेसी पॉलिसी को समझने में ज्यादा समय मिल सकेगा।

पिछली सुनवाई में वाट्सऐप की नई निजता नीति के मामले में दिल्ली हाई कोर्ट के न्यायमूर्ति संजीव सचदेवा की पीठ ने स्पष्ट करते हुए कहा था कि अगर किसी को नीति स्वीकार नहीं है तो वह दूसरा ऐप इस्तेमाल कर सकता है। पीठ ने कहा कई ऐसे ऐप है जो अपने ग्राहकों की जानकारी रखते हैं। सभी निजी ऐप हैं और ग्राहक चाहे तो उस का सदस्य बन सकता है या उसे छोड़ सकता है। यह ग्राहक की इच्छा पर निर्भर करता है।

इस दौरान पीठ ने याचिकाकर्ता अधिवक्ता चैतन्य रोहिल्ला से पूछा था कि आखिर आप चाहते क्या हैं। इसके जवाब में अधिवक्ता ने कहा कि वाट्सएप हमारे बारे में जानकारी इकट्ठा करता करता है और इसे वैश्विक स्तर पर साझा करता है। पीठ ने याची से पूछा कि क्या आपने दूसरे एप की शर्तों के बारे में पढ़ा है। आप पहले उसको पढ़ें और बताएं कि आप की मुश्किलें क्या है। उन्होंने कहा कि आप दूसरे ऐप के शर्तों को पढेंगे तो आपको पता चलेगा कि यह क्या-क्या शर्तें मनवाते हैं।

स्‍पेस एक्‍स ने बनाया नया रिकॉर्ड , एक साथ लॉन्‍च किए 144 सेटेलाइट्स

वाशिंगटन। अंतरिक्ष की दुनिया में नाम कमाने वाली कंपनी स्‍पेस एक्‍स ने इस क्षेत्र में एक नया रिकॉर्ड कायम किया है। कंपनी ने ये कारनामा अंतरिक्ष में एक साथ 143 स्‍पेसक्राफ्ट को लॉन्‍च कर किया है। कंपनी के सीईओ एलन मस्‍क के मुताबिक इससे पहले कभी भी इस तरह का कारनामा नहीं किया गया है। रविवार को इसके तहत फ्लोरिडा के पूर्वी तट स्थित कैप कैनवरल स्‍पेस फोर्स स्‍टेशन के स्‍पेस लॉन्‍च कांप्‍लेक्‍स 40 से कंपनी का फालकन रॉकेट करीब 10 बजे सुबह रवाना हुआ। इसमें 133 कमर्शियल और 10 स्‍टारलिंक सेटेलाइट को अंतरिक्ष में एक साथ पहुंचाया। आपको बता दें कि ये कंपनी के स्‍मालसेट राइडशेयर प्रोग्राम का हिस्‍सा था। इसका मकसद अंतरिक्ष के दरवाजों को छोटे सेटेलाइट ऑपरेटर्स के लिए खोलना है। कंपनी के मुताबिक ये काफी सस्‍ता है।

इस लॉन्‍च को हालांकि पहले एक दिन के लिए टालना पड़ा था। कंपनी ने ऐसा करने की वजह खराब मौसम बताया है। कंपनी के सीईओ और टेस्‍ला प्रमुख एलन मस्‍क ने 22 जनवरी को अपने ट्वीट में लिखा था कि कल एक बड़ी लॉन्चिंग होने वाली है जिसके तहत छोटे सेटेलाइट और छोटे कस्‍टमर को बड़ी ताकत दी जाएगी। उन्‍होंने कहा था कि वो इसके लिए काफी उत्‍साहित हैं क्‍योंकि कल अंतरिक्ष छोटी कंपनियों के लिए खुल जाएगा। आपको बता दें कि स्‍पेस एक्‍स इंटरनेट की क्षमता को बढ़ाने के मकसद से कई सेटेलाइट अंतरिक्ष में भेज चुका है। इस पर कंपनी ने करीब 10 बिलियन डॉलर का निवेश किया है। इससे कंपनी हर वर्ष 30 बिलियन डॉलर जेनेरेट करना चाहती है। स्‍टारशिप के मुताबिक मस्‍क के इंटरप्‍लेनेटरी रॉकेट प्रोग्राम के तहत इसमें काफी मदद मिलेगी।

राज्य सरकार की बड़ी घोषणा : बसंत पंचमी से बच्चों को देगी फ्री कोचिंग…


उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने रविवार को कहा कि प्रदेश के प्रतियोगी छात्रों को नि:शुलक कोचिंग की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार आगामी बसंत पंचमी से ‘अभ्युदय’ नाम से कोचिंग शुरू कर रही है। बकौल सीएम योगी ,इस कोचिंग में विभिन्न केंद्रों पर प्रदेश के अधिकारीगण भी अपना मार्गदर्शन देंगे।

नई आबकारी नीति लागू: घर में शराब रखने वाले जरूर पढ़े ये खबर, वरना पड़ सकते है मुसीबत में

उत्तर प्रदेश सरकार ने नई आबकारी नीति जारी कर दी है. इसके तहत अगर आप घर में तय मात्रा से ज्यादा शराब रखना चाहते हैं तो आपको यूपी सरकार के आबकारी विभाग से लाइसेंस लेना पड़ेगा और आपको 12 हजार रुपये हर साल लाइसेंस के रूप में सरकार को देना होगा, यही नहीं सरकार को 51 हजार रुपये आबकारी विभाग को बतौर सिक्योरिटी देनी होगी. बिना लाइसेंस के घर में तय मात्रा से अधिक शराब रखने पर कार्रवाई की जाएगी. होम लाइसेंस के लिए ऐसे लोग ही योग्य होंगे जो पिछले पांच साल से इनकम टैक्स भरते आए हैं. लाइसेंस के लिए आवेदन के समय इनकम टैक्स रिटर्न भरने की रसीद भी देनी होगी. साथ ही आवेदकों को अपने आवेदन के साथ पैन कार्ड आधार कार्ड की कॉपी भी जमा करनी होगी.

आवेदकों को इस संबंध में शपथ-पत्र भी देना होगा जिसके मुताबिक किसी भी अनधिकृत या फिर 21 साल से कम उम्र की आयु के व्यक्ति का शराब रखे जाने वाली जगह पर प्रवेश वर्जित होगा. साथ ही ऐसी जगह पर उत्तर प्रदेश की तरफ से मान्य शराब के अलावा कोई अवैध या अनधिकृत शराब या कोई और पदार्थ नहीं रखा जाना चाहिए. यूपी सरकार की तरफ से जारी की गई नई नीति के मुताबिक, देशी और अंग्रेजी शराब के अलावा बीयर और भांग की फुटकर दुकानों व मॉडल शॉप के लाइसेंस भी रिन्यू किए जाएंगे. देशी और अंग्रेजी शराब की फुटकर दुकानों के साथ मॉडल शॉप की लाइसेंस फीस में महज 7.5 फीसदी वृद्धि की गई है.

INJUSTICE : कोरोना की वजह से स्कूल बंद… मोहल्ला क्लास चालू… जहां पढ़ाई की जगह… उठवाया जाता है गोबर

जशपुर। कोरोना महामारी की वजह से पूरे साल स्कूल में पड़े ताले को आज तक नहीं खोला गया है। वहीं सरकार अभी भी यह तय नहीं कर पाई है कि बच्चों को स्कूल बुलाया जाए अथवा नहीं, पर मोहल्ला क्लास की व्यवस्था जरुर की गई है, ताकि बच्चों की शिक्षा बाधित ना हो। प्रदेश के कई हिस्सों में संचालित इन मोहल्ला क्लास के जरिए बच्चों की पढ़ाई जारी है, लेकिन जशपुर जिले के बगीचा ब्लाक के गायलूंगा प्रायमरी स्कूल में कुछ और ही चल रहा है, इससे पहले जशपुर जिले से ही फरसाबहार विकासखंड अंतर्गत खुंटेसेरा प्रायमरी स्कूल में इसी तरह का मामला सामने आया था।

मिली जानकारी के मुताबिक मोहल्ला क्लास के नाम पर बच्चों को स्कूल बुलाकर मजदूरी कराई जा रही है। स्कूल में मोहल्ला क्लास के नाम पर बच्चों को बुलाकर बच्चों से स्कूल की सफाई कराई गई। परिसर में पड़े गोबर को उठाने के मासूम छात्रों को मजबूर किया गया। बच्चों का कहना है कि ऐसा वे प्रधानपाठक व शिक्षकों के कहने पर कर रहे हैं। मामले में श्रम विभाग भी कार्रवाई करने पर ध्यान नहीं दे रहा है। गायलूंगा के उपसरपंच शिव कुमार यादव ने बताया कि स्कूल में शिक्षक पहले से लापरवाही करते आ रहे हैं। कई बार समझाइश भी दी गई, परंतु शिक्षकों की मनमानी चरम पर है।

शिकायत मिलने पर बीईओ ने की जांच शुरू

शिकायत मिलने पर मामले को प्रशासन ने गंभीरता से लेते हुए जांच शुरू कर दी है। बीईओ बगीचा स्वयं गायलूंगा पहुंचे और बच्चों सहित स्थानीय लोगों से बातचीत कर उनका बयान लिया। मौके पर उपसरपंच शिव यादव व संकुल प्रभारी जावा राम बंजारे भी उपस्थित थे। सवाल किए जाने पर संकुल प्रभारी ने उल्टा बीईओ को जवाब दिया कि यहां मकान बनवा दे शिक्षकों के साथ वे भी यहां रहेंगे। बीईओ ने बच्चों व संबंधितों का बयान लिया गया।

बड़ी खबर : प्रदेश में यहां मछली पकड़ने गया था युवक… डूबने से हुई मौत… 12 घंटे बाद ऐसे मिली लाश… दोस्त ने ही….

बीजापुर। इंद्रावती नदी पाण्डेमुर्गा घाट में डूबने से युवक की मौत हो गई। मछली पकड़ने दिनेश ओयाम गया था । मौत की खबर के बाद प्रशासन ने शुरू की थी तलाशी। बीजापुर से नगर सेना की टीम ने शव को ढूंढ निकाला है। कोडोली पाण्डेमुर्गा घाट पर आज शव मिला है।

जानकारी के मुताबिक भैरमगढ़ पाण्डेमुर्गा इंद्रावती नदी घाट पर मछली पकड़ने गए दिनेश ओयाम पिता लखमा ओयाम ग्राम-कोडोली निवासी बताया जा रहा है जिसकी नदी में डूबने से हुई है या घटना 22 जनवरी 2021 को हुआ तब से ही नगर सेना की टीम द्वारा रेस्क्यू ऑपरेशन किया जा रहा था।

आज मृतक का पार्थिव शव मिला है। रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान प्रशासन के भैरमगढ़ तहसीलदार जुगल किशोर पटेल,भैरमगढ़ जनपद पंचायत अध्यक्ष दशरथ कुंजाम,विधायक प्रतिनिधि सुखदेव नाग,बांगापाल थाना प्रभारी मौजूद थे।

दोस्त ने युवक के डूबने की जानकारी पुलिस को दी उसके बाद रेस्क्यू कर युवक का शव नदी से बाहर निकाला गया। घटना नेलसनार थाना क्षेत्र की है। कोडोली निवासी दिनेश ओयम अपने दोस्त के साथ पाण्डेयमुर्गा के पास इंद्रावती नदी में मछली पकड़ने गया था।

उसका दोस्त किनारे पर बैठा रहा और दिनेश मछली पकड़ने नदी में उतर गया। मगर जब बहुत देर बाद भी दिनेश बाहर नही आया तो दोस्त ने इसकी सूचना पुलिस को दी।पुलिस रेस्क्यू टीम के साथ मौके पर पहुंची और दिनेश की खोज में जुट गयी। 10 गोताखोर दिनेश को खोजने नदी के उतरे और आज सुबह दिनेश का शव नदी से बाहर निकाला गया।

BIG NEWS : सहायक प्राध्यापक पदों के लिए… इस तिथी पर होगा इंटरव्यु…

रायपुर। छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा उच्च शिक्षा विभाग के अंतर्गत विधि, संस्कृत, माइक्रोबायलाजी, बायोकेमेस्ट्री, वानिकी, बायोटेक्नोलाजी और भूगर्भशास्त्र विषयों के लिए सहायक प्राध्यापक पद हेतु चिन्हांकित 93 अभ्यर्थियों का साक्षात्कार 9 और 10 फरवरी 2021 को आयोजित किया गया है। साक्षात्कार के लिए चिन्हांकित अभ्यर्थियों का दस्तावेज का सत्यापन साक्षात्कार तिथि के एक दिन पूर्व दो पालियों में सवेरे 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक एवं दोपहर 1 बजे से शाम 5 बजे तक किया जाएगा। दस्तावेजों के सत्यापन में अनुपस्थित अभ्यर्थियों को साक्षात्कार में शामिल होने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा सहायक प्राध्यापक विधि, संस्कृत, माइक्रोबायोलॉजी, बायोकेमेस्ट्री, वानिकी, बायोटेक्नोलॉजी, भूगर्भशास्त्र (उच्च शिक्षा विभाग) के कुल 58 विज्ञापित पद हेतु लिखित परीक्षा का आयोजन 05 नवम्बर 2020 से 08 नवम्बर 2020 तक किया गया था। इन पदों का परीक्षा परिणाम 19 जनवरी 2021 को जारी किया गया है। लिखित परीक्षा के प्राप्तांकों व अर्ह अभ्यर्थियों के उपलब्धता के आधार पर कुल 93 अभ्यर्थियों को साक्षात्कार के लिए चिन्हांकित किया गया है।
अभ्यर्थियों को आवश्यक शैक्षणिक अर्हताओं एवं अन्य अर्हताओं का प्रमाण-पत्र ऑनलाइन आवेदन करने हेतु निर्धारित अंतिम तिथि अथवा उसके पूर्व प्राप्त कर लिया होना चाहिए। ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि के बाद की तिथि को जारी की गई शैक्षणिक अर्हताओं एवं अन्य अर्हताओं के प्रमाण पत्र मान्य नहीं होंगे इस संबंध में शैक्षणिक दस्तावेजों, स्थायी जाति, निवास, आय, निःशक्तजन प्रमाण पत्र, पहचान पत्र, अन्य प्रमाण पत्रों के मूल प्रति तथा एक-एक सत्यापित अथवा स्व-प्रमाणित छायाप्रति प्रस्तुत करना होगा। आवश्यक शैक्षणिक अर्हता, अन्य प्रमाण पत्रों की कमी होने पर अभ्यर्थी की उम्मीदवारी समाप्त कर दी जायेगी एवं इस संबंध में कोई भी आवेदन स्वीकार नहीं किया जायेगा।

नोवेल कोराना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण को ध्यान में रखते आयोग कार्यालय परिसर में अभ्यर्थियों के अतिरिक्त अन्य के लिए प्रवेश निषेध है। अभ्यर्थियों को फेसमास्क लगाना एवं हेंड सेनेटाइजर रखना अनिवार्य है। जो अभ्यर्थी फेसमास्क एवं हेड सेनेटाइजर के बिना साक्षात्कार हेतु उपस्थित होगा उन्हें साक्षात्कार में सम्मिलित होने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

वर्दी पर होगी तीसरी नज़र…अब

गुजरात। मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने शुक्रवार को ऐलान किया है राज्य में सब-इंस्पेक्टर और ऊपर की रैंक के पुलिसकर्मियों को वर्दी पर लगाने के लिए बॉडी कैमरा दिए जाएंगे जिसके ज़रिए जनता से उनके व्यव्हार की निगरानी की जाएगी। बकौल रुपाणी ,इसमें न सिर्फ पुलिसकर्मियों का जनता के प्रति व्यव्हार सुधरेगा बल्कि यह उन्हें झूठे आरोपों से भी बचाएगा।

अवैध शराब कारखाने को पकड़ने वाले अधिकारी-कर्मचारी होंगे पुरस्कृत

आबकारी मंत्री कवासी लखमा के निर्देशन एवं आबकारी सचिव सह आयुक्त निरंजन दास के मार्गदर्शन में बेमेतरा जिले में आबकारी विभाग की बड़ी कार्रवाई की गई। प्रबंध संचालक आबकारी ए.पी. त्रिपाठी और रायपुर कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन के मार्गदर्शन पर 20 जनवरी को आबकारी विभाग द्वारा रायपुर रोड स्थित सांकरा (भूमिया) थाना तिल्दा में रोड चेकिंग के दौरान बिलासपुर से आ रही स्वीफ्ट डिजायर कार सीजी 12 एएन 9211 को रोककर पूछताछ की गई। जांच के दौरान कार से 50 पेटी गोवा व्हिस्की मध्यप्रदेश राज्य में विक्रय हेतु निर्मित 450 बल्क लीटर बरामद की गई। इस कार्रवाई के दौरान आरोपी अविभाष सिंह के विरूद्ध आबकारी अधिनियम की धारा 34(2) एवं 36 के तहत प्रकरण दर्ज की गई। प्रकरण विवेचना के दौरान आरोपी अविभाष सिंह से कड़ी पूछताछ करने पर आरोपी द्वारा बेमेतरा जिले के नवागढ़ थाना अंतर्गत ग्राम जेवरा के जाट फार्म हाउस में अवैध मदिरा निर्माण का कारखाना संचालित होने की जानकारी दी।
प्रकरण की विवेचना अधिकारी नीलम किरण सिंह आबकारी उप निरीक्षक द्वारा राज्य स्तरीय उड़न दस्ता को इसकी जानकारी दी गई। जिस पर डी.डी. पटेल आबकारी उप निरीक्षक राज्य स्तरीय उड़न दस्ता के नेतृत्व में जिला रायपुर की टीम तत्काल बेमेतरा रवाना होकर आरोपी द्वारा बताए गए स्थल की जांच की गई। जांच टीम द्वारा उक्त स्थल पर एक अवैध मदिरा निर्माण का कारखाना संचालित था
जहां पर मदिरा निर्माण के लिए 4 ड्रम स्प्रिट (760 लीटर ओ.पी.) और मध्यप्रदेश राज्य में विक्रय के लिए लेबल लगी 70 पेटी गोवा व्हीस्की के साथ परिवहन में उपयोग किए जा रहे वाहन एक मिनी ट्रक माजदा को जप्त किया गया। अवैध रूप से संचालित इस कारखाने की जांच के दौरान आरोपी अनिल वर्मा और कुलेश्वर वैष्णव के विरूद्ध आबकारी अधिनियम की धारा 34(1)(क), 34(2) एवं 59(क) के तहत प्रकरण दर्ज कर आरोपियों को जेल भेजकर प्रकरण विवेचना में लिया गया।

जांच टीम द्वारा अवैध मदिरा निर्माण परिवहन एवं विक्रय की उक्त घटना के विरूद्ध कायम किए गए प्रकरण में शामिल अन्य लोगों की पतासाजी की जा रही है। विवेचना उपरांत प्रकरण में शामिल सभी आरोपियों के विरूद्ध भी सह-अपराधी होने का आपराधिक प्रकरण दर्ज कर विधिवत कार्यवाही की जाएगी।

आबकारी आयुक्त द्वारा प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए घटना स्थल क्षेत्र के प्रभारी अधिकारी उप निरीक्षक जलेश कुमार सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर उनका मुख्यालय आबकारी आयुक्त कार्यालय रायपुर नियुक्त किया गया है। जांच टीम की इस कार्रवाई में 17 लाख रूपए मूल्य की जप्त मदिरा और 15 लाख रूपए की कीमत की 2 नग चार पहिया वाहन बरामद की गई। आबकारी विभाग द्वारा नवागढ़ में संचालित अवैध फैक्ट्री एवं जमीन को राजसात करने की योजना बनाई जा रही है।

प्रकरण में त्वरित कार्रवाई करने के लिए आबकारी उप निरीक्षक नीलम किरण सिंह, पंकज कुजूर, अनिल मित्तल, डी.डी. पटेल तथा आबकारी मुख्य आरक्षक विक्रम सिंह, लखन लाल ओसले, संतोष दुबे सहित आबकारी आरक्षक विजय वर्मा को प्रशस्ति पत्र देकर पुरस्कृत किया जाएगा।

परिचालन समय एवं क्रू स्टाफ की होगी बचत… अब पांच मालगाड़ियों को जोड़कर… देश की सबसे लंबी 3.5 किलोमीटर फ्रेट ट्रेन “वासुकी” का होगा परिचालन…

रायपुर। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे द्वारा भारतीय रेलवे के इतिहास में पहली बार आज रायपुर मंडल के भिलाई डी केबिन से बिलासपुर मण्डल के कोरबा तक 5 मालगाडियों को एक साथ जोड़कर चलाया गया । इस मालगाड़ी की कुल लंबाई 3.5 किलोमीटर के लगभग है, इस ट्रेन का नाम वासुकी दिया गया है । फ्रेट ट्रेनों के परिचालन समय को कम करने, क्रू-स्टाफ की बचत एवं उपभोक्ताओं को त्वरित डिलीवरी प्रदान करने हेतु लगातार लॉन्ग हाल मालगाडियों का परिचालन किया जा रहा है । नये कीर्तिमान स्थापित करते हुए दिनांक 29 जून 2020 को तीन लोडेड मालगाड़ियों को एक साथ जोड़कर लॉन्ग हॉल सुपर एनाकोंडा गाडी का परिचालन किया गया था ।


इसी कडी को आगे बढाते हुये रायपुर रेल मंडल के भिलाई डी केबिन से कोरबा तक पांच लॉन्ग हाल रैक (वासुकी) का परिचालन किया गया । इस मालगाड़ी में 300 वैगनो को जोड़कर इस लॉन्ग हाल रैक को चलाई गई । इस लॉन्ग हाल मालगाड़ी ने भिलाई दी केबिन से कोरबा स्टेशन तक का सफर 07 घंटे से भी कम समय में तय किया । इस प्रक्रिया में केवल 01 लोको पायलट, 01 सहायक लोको पायलट एवं 01 गार्ड की आवश्यकता पडी ।
सिंगल-सिंगल 05 रैक चलाने से 05 लोको पायलट, 05 सहायक लोको पायलट एवं 05 गार्ड की आवश्यकता होती। सुपर शेष नाग में 01 लोको पायलट, 01 सहायक लोको पायलट व 01 गार्ड द्वारा इस कार्य को अंजाम दिया जा रहा है । फोर्थ लॉन्ग हॉल रैक के परिचालन से क्रू-स्टाफ की बचत, रेलवे ट्रैक का सही इस्तेमाल तथा उपभोक्ताओं को त्वरित डिलीवरी प्राप्त होगी। इसप्रकार यह सराहनीय पहल प्रत्येक दृष्टिकोण से लाभकारी सिद्ध होगा ।

BIG NEWS : पर्यावरण को लेकर राज्य सरकार सख्त… प्रदूषण फैलाने वाले 25 उद्योगों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उत्पादन बंद…

रायपुर। पर्यावरण को लेकर राज्य सरकार सख्त हो गई है। प्रदूषण फैलाने वाले 25 उद्योगों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उत्पादन बंद करने व बिजली काटने के निर्देश दिए हैं। वहीं 42 उद्योगों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। बंद होने वाले उद्योगों में राइस मिल, रोलिंग मिल, क्रशर और स्लैग क्रशर शामिल हैं।

पर्यावरण संरक्षण मण्डल के रायपुर क्षेत्रीय कार्यालय प्रदूषण के स्तर को मानकों के अनुरूप रखने के लिए कार्रवाई कर रही है। इस कड़ी में रेस्पिरेबल डस्ट सेम्पलर के माध्यम से नेशनल एम्बियंट एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग प्रोग्राम के अंतर्गत परिवेशीय वायु की क्वालिटी जांचने के लिये रायपुर के औद्योगिक इलाकों के अलावा रिहायशी इलाकों में लगातार मॉनिटरिंग की जा रही है।

इसमें वूलवर्थ इंडिया लिमिटेड सरोरा, उरला, छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मण्डल कॉलोनी कबीर नगर और सीएसआईडीसी भवन औद्योगिक क्षेत्र सिलतरा में पीएम 10 के अलावा कलेक्टोरेट रायपुर में पीएम 10 और पीएम 2.5 की मॉनिटरिंग की जा रही है।

प्रदूषण का वार्षिक औसत के परिणाम देखे जाये तो पूर्व वर्ष की अपेक्षा वर्ष 2020 के परिणाम में गिरावट दर्ज की गई है। वहीं पर्यावरण मंत्रालय द्वारा जारी मानक सीमा के भीतर संतोषप्रद की स्थिति में है।

इन आंकड़ों से स्पष्ट है कि रायपुर शहर में परिवेशीय वायु की गुणवत्ता में पूर्व की तुलना में सुधार हुआ है। रायपुर में सभी वायु प्रदूषणकारी प्रकृति के संचालित उद्योगों द्वारा वायु प्रदूषण नियंत्रण व्यवस्था यथा ईएसपी, बैग फिल्टर, सायक्लोन, स्क्रबर, डस्ट सेप्रेशन सिस्टम, जल छिड़काव की व्यवस्था की गई है।

रायपुर में चिमनी उत्सर्जन पर 24़7 निगरानी रखने के लिये 17 प्रकार के वायु प्रदूषणकारी प्रकृति के उद्योगों में आॅनलाइन इमीशन मॉनिटरिंग सिस्टम की स्थापना कराई गई है।

अपनी बारात आने से पहले… डीएम से लगाई सड़क बनवाने की गुहार… फिर…

यूपी के अलीगढ़ के जिलाधिकारी कार्यालय में एक युवती अपनी शादी के लिए गांव की सड़क बनवाने की मांग को लेकर पहुंची. युवती ने डीएम को बताया कि उसकी जल्दी ही शादी होने वाली है और गांव की सड़क काफी खराब है, बारात को आने में दिक्कत होगी. जिसके बाद डीएम ने तत्काल संबंधित अधिकारी को शादी से पूर्व ही सड़क बनाने के निर्देश दे दिए. जिसके बाद युवती खुशी-खुशी चली गई.

दरअसल, इगलास तहसील के गांव हस्तपुर की एक युवती करिश्मा आज डीएम के सामने एक मांग लेकर पहुंची. बीएड पास युवती का कहना था कि उसके गांव की जो सड़क है वह बहुत खराब हो रही है जिससे शादी में काफी समस्या आ रही है, क्योंकि उसकी बरात आने वाली है. इसलिए वह डीएम कार्यालय पर सड़क बनवाने की मांग को लेकर आई है. करिश्मा का कहना था कि सड़क में काफी कीचड़ भरा हुआ है और गड्ढे हैं. जिसकी वजह से निकलने में काफी दिक्कत होती है.

27 फरवरी को है करिश्मा की शादी

अलीगढ़ के डीएम चंद्र भूषण सिंह ने बताया कि करिश्मा आई हमारे पास, इसकी एप्लीकेशन में लिखा है कि उसकी शादी 27 फरवरी को है और गांव की सड़क खराब है. इसकी वजह से इसकी बरात जो आएगी उसमें काफी कठिनाई होगी. इसलिए इसके प्रार्थना पत्र का संज्ञान लेते हुए तुरंत संबंधित अधिकारी को बुलाया है कि गांव में जाएं और तत्काल सड़क बनाने का काम मनरेगा के माध्यम से या किसी भी योजना के माध्यम से शुरू कर दें और शादी से पहले पूरी सड़क बना दें.

डीएम ने बताया कि मिशन शक्ति का जो अभियान चल रहा है इसमें लड़की खुद अपने गांव के लिए सड़क की बात को लेकर आई है. ये महिलाओं की जागरूकता को दिखाती है. जो अभियान है मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का उसका ये सीधा और सटीक उदाहरण है कि लड़कियां खुद जागरूक हो रही हैं और इस दिशा में आगे बढ़ रही हैं.